मुख्य समाचार:

सरकार आगे और भी बैंकों का करेगी विलय! वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने दिए संकेत

पिछले साल सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों का विलय कुल चार बैंकों में करने की घोषणा की थी.

February 9, 2020 8:09 PM
Government open to further consolidation of banks depending on need: Anurag ThakurImage: PTI

सरकार जरूरत के हिसाब से और बैंकों के एकीकरण को भी तैयार है. वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने रविवार को यह बात कही. पिछले साल सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों का विलय कुल चार बैंकों में करने की घोषणा की थी. इस प्रक्रिया से अप्रैल से छह वैश्विक आकार के बैंक अस्तित्व में आएंगे और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की संख्या घटकर 12 रह जाएगी, जो 2017 में 27 थी.

ठाकुर ने कहा, ‘‘हमने सफलता से बैंकों का विलय और पुन:पूंजीकरण किया है. दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) सफल रही है. इसके जरिए बैंकों को चार लाख करोड़ रुपये वापस मिले हैं. जरूरत के मुताबिक आगे और एकीकरण या विलय किया जाएगा.’’

5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी लक्ष्य को पाने में मिलेगी मदद

उन्होंने कहा कि एकीकरण के जरिए वैश्विक आकार के बैंक अस्तित्व में आने से नरेंद्र मोदी सरकार के 2024-25 तक 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी. ठाकुर ने कहा कि बड़े बैंकों की पहुंच अधिक व्यापक होगी. उनकी ऋण देने की क्षमता बेहतर होगी और बढ़िया उत्पादों और प्रौद्योगिकी के जरिए वे ग्राहकों को सेवाएं दे सकेंगे.

10 बैंकों का विलय

सरकार ने पिछले अगस्त में यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स का विलय पंजाब नेशनल बैंक में करने की घोषणा की थी. विलय के बाद बनने वाला बैंक सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक होगा. इसके अलावा सिंडिकेट बैंक का केनरा बैंक और इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय करने की घोषणा की गई थी. इसी क्रम में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में विलय किया जाना है. अप्रैल 2019 में बैंक ऑफ बड़ौदा ने विजया बैंक और देना बैंक का खुद में विलय किया था.

PNB, UBI और OBC के विलय के बाद बनने वाले बैंक का होगा नया नाम, लोगो भी जारी करेगी सरकार

बजट में हर वर्ग का रखा गया ख्याल

जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की सूचीबद्धता के बारे में पूछे जाने पर ठाकुर ने कहा कि इससे इसमें अधिक पारदर्शिता आएगी और सार्वजनिक भागीदारी बढ़ेगी और शेयर बाजार की गहराई बढ़ेगी. ठाकुर ने इस साल के बजट को ‘जन जन का बजट’ करार देते हुए कहा कि इसमें समाज के सभी वर्गों का ख्याल रखा गया है. बजट में युवाओं, महिलाओं, किसानों, निवेशकों और मध्यम वर्ग के मद्देनजर बड़े सुधार वाले कदम उठाए गए हैं.

उन्होंने कहा कि सरकार ने कृषि, कृषक कल्याण और ग्रामीण विकास के लिए 2.83 लाख करोड़ रुपये उपलब्ध कराए हैं. वित्त राज्यमंत्री ने कहा कि हमारा अगले दो साल का एजेंडा किसानों की आय दोगुना करने का है. हमने पहले किसानों को उनकी उत्पादन लागत का डेढ़ गुना देने की प्रतिबद्धता को पूरा किया है.

MSME के लिए ऋण पुनर्गठन सुविधा बढ़ाने की अपील

सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) क्षेत्र को मदद के बारे में उन्होंने कहा कि सरकार ने रिजर्व बैंक से ऋण पुनर्गठन सुविधा को एक साल के लिए और बढ़ाकर 31 मार्च, 2021 तक करने पर विचार को कहा है. पिछले साल रिजर्व बैंक ने एमएसएमई को ऋण पुनर्गठन की मंजूरी दी थी, जिससे पांच साल से अधिक एमएसएमई को लाभ हुआ था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. सरकार आगे और भी बैंकों का करेगी विलय! वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने दिए संकेत

Go to Top