सर्वाधिक पढ़ी गईं

देश के कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट जारी, जुलाई में 3.2% घटा

देश में कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट का रुख जारी है. कच्चे तेल का उत्पादन सालाना आधार पर जुलाई में 3.2 फीसदी घटकर 25 लाख टन रहा.

August 24, 2021 9:43 PM
Demand for petrol for the first half of August exceeded the level of August 2019 by 3.74%, but diesel still lagged by 7.8%.Demand for petrol for the first half of August exceeded the level of August 2019 by 3.74%, but diesel still lagged by 7.8%.

देश में कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट का रुख जारी है. सार्वजनिक क्षेत्र की ONGC का उत्पादन लक्ष्य से कम रहने की वजह से जुलाई में उत्पादन में सालाना आधार पर तीन फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई. पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के मंगलवार को जारी आंकड़े के मुताबिक, कच्चे तेल का उत्पादन सालाना आधार पर जुलाई में 3.2 फीसदी घटकर 25 लाख टन रहा. वहीं, यह अप्रैल-जुलाई के दौरान 3.37 फीसदी कम होकर 99 लाख टन रहा.

ONGC का उत्पादन 4.2% घटा

देश की सबसे बड़ी तेल और गैस उत्पादन कंपनी ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) ने जुलाई में 16 लाख टन कच्चे तेल का उत्पादन किया. यह पिछले साल के इसी महीने के मुकाबले 4.2 फीसदी कम है, जबकि 17 लाख टन के लक्ष्य से 3.8 प्रतिशत कम है. इस साल अप्रैल-जुलाई के दौरान ओएनजीसी का तेल उत्पादन 4.8 फीसदी घटकर 64 लाख टन रहा.

हालांकि, प्राकृतिक गैस के मामले में स्थिति उलट है. रिलायंस-BP के KG-D6 फील्ड की वजह से गैस उत्पादन सालाना आधार पर 18.36 फीसदी बढ़कर 2.9 अरब क्यूबिक मीटर रहा. वहीं, अप्रैल-जुलाई में यह करीब 20 फीसदी बढ़कर 11 अरब क्यूबिक मीटर रहा.

आंकड़े के मुताबिक, ONGC के क्षेत्रों से गैस उत्पादन 10 फीसदी से ज्यादा घटा. जबकि, पूर्वी अपतटीय क्षेत्रों से उत्पादन 12 गुना बढ़कर 57.313 करोड़ क्यूबिक मीटर रहा. पूर्वी अपतटीय क्षेत्र में ही KG-D6 फील्ड स्थित है.

महाराष्ट्र में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे गिरफ्तार, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ दिया था विवादास्पद बयान

मंत्रालय के मुताबिक, गैस उत्पादन में बढ़ोतरी KG-DWN-98/3 ब्लॉक (KG-D6) के D-34 फील्ड के योगदान की वजह से है. इस क्षेत्र से उत्पादन 18 दिसंबर 2020 को शुरू हुआ. वहीं, क्षेत्र के सैटलाइट क्लस्टर के कुओं से उत्पादन 25 अप्रैल 2021 से शुरू हुआ. ईंधन मांग बढ़ने के साथ तेल रिफाइनरी कंपनियों ने जुलाई में ज्यादा कच्चे तेल का प्रसंस्करण किया. बीते महीने में 1.94 करोड़ टन कच्चे तेल का प्रसंस्करण हुआ जो एक साल पहले जुलाई 2020 के मुकाबले 9.6 फीसदी अधिक है.

सार्वजनिक क्षेत्र की रिफाइनरी कंपनियों ने 1.1 करोड़ टन कच्चे तेल का प्रसंस्करण किया, जो 5.6 फीसदी अधिक है. वहीं, निजी रिफाइनरी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जुलाई के दौरान 14.4 फीसदी ज्यादा कच्चे तेल को ईंधन में बदला. कुल मिलाकर रिफाइनरियों ने जुलाई में अपनी क्षमता के 91.34 फीसदी के साथ काम किया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. देश के कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट जारी, जुलाई में 3.2% घटा

Go to Top