मुख्य समाचार:

वाराणसी को मिल सकती है इंजनलेस ट्रेन ‘Train 18’ की सौगात, दिसंबर तक पूरा हो जाएगा ट्रायल

Train 18 के लिए कई रूट्स पर विचार चल रहा है. इनमें दिल्ली-भोपाल, लखनऊ-वाराणसी, पटना-वाराणसी रूट भी शामिल हैं.

November 26, 2018 5:57 PM
first engine less Train, Train 18, t18, may run on varanasi route, delhi-bhopal route160 kmph की स्पीड वाली ट्रेन 18, शताब्दी एक्सप्रेस की जगह लेगी.

भारत की पहली इंजन रहित ट्रेन, Train 18 शुरुआत में वाराणसी रूट पर चल सकती है. मामले से जुड़े दो सूत्रों ने Financial Express Online को बताया कि Train 18 के लिए कई रूट्स पर विचार चल रहा है. इनमें दिल्ली-भोपाल, लखनऊ-वाराणसी, पटना-वाराणसी रूट भी शामिल हैं.  160 kmph की स्पीड वाली Train 18, शताब्दी एक्सप्रेस की जगह लेगी. इससे पहले इंडियन रेलवे ने संकेत दिया था कि Train 18 दिल्ली-भोपाल रूट पर शताब्दी की जगह लेगी. हालांकि रेल मंत्रालय ने अभी तक Train 18 के लिए कोई रूट फाइनल नहीं किया है.

दूसरी रैक पर शुरू हुआ काम, फरवरी तक हो जाएगी तैयार

Train 18 को बनाने वाली चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (ICF) ने Train 18 की सेकंड रैक पर काम करना शुरू कर दिया है. ICF ने Financial Express Online को बताया कि Train 18 की दूसरी रैक फरवरी 2019 तक तैयार हो जानी चाहिए. यह भी उम्मीद है कि दो रैकों के ​साथ Train 18 दिल्ली-भोपाल और वाराणसी रूट दोनों पर चलाई जाए.

मध्य दिसंबर तक खत्म हो जाएंगे ट्रायल

ट्रेन 18 के ट्रायल जारी हैं. Train 18 को दिल्ली-मुंबई राजधानी रूट के कुछ हिस्सों पर लगभग 180 kmph स्पीड पर भी टैस्ट किया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक, ये ट्रायल 15 से 20 ​दिसंबर तक पूरे हो जाने का अनुमान है. इसके बाद रिपोर्ट सौंपी जाएगी. यानी जनवरी 2019 से Train 18 के आॅपरेशनल हो जाने की उम्मीद है.

Train 18: जनवरी से दौड़ेगी देश की पहली इंजन-लेस ट्रेन

Train 18 की खासियत

– Train 18 या T18 पूरी तरह वातानुकूलित (AC) होगी. इसमें 16 चेयरकार कोच होंगे, जिनमें 2 कोच एग्जीक्यिूटिव क्लास और 14 नॉन-एग्जीक्यूटिव क्लास होंगे. एग्जीक्यूटिव कोच में 56 यात्री बैठ सकेंगे और नॉन एग्जीक्यूटिव कोच में 78 लोगों के बैठने की सुविधा होगी.

– पूरी ट्रेन में CCTV कैमरे लगाए गए हैं. ICF के मुताबिक T18 की एक रैक को बनाने में करीब 100 करोड़ रुपये का खर्च आ रहा है लेकिन मास प्रोडक्शन होने के बाद खर्च में कमी आएगी.

– यह इंटर-सिटी यात्रा के लिए भारतीय रेलवे की पहली इंजन-लेस ट्रेन होगी.  T18 और T20 जैसी ट्रेन पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु की ‘मिशन रफ्तार’ योजना का हिस्सा हैं. इस योजना को प्रभु ने रेल बजट 2016 में पेश किया था.

– T18 को महज 18 महीनों में तैयार किया गया है,  Train 18 को सफेद और गहरे नीले रंग से रंगा गया है. हर कोच पर डेस्टिनेशन बताने के लिए डिजिटल डिस्प्ले बोर्ड होंगे.

Train 18 Exclusive Photos

– Train 18 में यूरोपियन स्टाइल की आरामदायक सीट लगाई गई हैं. Train 18 की एग्जीक्यूटिव चेयरकार सीटों में सुनहरे रंग के कपड़े और गुलाबी/बैंगनी हेडरेस्ट शामिल हैं. ICF के अधिकारियों का दावा है कि सीट के कपड़े दाग और आग प्रतिरोधी हैं.

-Train 18 के एग्जीक्यूटिव कार कोच में सीटों को घुमाया जा सकता है और आप आमने-सामने बैठ सकते हैं. ग्रुप में यात्रा करने वालों के लिए यह बेहतर है.

– T18 में फ्री वाई-फाई और इंफोटेनमेंट सुविधा दी जाएगी. इसके अलावा ट्रेन में GPS आधारित यात्री सूचना प्रणाली भी होगी.

– हर कोच के लिए एंट्री/एग्जिट दरवाजे ऑटोमेटिक हैं जो ऑप्टिकल सेंसर द्वारा चलते हैं. कोच के हर छोर पर दो GPS आधारित सूचना स्क्रीन हैं, जो आने वाले स्टेशनों, ट्रेन की स्पीड आदि पर अपडेट देंगे.

– ट्रेन 18 में मॉड्यूलर बायो-वैक्यूम टॉयलेट होंगे. साथ ही लगेज यानी सामान की रैक ग्लास बॉटम की होंगी.

(रिपोर्ट: स्मृति जैन)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. वाराणसी को मिल सकती है इंजनलेस ट्रेन ‘Train 18’ की सौगात, दिसंबर तक पूरा हो जाएगा ट्रायल

Go to Top