सर्वाधिक पढ़ी गईं
  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Farm Bill Live Updates: विपक्ष ने कहा- चुनाव में हार के डर से तीनों कृषि कानून हुए रद्द, कांग्रेस ने मोदी सरकार से पूछे पांच सवाल

Farm Bill Live Updates: विपक्ष ने कहा- चुनाव में हार के डर से तीनों कृषि कानून हुए रद्द, कांग्रेस ने मोदी सरकार से पूछे पांच सवाल

Farm Bill Live Updates: करीब एक साल तक किसानों ने तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ सड़कों पर आंदोलन किया और आज गुरुनानक जयंती पर पीएम मोदी ने इसे रद्द करने का ऐलान किया है.

By: | Updated: November 19, 2021 6:57:42 pm
farm bill live updates pm modi announces three farm bill repeal bku farmer leader rakesh tikait opposition comments rahul gandhi asaduddin Owaisi captain amrindar singhकिसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक संसद तीनों कृषि कानूनों को रद्द नहीं कर देती है, किसानों का आंदोलन जारी रहेगा. (File Photo- Reuters)

Farm Bill Live Updates: करीब एक साल तक किसानों ने तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ सड़कों पर आंदोलन किया और आज गुरुनानक जयंती पर पीएम मोदी ने इसे रद्द करने का ऐलान कर दिया है. पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम पर संबोधन में कहा कि इस महीने के अंत में संसद सत्र के दौरान इसकी संवैधानिक प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों का आंदोलन जारी रहेगा, जब तक संसद से इसे रद्द करने की मंजूरी नहीं मिल जाती है. वहीं पीएम मोदी के इस ऐलान पर विपक्षी पार्टियों की टिप्पणियां भी आई हैं.

प्रदर्शनकारियों के आगे झुकी केंद्र सरकार, पीएम मोदी ने तीनों कृषि कानून वापस लेने का किया ऐलान, लेकिन किसानों का आंदोलन जारी

कांग्रेस ने मोदी सरकार से पूछ पांच सवाल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसे किसानों के सत्याग्रह की जीत बताया तो विपेक्ष के अधिकतर नेताओं ने इसे चुनाव के दबाव में लिया गया फैसला बताया है. कांग्रेस ने प्रेस कांफ्रेंस कर इसे चुनाव में हार के डर से लिया गया फैसला बताते हुए पांच सवालों के जवाब मोदी सरकार से मांगे हैं.

  • किसानों को एमएसपी दिलाने का रोडमैप क्या है?
  • किसानों की आय दोगुनी करने का रोडमैप क्या है?
  • डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में बढ़ोतरी को वापस कब तक लिया जाएगा जिसने किसानों को बुरी तरह प्रभावित किया है?
  • खाद, बीज, कीटनाशक और ट्रैक्टर्स समेत कृषि सामानों पर जीएसटी को हटाया कब जाएगा?
  • किसानों के कर्ज माफी को लेकर क्या योजना है?

इसके अलावा कांग्रेस ने मोदी सरकार को एक साल तक चले किसान आंदोलन के दौैरान मृत किसानों के परिजानों से माफी मांगने को कहा है.

Read More

Live Blog

कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले पर लाइव अपडेट्स:

Highlights

    18:57 (IST)19 Nov 2021
    कृषि कानूनों पर किसानों की बैठक शनिवार और रविवार को

    किसान नेता दर्शन पाल ने कहा है कि कृषि कानूनों पर किसानों का अगला कदम क्या होगा इस पर बातचीत करने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा की कोर कमेटी की बैठक शनिवार और रविवार को होगी.

    18:52 (IST)19 Nov 2021
    कांग्रेस करेगी पूरे देश में रैली

    पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से कृषि कानूनों को खत्म करने के ऐलान के बाद कांग्रेस ने 20 नवंबर को देश भर में रैली करने का फैसला किया है. कांग्रेस ने इसे किसान विजय दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया है. 

    16:02 (IST)19 Nov 2021
    सुप्रीम कोर्ट की गठित समिति ने फैसले को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

    सुप्रीम कोर्ट द्वारा कृषि कानूनों के मसले पर गठित समिति के एक सदस्य ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है और कहा कि इससे आंदोलन को समाप्त करने में मदद मिलेगी.- पीटीआई

    14:59 (IST)19 Nov 2021
    यूपी के पू्र्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पूछा-सैकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सजा कब तक

    अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, "भाजपा ने भूमिअधिग्रहण व काले कानूनों से गरीबों-किसानों को ठगना चाहा. कील लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-कानून वापस ले ही लिए. भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी."

    14:06 (IST)19 Nov 2021
    प्रियंका गांधी ने चुनाव में हार के डर को बताया फैसले के पीछे की वजह

    कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने कृषि कानूनों को रद्द करने के पीछे की वजह चुनाव में हार का डर बताया. उन्होंने लिखा कि 600 से अधिक किसानों की शहादत, 350 से अधिक दिन का संघर्ष और एक केंद्रीय मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचल कर मार डाला, लेकिन फिर भी मोदी सरकार ने कोई परवाह नहीं की. इसके अलावा बीजेपी नेताओं ने किसानों का अपमान करते हुए उन्हें आतंकवादी, देशद्रोही, गुंडे, उपद्रवी कहा और खुद पीएम मोदी ने उन्हें आंदोलनजीवी बोला, उनपर लाठियाँ बरसायीं और उन्हें गिरफ्तार किया. प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि अब चुनाव में हार के डर से सरकार ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने का फैसला किया है.

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    13:43 (IST)19 Nov 2021
    कांग्रेस ने 700 मृत किसानों के परिजनों से माफी मांगने की मांग की

    कृषि कानूनों के रद्द होने के बाद आज कांग्रेस ने पीएम मोदी से किसान आंदोलन के चलते 700 से अधिक मृत किसानों के परिजनों में माफी मांगने को कहा है. इसके अलावा कांग्रेस ने सरकार से पांच सवालों के जवाब मांगे हैं- 

    • किसानों को एमएसपी दिलाने का रोडमैप क्या है?
    • किसानों की आय दोगुनी करने का रोडमैप क्या है?
    • डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में बढ़ोतरी को वापस कब तक लिया जाएगा जिसने किसानों को बुरी तरह प्रभावित किया है?
    • खाद, बीज, कीटनाशक और ट्रैक्टर्स समेत कृषि सामानों पर जीएसटी को हटाया कब जाएगा?
    • किसानों के कर्ज माफी को लेकर क्या योजना है?
    13:37 (IST)19 Nov 2021
    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जताई खुशी

    केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया कि किसानों के हित में और उनकी भावनाओं का सम्मान करते हुए तीन कृषि क़ानूनों को वापिस लेने का बड़ा निर्णय लिया है. यह निर्णय किसान कल्याण के लिए प्रधानमंत्रीजी की संवेदनशीलता को प्रकट करता है. मैं प्रधानमंत्रीजी के इस निर्णय का स्वागत करता हूं.

    13:36 (IST)19 Nov 2021
    अमित शार ने गुरु परब के दिन ऐलान को बताया खास
    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पीएम मोदी के फैसले को इस मायने में खास बताया कि उन्होंने इस ऐलान के लिए गुरु परब के मौके को चुना. शाह के मुताबिक इस फैसले से साबित होता है कि सरकार हर भारतीय के कल्याण के सिवाय और कुछ नहीं सोचती है.
     

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    13:09 (IST)19 Nov 2021
    सुप्रीम कोर्ट की गठित समिति अगले हफ्ते रिपोर्ट जारी करने पर लेगी फैसला

    देश की सबसे बड़ी अदालत ने कृषि कानूनों पर तीन सदस्यों की कृषि समिति गठित की थी. इस समिति ने तीनों कृषि कानूनों का अध्ययन कर और सभी स्टेकहोल्डर्स से बातचीत कर एक रिपोर्ट तैयार किया था और इसे 19 मार्च को ही सबमिट कर दिया था. हालांकि इसे अब तक पब्लिक नहीं किया जा सका. शेतकारी संगठन के प्रेसिडेंट अनिल जे घनवट ने कहा कि अब कृषि कानूनोों के रद्द होने के बाद इस रिपोर्ट की जरूरत नहीं रह गई है तो इसे सार्वजनिक करने पर अगले हफ्ते फैसला लिया जाएगा. शेतकारी संगठन के प्रमुख के मुताबिक यह रिपोर्ट किसानों के पक्ष में थी.

    12:59 (IST)19 Nov 2021
    जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने बताया चुनावों में खराब प्रदर्शन का डर

    जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने फैसले पर कहा कि सरकार की नीयत अच्छी हो जाने के चलते यह फैसला नहीं आया है बल्कि यह उपचुनावों के नतीजे बीजेपी के पक्ष में नहीं आने के चलते लिया गया है. उन्होंने कहा कि सरकार सिर्फ चुनावी गणित के हिसाब से फैसले करती है और पश्चिमी यूपी व पंजाब में खराब प्रदर्शन के डर से यह फैसला लिया है.

    12:55 (IST)19 Nov 2021
    बॉलीवुड ने फैसले का किया स्वागत

    तीनों कृषि कानून को रद्द करने के फैसले पर बॉलीवुड से भी प्रतिक्रियाएं आई हैं. उन्होंने फैसले का स्वागत करते हुए किसानों के धैर्य की प्रशंसा की जिन्होंने इतना लंबा आंदोलन चलाया. सोनू सूद ने पीएम मोदी को धन्यवाद कहते हुए शांतिपूर्ण आंदोलन चलाने के लिए किसानों का भी आभार जताया है. उर्मिला मातोंडकर, रिचा चड्ढा, तापसी पन्नू, गुल पनाग और दिया मिर्जा जैसे फिल्मी सितारों ने किसानों को इस जीत पर बधाई दी है. बता दें कि किसानों के आंदोलन को प्रियंका चोपड़ा, तापसी पन्नू, रिचा चड्ढा, सोनम कपूर, प्रीति जिंटा, स्वरा भास्कर, दिलजीत दोसांझ, रिेतेश देशमुक, निर्देशक हंसल मेहता, हरभजन मन, जसबीर जस्सी समेत कई फिल्मी सितारों ने अपना समर्थन दिया था. 

    12:48 (IST)19 Nov 2021
    शिवसेना और एनसीपी ने फैसले का किया स्वागत

    कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले का शिव सेना और एनसीपी ने स्वागत किया है. शिव सेना नेता संजय राउत ने कहा कि पहली बार पीएम मोदी ने आम लोगों के मन की बात बोली है. राउत ने कहा कि बीजेपी नेता खुलकर किसानों को खालिस्तानी और पाकिस्तानी बोल रहे थे लेकिन किसानों के दबाव में आखिरकार केंद्र सरकार को झुकना पड़ा. उन्होंने कहा कि इस आंदोलन के चलते कई किसानों की जान चली गई जिसे रोका जा सकता था. एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने ट्वीट किया, झुकती है दुनिया, झुकाने वाला चाहिए. 

    12:43 (IST)19 Nov 2021
    अकाली दल प्रमुख बादल ने गुरु परब की शानदार तोहफा बताया, कहा- अब तक का सबसे क्रूर कानून था यह

    शिरोमणि अकाली दिल के प्रमुख प्रकाश सिंह बाद ने तीनों कृषि कानूनों के रद्द होने को गुरु परब के मौके पर शानदार तोहफा बताया. बादल ने कहा कि किसी भी सरकार को इस प्रकार के संवेदनहीन और क्रूर कानून नहीं बनाने चाहिए. बादल ने इसे गुरु परब के मौके पर किसानों की ऐतिहासिक जीत और इतिहास में एक बड़ा कदम बताया. बादल ने कहा कि यह देश के इतिहास में पहली बार था जब बिना राय-मशविरा किए किसी लोकतांत्रिक सरकार ने इतना क्रूर कानून बनाया. उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में 700 से अधिक लोगों की मौत हो गई जिसे रोका जा सकता था. बादल ने कहा कि किसी भी सरकार को अब दोबारा ऐसे क्रूर कानून नहीं बनाने चाहिए.

    12:24 (IST)19 Nov 2021
    गहलोत ने बताया किसानों के धैर्य की जीत और सरकार के अक्खड़पन की हार

    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मोदी सरकार के फैसले को लोकतंत्र की जीत और केंद्र सरकार के अक्खड़पन की हार है. गहलोत ने इसे किसानों के धैर्य की भी जीत बताया जो पिछले एक साल से लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

    12:16 (IST)19 Nov 2021
    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया किसानों की जीत

    तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ी जीत बताते हुए बधाई दी है और कहा कि बीजेपी की क्रूरता से भी किसान हतोत्साहित नहीं हुए. 

    12:13 (IST)19 Nov 2021
    चुनाव में हार के डर से रद्द हुए कृषि कानून: पूर्व गृह मंत्री पी चिंदबरम

    पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने मोदी सरकार के इस बड़े फैसले को किसानों व कांग्रेस पार्टी की बड़ी जीत बताया और कहा कि यह सरकार का ह्रदय परिवर्तन नहीं है बल्कि चुनाव में हार के डर से लिया गया फैसला है.

    12:06 (IST)19 Nov 2021
    ओवैसी ने बताया यूपी व पंजाब चुनावों के चलते मजबूरी में लिया गया फैसला

    एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी के फैसले पर कहा कि चुनाव और आम लोगों के प्रतिरोध आंदोलन के आगे पीएम मोदी को झुकना ही पड़ा. उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानून शुरू से ही असंवैधानिक रहे हैं और सरकार के अहंकार की वजह से ही किसानों को सड़कों पर उतरना पड़ा. अगर सरकार जिद न करती तो 700 से अधिक किसानों को अपनी जान न गंवानी पड़ती. ओवैसी ने कहा कि पीएम मोदी के सामने यूपी व पंजाब में चुनाव के चलते और कोई विकल्प ही नहीं था. उन्होंने यह भी कहा कि यह 'एक देश-एक चुनाव' लागू न करने का एक वाजिब वजह है और सत्तासीन पार्टी को पूरे कार्यकाल के दौरान लोकतंत्र के प्रति जवाबदेह होना चाहिए.  

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    11:58 (IST)19 Nov 2021
    पंजाब के पूर्व सीएम ने पीएम मोदी को दिया धन्यवाद

    पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पीएम मोदी को प्रत्येक पंजाबी की मांग मानने और तीनों काले कृषि कानूनों को रद्द करने पर धन्यवाद कहा है. उन्होंने #NoFarmers_NoFood (किसान नहीं, भोजन नहीं) के हैशटैग के साथ भरोसा जताया है कि केंद्र सरकार किसानों के विकास में काम करती रहेगी. उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भी अपने ट्वीट में मेंशन किया है.

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    11:57 (IST)19 Nov 2021
    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसे किसानों के सत्याग्रह की जीत बताया

    करीब एक साल तक तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांग आज जाकर पूरी हुई है. इसके लिए सरकार और किसानों के बीच 11 बार वार्ता भी हुई लेकिन सहमति नहीं बन सकी. आज इन्हें वापस लिए जाने के फैसले पर विपक्ष की प्रमुख पार्टी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया. अन्याय के खिलाफ ये जीत मुबारक हो. जय हिंद, जय हिंद का किसान.’ उन्होंने अपने ट्वीट के साथ 14 जनवरी का एक वीडियो क्लिप भी साझा किया है जिसमें उन्होंने किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा था कि उनकी शब्दों को मार्क कर लें, सरकार ये बिल वापस जरूर लेगी.

    https://platform.twitter.com/widgets.js

    11:56 (IST)19 Nov 2021
    प्रदर्शनकारियों के आगे झुकी केंद्र सरकार, पीएम मोदी ने तीनों कृषि कानून वापस लेने का किया ऐलान, लेकिन किसानों का आंदोलन जारी

    PM Modi Big Announcement: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बड़ा ऐलान किया है. उन्होंने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया है, जिसके लिए लंबे समय से किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम आज अपने संबोधन में कहा कि इस महीने (नवंबर 2021) के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में इन तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर दिया जाएगा.किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक कानून को रद्द करने की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती है, किसानों का आंदोलन जारी रहेगा.

    https://www.financialexpress.com/hindi/india-news/pm-modi-big-announcement-all-three-farm-bill-repeal-in-winter-session/2372254/

    कृषि कानूनों को रद्द करने के फैसले पर लाइव अपडेट्स:
    Tags:Asaduddin OwaisiFarmers In IndiaNarendra ModiP ChidambaramParliamentParliament Winter SessionRahul Gandhi
    Next Stories
    1सोशल मीडिया के दुरुपयोग और इस पर आपत्तिजनक भाषा रोकने के लिए CIIL और Koo ऐप का समझौता
    2MedPlus Health IPO: देश की दूसरी सबसे बड़ी फार्मेसी कंपनी का अगले हफ्ते खुलेगा आईपीओ, इश्यू से जुड़ी हर डिटेल्स को समझें बिंदुवार
    3Redmi Note 11T 5G की भारत में बिक्री आज से शुरू, जानिए क्या हैं इसके फीचर्स, कीमत और कितना मिल रहा है डिस्काउंट

    Go to Top