मुख्य समाचार:

राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 128.5% पर पहुंचा, जनवरी आखिर में रहा 9.85 लाख करोड़

देश का राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) जनवरी अंत में पूरे साल के लिये तय अनुमान के 128.5 फीसदी तक पहुंच गया.

February 28, 2020 8:09 PM
fiscal deficit 128.5 percent of budget estimate at january endदेश का राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) जनवरी अंत में पूरे साल के लिये तय अनुमान के 128.5 फीसदी तक पहुंच गया.

देश का राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) जनवरी अंत में पूरे साल के लिये तय अनुमान के 128.5 फीसदी तक पहुंच गया. लेखा महानियंत्रक (CGA) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है. पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में घाटा संशोधित बजटीय अनुमान का 121.5 फीसदी रहा था. राजकोषीय घाटा सरकार के कुल व्यय और प्राप्ति के बीच अंतर को दर्शाता है. वास्तविक रूप से यह घाटा 9,85,472 करोड़ रुपये रहा.

बजट में राजकोषीय घाटे का अनुमान 3.8 फीसदी किया गया था

सरकार ने 31 मार्च 2020 को खत्म वित्त वर्ष के दौरान राजकोषीय घाटा 7,66,846 करोड़ रुपये रहने का बजट अनुमान रखा है. इस महीने संसद में पेश बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण ने चालू वित्त वर्ष के लिये राजकोषीय घाटे के अनुमान को 3.3 फीसदी से बढ़ाकर 3.8 फीसदी कर दिया. इसका कारण राजस्व संग्रह में कमी बताया गया है.

Q3 GDP: दिसंबर तिमाही में ग्रोथ रेट 4.7% रही, 6 तिमाही के बाद रूकी गिरावट

लेखा महानियंत्रक (CGA) के मासिक लेखा आंकड़े के मुताबिक राजस्व प्राप्ति अप्रैल-जनवरी में 12.5 लाख करोड़ रुपये रही. यह चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान का 67.6 फीसदी है. एक साल पहले इसी अवधि में यह संशोधित अनुमान का 68.3 फीसदी रहा था. इसी अवधि में कुल प्राप्ति संशोधित अनुमान का 66.4 फीसदी रही जो एक साल पहले इसी अवधि में 67.5 फीसदी थी.

CGA के मुताबिक वहीं जनवरी अंत तक कुल व्यय 22.68 लाख करोड़ रुपये रहा जो संशोधित अनुमान का 84.1 फीसदी है. एक साल पहले इसी अवधि में यह 81.5 फीसदी था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 128.5% पर पहुंचा, जनवरी आखिर में रहा 9.85 लाख करोड़

Go to Top