मुख्य समाचार:

मोदी सरकार का बड़ा फैसला: बैंकों के मेगा मर्जर के बाद देश में रह जाएंगे सिर्फ 12 सरकारी बैंक

वित्त मंत्री निर्मला सीतरणम ने कहा कि सरकारी बैंकों में बड़े सुधार की जरूरत है.

August 30, 2019 7:33 PM
Finance Minister Nirmala Sitharaman, banking sector performance, and banking sector reform, PSU bank, 5 trillion dollar economy, NBFC, HFC, Ministry of finance, bank mergerवित्त मंत्री निर्मला सीतरणम ने कहा कि सरकारी बैंकों में बड़े सुधार की जरूरत है.

बैंकिंग रिफॉर्म की तरफ बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने शुक्रवार को ताबड़तोड़ कई सरकारी बैंकों के मर्जर का एलान किया. सार्वजनिक क्षेत्र के 10 बैंकों का विलय कर 4 बड़े बैंक बनाने का फैसला किया गया है. इन विलय के बाद सरकारी बैंकों की संख्या घटकर 12 रह जाएगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के साथ ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) और यूनाइटेड बैंक (UBI) का मर्जर होगा. इस मर्जर के बाद पीएनबी देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन जाएगा. तीनों बैंकों के विलय के बाद पीएनबी की देशभर में 11437 शाखाएं हो जाएंगी.

वित्त मंत्री ने कहा कि 2017 में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की संख्या 27 थी लेकिन इस विलय के बाद सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की संख्या घटकर केवल 12 रह जाएगी. वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि बैंकों को पर्याप्त पूंजी उपलब्ध कराई जाएगी. पिछले सप्ताह उन्होंने चालू वित्त वर्ष के लिये पीएसयू बैंकों को 70,000 करोड़ रुपये की पूंजी देने की घोषणा की थी.

इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक, बैंक आफ महाराष्ट्र और पंजाब एंड सिंध बैंक पहले की तरह तरह काम करते रहेंगे. इन बैंकों की अपनी क्षेत्रीय स्थिति मजबूत है. इससे पहले, वित्त मंत्री ने कहा कि देश 5 लाख करोड़ डॉलर इकोनॉमी बनने की ओर बढ़ रहा है. सरकार ग्रोथ को रफ्तार देने की दिशा में तेेजी से कदम उठा रही है. सरकारी बैंकों में बड़े सुधार की जरूरत है.

PNB होगा देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक 

  • वित्त मंत्री ने कहा कि पीएनबी में ओबीसी और यूबीआई का मर्जर होने के बाद वह देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक हो जाएगा. इसका कुल बिजनेस 17.95 लाख करोड़ रुपये हो जाएगा.
  • केनरा बैंक का सिंडिकेट बैंक के साथ मर्जर होगा. केनरा बैंक देश का चौथा सबसे बड़ा बैंक हो जाएगा. इसक कुल बिजनेस 15.20 लाख करोड़ रुपये होगा.
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का मर्जर होगा. मर्जर के बाद यूनियन बैंक 14.59 लाख करोड़ रुपये के बिजनेस के साथ  देश का पांचवा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा.
  • इंडियन बैंक का इलाहाबाद बैंक में मर्जर होगा. मर्जर के बाद इंडियन बैंक 8.08 लाख करोड़ रुपये के बिजनेस के साथ देश का सातवां सबसे बड़ा बैंक बनेगा.

बैंकों में नहीं होगी कोई छंटनी

फाइनेंशिलय सर्विसेज सेक्रेटरी राजीव कुमार ने कहा कि पूर्व में एसबीआई समेत जो भी विलय हुए, उसके कारण कोई छंटनी नहीं हुई और सर्विसेज की स्थिति पहले से बेहतर हुई है. उन्होंने कहा, ‘‘इस विलय से कर्मचारियों को लाभ होगा.’’ बता दें, इस साल देना बैंक और विजया बैंक का बैंक आफ बड़ौदा में विलय किया गया. इससे भी पहले, सरकार ने भारतीय स्टेट बैंक में उसके पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय किया.

किस बैंक में कितनी पूंजी डालेगी सरकार

इंडियन बैंक: 2500 करोड़ रुपये
केनरा बैंक: 6500 करोड़ रुपये
बैंक आफ बड़ौदा: 7000 करोड़ रुपये
यूनाइटेड बैंक आफ इंडिया: 1600 करोड़ रुपये
बैंक आफ इंडिया: 11700 करोड़ रुपये
पीएनबी: 16000 करोड़ रुपये
ओवरसीज बैंक: 3800 करोड़ रुपये
यूको बैंक: 2100 करोड़ रुपये

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. मोदी सरकार का बड़ा फैसला: बैंकों के मेगा मर्जर के बाद देश में रह जाएंगे सिर्फ 12 सरकारी बैंक

Go to Top