सर्वाधिक पढ़ी गईं

लॉकडाउन: ‘वर्क फ्रॉम होम’ के साइड इफेक्ट! क्या आप भी तनाव, अनिद्रा, चिंता और बैचेनी से हैं परेशान?

लोगों को कई परेशानियों जैसे अनिद्रा, कमर में दर्द, बेचैनी, तनाव और चिंता का सामना करना पड़ रहा है.

April 28, 2020 6:00 PM
employees are suffering from insomnia stress anxiety restlessness in work from home during coronavirus lockdownलोगों को कई परेशानियों जैसे अनिद्रा, कमर में दर्द, बेचैनी, तनाव और चिंता का सामना करना पड़ रहा है.

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश में लागू लॉकडाउन का पांचवां हफ्ता चल रहा है. ऐसे में लंबे समय से घर से काम कर रहे लोगों को कई परेशानियों जैसे अनिद्रा, कमर में दर्द, बेचैनी, तनाव और चिंता का सामना करना पड़ रहा है. बहुत सी कंपनियों और फर्म ने अपने दफ्तर में होने वाले कामकाज को 25 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन के एलान के बाद बंद कर दिया था. देश में कोविड-19 के मामलों की संख्या बढ़ने के बाद 3 मई तक बढ़ा दिया गया.

कई लोगों को अलग-अलग परेशानी

दिल्ली में रहने वाले इंजीनियर सुरेश शर्मा ने कहा कि वे अपना अधिकतर समय अपनी लैपटॉप की स्क्रीन या मोबाइल फोन के सामने ही बिताते हैं, जिसमें कई बार लगातार कई घंटे वे रहते हैं. उन्होंने बताया कि वे शुरुआत में घर से काम करने को पसंद कर रहे थे. हालांकि, समय गुजरने के साथ उन्होंने इस बात को अहसास हुआ कि इससे उनकी सेहत पर असर हुआ है. अपने दफ्तर में काम करते हुए वे मीटिंग में भाग लेते थे और लोगों से उनकी बातचीत होती था. लेकिन अब सब ऑनलाइन हो गया है. शर्मा ने कहा कि कमर में दिक्कतें सामने आ रही हैं और बार-बार सिरदर्द की परेशानी भी झेलनी पड़ रही है.

गीता मल्होत्रा इंजीनियर हैं और वे बेंगलुरू में रहती हैं. उन्होंने बताया कि वर्क फ्रॉम होम की वजह से उनकी निजी जिंदगी और कामकाज के बीच अंतर कम हो गया है, साथ ही उन्हें अनिद्रा की परेशानी भी हो रही है. उन्होंने कहा कि वे जिस समय चाहें, खाना खा रही हैं. कई बार दिन में दो बार खाती हैं और कई बार वे दिन में चार बार खाना खाती हैं. दिन में वे जो थोड़ा सा चला करती थीं, वे भी खत्म हो गया है. लॉकडाउन के बाद उनका वजन चार किलो बढ़ गया है और उन्हें रात में सोने में बहुत परेशानी का सैामना करना पड़ रहा है. वे चार घंटे से भी कम समय के लिए सो रही हैं. शर्मा की तरह उन्होंने भी सिर में बार-बार दर्द होने की शिकायत की.

आकलन के मुताबिक कई बड़ी आईटी कंपनियों के 90 से 95 फीसदी कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने लोगों को दिमाग और शरीर को फिट रखने के लिए ध्यान और शारिरिक व्यायाम करने की सलाह दी है. उन्होंने कहा कि लोगों को इस अवसर को अपनी हॉबी करने के लिए इस्तेमाल करना चाहिए जिससे उनका तनाव भी दूर रहेगा.

पारस अस्पताल में क्लिनिकल मनोविज्ञानिक प्रीति सिंह ने कहा कि लोगों को इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि उन्हें शारीरिक क्रियाओं के पर्याप्त अवसर नहीं मिल रहे हैं. यह कई बार कोई प्रेरणा न होने या चिंता की वजह से भी हो सकता है. उन्होंने बताया कि काम का बोझ घर की जिम्मेदारियों के साथ बढ़ गया है. इससे लोगों को थकान का सामना करना पड़ रहा है. बहुत से लोग नौकरी की सुरक्षा को लेकर चिंता में हैं, तो उनके लिए अनिद्रा परेशानी हो सकती है.

PM किसान का लाभ लेने में ये राज्य नंबर-1, आपके राज्य में कितने किसानों को मिल रहा फायदा

सरकार ने जारी किया है टॉल फ्री नंबर

जो लोग देश में जारी लॉकडाउन के कारण मानसिक परेशानियों का सामना कर रहे हैं, उनके लिए सरकार ने टॉल फ्री नंबर 08046110007 लॉन्च किया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस पर जारी एक डॉक्यूमेंट में कहा है कि घर पर रहना ककुछ समय के लिए अच्छा हो सकता है, लेकिन यह बोरिंग और पाबंदियां लगाने वाला भी हो सकता है. इसमें लोगों को व्यस्त रहने और खुद को नकारात्मक ख्यालों से दूर रखने के लिए संगीत, पढ़ना, टेलिविजन पर मनोरंजक कार्यक्रम देखने, हॉबी को फॉलो करने और घर के अंदर व्यायाम करने के लिए भी कहा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. लॉकडाउन: ‘वर्क फ्रॉम होम’ के साइड इफेक्ट! क्या आप भी तनाव, अनिद्रा, चिंता और बैचेनी से हैं परेशान?

Go to Top