सर्वाधिक पढ़ी गईं

आपके पैसों की सुरक्षा के बदले DICGC ने बैंकों से वसूले 88,523 करोड़, क्लेम भुगतान सिर्फ 296 करोड़

क्या सरकार बैंकों में जमा रकम पर बीमा की लिमिट बढ़ाएगी, जिसे करीब 25 साल पहले ही बदला गया था?

Updated: Dec 10, 2019 6:02 PM
DICGC collected Rs 88523 crore premium from banks against your deposits while payout towards claim Rs 296 croreक्या आपको पता है कि बैंक में जमा आपके पैसे पर बीमा गारंटी मिलती है?

क्या आपको पता है कि बैंक में जमा आपके पैसे पर बीमा गारंटी मिलती है? यदि बैंक डिफॉल्ट हो जाए, तो वह एक निश्चित रकम आपको मिल जाएगी. यह गारंटी रिजर्व बैंक के पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी DICGC देती है. हालांकि, जमा रकम की बीमा शर्त यह है कि सिर्फ एक लाख रुपये तक की ही गारंटी जमाकर्ता को मिलती है, बतर्शे बैंक में आपकी कितनी भी रकम जमा क्यों न हो. DICGC को लेकर एक जानकारी यह है कि इस कंपनी ने अब तक बैंकों से 88,523 करोड़ रुपये का प्रीमियम वसूला है, जबकि उसे क्लेम के लिए सिर्फ 296 करोड़ रुपये का भी भुगतान करना पड़ा है.

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि द डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) ने अपने गठन से अबतक बैंकों से प्रीमियम के बदले 88,523 करोड़ रुपये का प्रीमियम कलेक्ट किया और ​​डिफॉल्ट कॉमर्शियल बैंकों के जमकार्ताओं को 296 करोड़ रुपये के क्लेम का भुगतान किया.

बीमा लिमिट बढ़ाने का कोई प्रस्‍ताव नहीं: ठाकुर

क्या सरकार बैंकों में जमा रकम पर बीमा की लिमिट बढ़ाएगी, जिसे करीब 25 साल पहले ही बदला गया था? इस सवाल के जवाब में अनुराग ठाकुर ने कहा कि अभी तक रिजर्व बैंक की तरफ से इस बारे में कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. उन्होंने बताया कि DICGC Act, 1961 के तहत कॉरपोरेशन समय-समय पर अपनी वित्तीय स्थिति और बैंकिंग सिस्टम के हितों को देखते हुए बैंक के जमाकर्ताओं की रकम पर बीमा की लिमिट सरकार की मंजूरी के बढ़ा सकती है.

करोड़पति स्टॉक: आरती इंडस्ट्रीज के शेयर ने 60 हजार को बना दिया 1 करोड़, आगे भी दिखेगा दम!

जमा पर क्‍या है बीमा गारंटी स्‍कीम?

DICGC बैंक में ग्राहकों के सिर्फ 1 लाख रुपये की बीमा गारंटी देता है. निगम का यह नियम बैंक के सभी शाखाओं पर लागू होता है. इसमें बैंक में जमा रकम और उस पर मिलने वाला ब्याज दोनों ही शामिल किया जाता है. इसका मतलब यह कि यदि दोनों जमा रकम और ब्याज दोनों जोड़कर 1 लाख से ज्यादा है तो सिर्फ 1 लाख रुपये को ही सुरक्षित रकम के तौर पर माना जाएगा.

RBI के निर्देश के अनुसार, सभी छोटे और बड़े कमर्शियल बैंक चाहे उनकी ब्रांच भारत में हो या विदेश में, उनमें जमा रकम इस बीमा गारंटी के तहत कवर होती है. इसके अलावा कोऑपरेटिव बैंक के ग्राहकों को भी इस कवर का लाभ मिलता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. आपके पैसों की सुरक्षा के बदले DICGC ने बैंकों से वसूले 88,523 करोड़, क्लेम भुगतान सिर्फ 296 करोड़

Go to Top