मुख्य समाचार:

RBI ने दरें 1.10% घटाईं, लेकिन कर्ज लेने वालों के लिए 0.08% महंगा हुआ ब्याज: रिपोर्ट

RBI द्वारा कर्ज सस्ता किए जाने के बाद भी लोन लेने वालों को इसका फायदा नहीं मिल रहा है.

November 19, 2019 10:30 AM
RBI, RBI making credit cheaper, lending rates are rising for borrowers, loan, debt, inflation, marginal cost of funding, slowdown in economy, economic growthRBI द्वारा कर्ज सस्ता किए जाने के बाद भी लोन लेने वालों को इसका फायदा नहीं मिल रहा है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा कर्ज सस्ता किए जाने के बाद भी लोन लेने वालों को इसका फायदा नहीं मिल रहा है. अगर महंगाई (Inflation) दर तथा आर्थिक वृद्धि (Economic Growth) में गिरावट को ध्यान में रखा जाए तो कर्जदाताओं के लिये ब्याज दर बढ़ रही है. विदेशी ब्रोकरेज कंपनी ने सोमवार को यह बात कही है. बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने एक रिपोर्ट में कहा कि वेटेड एवरेज लेंडिंग रेट अप्रैल से अबतक 0.08 फीसदी बढ़ा है.

ग्रोथ रेट में आगे और कमी की आशंका

बता दें कि आर्थिक वृद्धि दर मौजूदा वित्त वर्ष की जून तिमाही में 5 फीसदी रही है, जो पिछले छह साल का सबसे निचला स्तर है. पहली तिमाही से अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों की ग्रोथ रेट में कमी या गिरावट को देखते हुए ग्रोथ रेट में आगे और कमी की आशंका है. मुद्रास्फीति में नरमी के बाद आरबीआई ने अप्रैल के बाद से नीतिगत दर में कुल मिला कर 1.10 फीसदी की कटौती कर के इसे 5.40 फीसदी के स्तर पर ला दिया है. यह इसका 9 साल का सबसे निचला स्तर है.

RBI ने बैंकों को जिम्मेदार ठहराया

आरबीआई ने ग्राहकों को पूरा लाभ नहीं मिलने को लेकर बैंकों को जिम्मेदार ठहराया है. आरबीआई बैंकों से लगातार ब्याज दर में कटौती के लिये कह रहा है ताकि ऋण लेने में तेजी आए और ग्रोथ को नई दिशा मिल सके. रिपोर्ट के अनुसार ग्रोथ रेट अभी भी सुस्त है, क्योंकि वास्तविक ब्याज दर अभी भी बढ़ रही है. वास्तविक ब्याज दर एक नंबर है जो मुद्रास्फीति के समायोजन के बाद प्राप्त होता है.

अपने नोट में एक्सपर्ट ने कहा है कि वेटेड एवरेज लेंडिंग रेट जो सभी ऋण पर भुगतान किए गए ब्याज की कुल राशि है, बढ़ रहा है. ऐसा इस वजह से है क्योंकि हॉयर मनी सप्लाई और क्रेडिट डिमांड लेंडिंग रेट के बेस पर बैंकों की मार्जिनल कास्ट यानी सीमांत लागत में कमी को सुनिश्चित करने में असमर्थ है, जो आम तौर पर नए लोन के लिए लागू होते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. RBI ने दरें 1.10% घटाईं, लेकिन कर्ज लेने वालों के लिए 0.08% महंगा हुआ ब्याज: रिपोर्ट

Go to Top