मुख्य समाचार:

पूर्व CEA अरविंद सुब्रमण्यन ने नोटबंदी को बताया मॉनेटरी शॉक, कहा: अर्थव्यवस्था को लगा झटका

मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद सुब्रमण्यन ने नोटबंदी को मॉनेटरी शॉक बताया है. (PTI)

November 29, 2018 12:18 PM
Ex CEA Arvind Subramanian, Demonetisation, draconian, monetary shock, PM Modi, Economic Slide, GDP, अरविंद सुब्रमण्यन, नोटबंदी को मॉनेटरी शॉक बतायामुख्य आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद सुब्रमण्यन ने नोटबंदी को मॉनेटरी शॉक बताया है.(PTI)

मोदी सरकार में मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA) रहे अरविंद सुब्रमण्यन का नोटबंदी को लेकर बड़ा बयान आया है. उन्होंने नोटबंदी को मॉनेटरी शॉक बताया है. सुब्रमण्यन ने सरकार के इस फैसले को कठारे बताते हुए कहा कि इससे देश की अर्थव्यवस्था 7 तिमाही में फिसलकर 6.8 फीसदी तक नीचे आ गई. जबकि नोटबंदी से पहले देश की अर्थव्यवस्था की ग्रोथ 8 फीसदी थी.
बता दें 8 नवंबर, 2016 को नोटबंदी लागू हुई थी। तब 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए गए थे.

अपनी किताब में तोड़ी चुप्पी

सुब्रमण्यन ने अपनी आने वाली किताब “Of Counsel: The Challenges of the Modi-Jaitley Economy” में इस बात का जिक्र किया है. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि मोदी ने फैसले से पहने उनसे सलाह ली थी या नहीं. उन्होंने कहा कि उनके पास इस तथ्य के अलावा कोई ठोस दृष्टिकोण नहीं है कि औपचारिक सेक्टर में वेलफेयर कॉस्ट उस समय पर्याप्त थी.

अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई

अपनी किताब में अरविंद सुब्रमण्यन ने कहा कि नोटबंदी बड़ा, शख्त और मॉनेटरी शॉक वाला फैसला था, जिससे बाजार से करीब 86 फीसदी करंसी हटा दी गई. इससे देश की जीडीपी को झटका लगा. नोटबंदी से पहले 6 तिमाही में देश की विकास दर 8 फीसदी औसत थी, जबकि इस फैसले के 7 तिमाही बाद यह घटकर औसतन 6.8 फीसदी रह गई. हालांकि इस दौरान उंची ब्याज दरेें, जीएसटी के लागू होने और क्रूड की ज्यादा कीमतों ने भी विकास दर को प्रभावित किया.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. पूर्व CEA अरविंद सुब्रमण्यन ने नोटबंदी को बताया मॉनेटरी शॉक, कहा: अर्थव्यवस्था को लगा झटका

Go to Top