सर्वाधिक पढ़ी गईं

11 घंटे बाद दिल्ली पुलिस का धरना खत्म, मांगें पूरी होने का मिला आश्वासन

विगत 2 नवंबर को तीस हजारी कोर्ट से हुई हिंसा के बाद ऐसे ही मामले देश के कई अदालतों में सामने आए.

Updated: Nov 05, 2019 11:32 PM
Delhi Police personnel protest, Delhi Police Head Quarters in delhi, clash between delhi police & lawyers, Tis Hazari Court Clash, home minister amit shahविगत 2 नवंबर को तीस हजारी कोर्ट से पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी.

पुलिस की सभी मांगों को माने जाने के बाद दिल्ली पुलिस का धरना खत्म हो गया है. पुलिसवालों का दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर चल रहा अभूतपूर्व धरना-प्रदर्शन 11 घंटे बाद खत्म हुआ. विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) सतीश गोलचा ने तीस हजारी अदालत परिसर में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प की घटना के बाद हड़ताल पर गए पुलिसर्किमयों से काम पर लौटने की अपील की और कहा कि इस संबंध में दिल्ली उच्च न्यायालय में पुर्निवचार याचिका दायर की जाएगी. उन्होंने कहा कि घायल पुलिसर्किमयों को कम से कम 25-25 हजार रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी. इस बीच हिमाचल प्रदेश आईपीएस असोसिएशन ने भी तीस हजारी कोर्ट में हुए दिल्ली पुलिस पर हिंसा की निंदा की है.

राजधानी दिल्ली में संभवत: यह अपनी तरह का पहला मामला है, जब दिल्ली पुलिस सड़क पर प्रदर्शन कर रही है. दरअसल, तीस हजारी कोर्ट परिसर में वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसा और वकीलों द्वारा पुलिसकर्मियों से मारपीट की घटना के विरोध में मंगलवार को दिल्ली पुलिस के जवान आईटीओ स्थित पुलिस मुख्यालय के सामने जमा होकर हाथ पर काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन कर रहे थे.

जवानों से बोले CP- हमारे लिए परीक्षा का समय

मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे पुलिस जवानों को मनाने पहुंचे दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में राजधानी में कुछ घटनाएं हुईं, जिसे हमने अच्छी तरह हैंडल किया. इसके बाद हालात बेहतर हो रहे हैं. उन्होंने कहा, ”मैं आप सभी से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं. यह हमारे लिए परीक्षा की घड़ी है. हमें कानून-व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी का पूरी तरह निवर्हन करने की आवश्यकता है. हमसे यह उम्मीद की जाती है कि हम कानून के रखवाले राजधानी में कानून—व्यवस्था बनाए रखेंगे.”

तीस हजारी के बाद कई अदालतों में झड़प

बता दें कि पुलिसकर्मियों पर वकीलों के हमले के एक के बाद एक कई वीडियो सामने आने के बाद पूरे महकमे में भारी नाराजगी देखी जा रही है. पुलिसकर्मियों की मांग है कि वकीलों पर मुकदमे दर्ज किए जाएं. विगत 2 नवंबर को तीस हजारी कोर्ट से हुई हिंसा के बाद ऐसे ही मामले देश के कई अदालतों में सामने आए. सोमवार को साकेत और कड़कड़डूमा कोर्ट में पुलिसवालों को पीटने की घटनाएं हुईं. यूपी में भी वकीलों और पुलिस के बीच टकराव हो गया.

ITO-लक्ष्मी नगर सड़क पर ट्रैफिक बंद

सड़क ब्लॉक होने के बाद वहां से ट्रैफिक की आवाजाही रोक दी गई है. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट किया, ”आईटीओ से लक्ष्मी नगर जाने वाली सड़क को फिलहाल बंद कर दिया गया है. लोगों को दिल्ली गेट या राजघाट की तरफ से जाने की सलाह है.”

‘हाथ में हाउ द जोश….लो सर’ का बैनर

प्रदर्शन कर रहे पुलिसवालों के हाथ में विभिन्न बैनर-पोस्टर हैं. इनमें से एक पर हाउ द जोश….लो सर, लिखा हुआ है.

कांग्रेस का BJP पर हमला- मोदी है तो ही ये मुमकिन है

पुलिसकर्मियों के प्रदर्शन पर कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी पर हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, ”72 साल में पहली बार पुलिस प्रदर्शन पर. क्या यही है बीजेपी का न्यू इंडिया. देश को कहां ले जाएगी बीजेपी? कहां गुम हैं गृह मंत्री अमित शाह? मोदी है तो ही ये मुमकिन है.’

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. 11 घंटे बाद दिल्ली पुलिस का धरना खत्म, मांगें पूरी होने का मिला आश्वासन

Go to Top