सर्वाधिक पढ़ी गईं

Farmers Protest: किसानों को मिली राजधानी में एंट्री की इजाजत, निरंकारी समागम ग्राउंड में कर सकेंगे ​विरोध प्रदर्शन

नए कृषि कानूनों के विरोध में लगातार प्रदर्शन कर रहे किसान पीछे हटने को राजी नहीं हैं.

Updated: Nov 27, 2020 3:09 PM
Farmers delhi chalo protest, Farmers Protest, haryana- delhi border, karnal, singhu border, punjab, farm laws, ambala, rohtakकिसानों को रोकने के​ लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया गया है.

किसान नेताओं से बातचीत के बाद दिल्ली पुलिस ने किसानों को राजधानी में प्रवेश करने की इजाजत दे दी है. किसान बुराड़ी के निरंकारी समागम मैदान में शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन कर सकेंगे. दिल्ली पुलिस में पीआरओ ईश सिंघल का कहना है कि हमने किसानों से अपील की है कि वे शांति बरकरार रखें ताकि दूसरों को असुविधा न हो.

बता दें कि देश के करीब 500 अलग-अलग संगठनों ने मिलकर संयुक्त किसान मोर्चे का गठन किया है, जिसके नेतृत्व में पंजाब और हरियाणा के किसान 26 और 27 नवंबर को दिल्ली कूच कर रहे हैं. ‘ऑल-इंडिया किसान संघर्ष कोऑर्डिनेशन कमेटी’, राष्ट्रीय किसान महासंघ और भारतीय किसान यूनियन के विभिन्न तबकों ने केन्द्र पर हाल के तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का दबाव बनाने के लिए ‘दिल्ली चलो’ का आह्वान किया है.

नए कृषि कानूनों के विरोध में लगातार प्रदर्शन कर रहे किसान पीछे हटने को राजी नहीं हैं. सिंघू बॉर्डर (हरियाणा-दिल्ली बॉर्डर) पर प्रदर्शनकारी किसान जमा हैं और दिल्ली की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं. उन्हें रोकने के लिए सिंघू बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बल तैनात है. किसानों को रोकने के​ लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया गया है.

पंजाब के सीएम ने कदम का किया स्वागत

किसानों को दिल्ली में घुसने की इजाजत दिए जाने पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा है कि अब केन्द्र को कृषि कानूनों पर किसानों की चिंता दूर करने और उनके मुद्दो को सुलझाने के लिए तुरंत बातचीत शुरू कर देनी चाहिए.

टिकरी बॉर्डर पर हुई झड़प

दिल्ली-बहादुरगढ़ हाइवे के निकट टिकरी बॉर्डर पर किसानों को दिल्ली में घुसने से रोकने के लिए बैरीकेड के तौर पर लगाए गए एक ट्रक को किसानों ने ट्रैक्टर से हटा दिया. टिकरी बॉर्डर पर भी सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारी किसानों को तितर-बितर करने के​ लिए वॉटर कैनन और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया. यहां तक कि सुरक्षा बलों और किसानों में झड़प भी हुई है.यूपी के मथुरा में भी यमुना एक्सप्रेसवे पर ट्रैफिक जाम है. वहां पर भी किसानों ने सड़क को ब्लॉक कर रखा है. मौके पर पुलिसकर्मी भी तैनात हैं.

सिरसा में बैरिकेड फांदे

हरियाणा व पंजाब के बीच अंबाला के निकट शंभू बॉर्डर पर भी शुक्रवार को पंजाब के किसान जमा हैं. बता दें कि हरियाणा ने पंजाब से लगी अपनी सीमाएं दो दिन के लिए सील कर रखी हैं. शंभू बॉर्डर पर सिक्योरिटी, बैरियर, वॉटर कैनन व्हीकल सभी लगे हैं. वहीं सिरसा में प्रदर्शनकारी किसानों ने बैरिकेड फांदे हैं. ​किसानों का कहना है कि वे दिल्ली अपने अधिकारों के लिए जा रहे हैं. एक किसान के मुताबिक, हम शांतिपूर्वक जा रहे हैं और किसी व्यक्ति या प्रॉपर्टी को नुकसान नहीं पहुंचाने वाले. अगर हमें एक एक माह तक रुकना पड़े तो हम रुकेंगे.

किसान आंदोलन: सरकार के नए कृषि कानूनों का क्यों हो रहा है विरोध

दिल्ली पुलिस ने मांगी 9 स्टेडियम अस्थायी जेल बनाने की इजाजत

वहीं दिल्ली पुलिस ने किसान आंदोलन को देखते हुए दिल्ली सरकार से 9 स्टेडियमों को अस्थायी जेल में तब्दील करने की अनुमति मांगी. हालांकि दिल्ली सरकार ने इसे नामंजूर कर दिया है. दूसरी ओर चेकिंग के चलते आज भी दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर ट्रैफिक जाम है. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने कहा है कि सिंघू बॉर्डर की ओर वाहनों को जाने की इजाजत नहीं है. इंटरस्टेट व्हीकल्स वेस्टर्न/ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे ले सकते हैं. अन्य राज्यों से दिल्ली आ रहे लोग रोड ब्लॉक होने के कारण दिल्ली-पानीपत हाइवे पर फंसे हुए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Farmers Protest: किसानों को मिली राजधानी में एंट्री की इजाजत, निरंकारी समागम ग्राउंड में कर सकेंगे ​विरोध प्रदर्शन

Go to Top