मुख्य समाचार:

तबाही के साथ कुछ अवसर भी लाया है कोरोना, सप्लाई चेन में भारत बन सकता है ग्लोबल नर्व सेंटर: PM मोदी

कोविड19 महामारी नस्ल, धर्म, रंग, जाति, पंथ, भाषा या सीमाओं को नहीं देखती है. इसलिए हमारी कोशिश और प्रतिक्रिया एकता और भाईचारे की प्रधानता वाली होनी चाहिए: PM Modi

April 19, 2020 9:14 PM

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को एक लिंक्डइन पोस्ट के जरिए कोरोनावायरस से भारत के लिए पैदा हो रहे अवसरों के बारे में जानकारी दी. साथ ही इस महामारी का मिलकर सामना करने पर भी जोर दिया. पीएम मोदी ने कहा कि कोविड19 महामारी नस्ल, धर्म, रंग, जाति, पंथ, भाषा या सीमाओं को नहीं देखती है. इसलिए हमारी कोशिश और प्रतिक्रिया एकता और भाईचारे की प्रधानता वाली होनी चाहिए. हम सब इससे एक साथ जूझ रहे हैं.

आगे कहा कि यह ऐसा बिजनेस मॉडल तैयार करने का वक्त है, जिसमें धरती के गरीबों व वंचित लोगों की देखभाल को प्रधानता दी जानी चाहिए. पीएम मोदी ने कहा कि हर संकट एक अवसर लाता है और कोरोना वायरस के साथ भी ऐसा ही है. यह इस बात का मूल्यांकन करने का वक्त है कि अब सामने आने वाले नए अवसर क्या हो सकते हैं.

सप्लाई चेन का बन सकते हैं ग्लोबल नर्व सेंटर

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि भारत कोरोनावायरस महामारी के खत्म होने के बाद फिजिकल व वर्चुअल का एक सही मिश्रण बनकर जटिल मॉडर्न मल्टीनेशनल सप्लाई चेन में ग्लोबल नर्व सेंटर के तौर पर उभर सकता है. इसलिए आइए उस वक्त के लिए आगे बढ़ें और इस मौके का फायदा उठाएं.

अभी चीन पर निर्भर हैं बड़े देश

उन्होंने कहा कि अभी चीन ने खुद को सप्लाई चेक के केन्द्र के तौर पर स्थापित कर रखा है. चीन जरूरी इक्विपमेंट्स की सप्लाई सभी लगभग सभी बड़े देशों को करता है, जिनमें अमेरिका और भारत भी शामिल हैं. हालांकि कोविड19 ने पूरी सप्लाई चेन को बिगाड़ दिया है, बीजिंग से इंपोर्ट बुरी तरह प्रभावित हुआ है. ऐसे में यह बहस शुरू हो गई है कि क्या एक ही देश पर किसी चीज के लिए इतना निर्भर रहना चाहिए.

एक्सपर्ट्स का भी मानना है कि यह महामारी राष्ट्रों को एक ही राष्ट्र पर इतनी ज्यादा निर्भरता के बोर में फिर से सोचने पर और कंपनियों को अपना बेस चीन से अन्य देशों में शिफ्ट करने पर मजबूर कर देगी. अगर भारत अनुकूल वातावरण की पेशकश करे तो वह इसके लिए बेहतर विकल्प बन सकता है.

सकारात्मक बदलाव वाले आइडियाज की जरूरत

पीएम मोदी ने कहा कि भारत के अगले ​बड़े आइडिया ग्लोबल रिलीवेंस और एप्लीकेशन ढूंढना होना चाहिए. आइडियाज में सकारात्मक बदलाव लाने की योग्यता होनी चाहिए, न केवल देश के लिए बल्कि संपूर्ण मानवता के लिए.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. तबाही के साथ कुछ अवसर भी लाया है कोरोना, सप्लाई चेन में भारत बन सकता है ग्लोबल नर्व सेंटर: PM मोदी

Go to Top