मुख्य समाचार:

प्रधानमंत्री कन्या आयुष योजना: हर बच्ची को 2000 रु वाली स्कीम की जानें हकीकत

केन्द्र सरकार की स्कीम के नाम पर एक नई फर्जी स्कीम चर्चा में है.

Updated: Sep 06, 2020 7:03 PM
government is not providing 2000 rupee to every girl child, Pradhan Mantri Kanya Ayush Yojana is fake, beware of fake Pradhan Mantri Kanya Ayush Yojanaफर्जी दावे से बचें.

केन्द्र सरकार की स्कीम के नाम पर एक नई फर्जी स्कीम चर्चा में है. इसका नाम प्रधानमंत्री कन्या आयुष योजना है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि इस स्कीम के तहत हर बच्ची को रुपये मिलने वाले हैं. लेकिन यह सच नहीं है. पीआईबी फैक्ट चेक (PIB Fact Check) ने इस तरह की फेक स्कीमों के झांसे में न आने की चेतावनी दी है. पीआईबी फैक्ट चेक ने खुलासा किया है कि प्रधानमंत्री कन्या आयुष योजना के नाम पर दावा किया जा रहा है कि केन्द्र सरकार हर बच्ची को 2000 रुपये उपलब्ध करा रही है. लेकिन हकीकत में केन्द्र ने इस तरह की कोई स्कीम नहीं चला रखी है. इसलिए इस फर्जी दावे से बचें.

इससे पहले फर्जी दावा सामने आया था कि बिजली बिल माफी योजना 2020 के तहत 1 सितंबर से पूरे देश मे सबका बिजली बिल माफ होने जा रहा है. एक फेक न्यूज यह भी सामने आई कि केन्द्र सरकार हर कोविड19 मरीज के लिए हर नगर पालिका को 1.5 लाख रुपये उपलब्ध करा रही है. यह मैसेज वॉट्सऐप पर वायरल हुआ था.

RRB: रेलवे में इन पदों पर 1.40 लाख भर्तियां, 15 दिसंबर से शुरू होंगी परीक्षाएं

PIB Fact Check

PIB Fact Check केन्द्र सरकार की पॉलिसी/स्कीम्स/विभाग/मंत्रालयों को लेकर गलत सूचना को फैलने से रोकने के लिए काम करता है. सरकार से जुड़ी कोई खबर सच है या झूठ, यह जानने के लिए PIB Fact Check की मदद ली जा सकती है. कोई भी PIB Fact Check को संदेहात्मक खबर का स्क्रीनशॉट, ट्वीट, फेसबुक पोस्ट या URL वॉट्सऐप नंबर 918799711259 पर भेज सकता है या फिर pibfactcheck@gmail.com पर मेल कर सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. प्रधानमंत्री कन्या आयुष योजना: हर बच्ची को 2000 रु वाली स्कीम की जानें हकीकत
Tags:PIB

Go to Top