मुख्य समाचार:
  1. FANI Alert! आगे बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान फनी! 103 ट्रेनें कैंसल, 8 लाख लोगों की सेफ्टी के लिए अभियान

FANI Alert! आगे बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान फनी! 103 ट्रेनें कैंसल, 8 लाख लोगों की सेफ्टी के लिए अभियान

चक्रवाती तूफान फनी अब ओडीशा के तटीय इलाकों की ओर बढ़ रहा है.

May 2, 2019 7:15 PM
FANI, चक्रवाती तूफान फनी, Cyclonic Storm FANI, Odisha, tamilnadu, Andhra Pradesh, West Bengal, ओडीशा के तटीय इलाकों, Storm Indiaचक्रवाती तूफान FANI अब ओडीशा के तटीय इलाकों की ओर बढ़ रहा है. (ANI)

Cyclonic Storm FANI: प्रचंड रूप ले चुका चक्रवाती तूफान फनी अब ओडीशा के तटीय इलाकों की ओर बढ़ रहा है. कल यानी शुक्रवार की दोपहर तक इसके तटीय इलाकों से टकराने की आशंका है. फिलहाल इसका असर तेज हवाओं और बारिश के रूप में अभी से ओडीशा और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों पर देखा जा रहा है. फिलहाल सुरक्षा को देखते हुए प्रभावित होने की आशंका वाले इलाकों के लिए 103 ट्रेनों को कैंसल कर दिया गया है. वहीं, करीब 8 लाख लोगों को इन इलाकों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए बड़ा अभियान चलाया जा रहा है.

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के एक हालिया बुलेटिन के मुताबिक, ओडिशा में पुरी से करीब 430 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम, पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी, आंध्र प्रदेश में विशाखापत्तनम से 225 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व और पश्चिम बंगाल के दीघा में 650 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में फनी चक्रवात केन्द्रित है.

FANI: पीएम मोदी ने की समीक्षा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात फोनी की स्थिति से निपटने की तैयारी की समीक्षा की नयी दिल्ली, दो मई (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात फोनी की स्थिति को लेकर बुलाई गई उच्च स्तरीय बैठक में तैयारियों की समीक्षा की. आधिकारिक सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री को चक्रवात के संभावित मार्ग की जानकारी दी गयी. साथ ही फोनी को लेकर एहतियात के तौर पर और स्थिति से निटपने की तैयारी के तौर पर उठाये गये कदमों की जानकारी दी गयी. इनमें पर्याप्त साधनों की व्यवस्था, एनडीआरएफ और सशस्त्र बलों की टीमों की तैनाती,पेयजल की आपूर्ति का इंतजाम, बिजली और दूरसंचार सेवाओं के अस्तव्यस्त हो जाने पर उन्हें बहाल करने के लिए की गयी तैयारी आदि शामिल हैं.
उभरती स्थिति की समीक्षा के बाद प्रधानमंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों को प्रभावित राज्यों के अधिकारियों के साथ तालमेल बनाये रखने का निर्देश दिया ताकि एहतियाती कदम तथा जरूरत के हिसाब से राहत एवं बचाव के लिए प्रभावी कदम उठाये जा सकें.

FANI: 200 किमी/घंटा होगी रफ्तार

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) बीपी सेठी ने बताया कि इसके उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर मुड़ने और पुरी के निकट ओडिशा तट को तीन मई की शाम अधिकतम 170-180 किलोमीटर प्रतिघंटे हवा की रफ्तार से पार करने की संभावना है. उन्होंने बताया कि इसकी रफ्तार 200 किलोमीटर प्रतिघंटे तक जा सकती है. एसआरसी ने बताया कि चेन्नई, विशाखापतनम और मछलीपट्टनम में स्थित डॉप्लर मौसम रडार के जरिए चक्रवात का पता लगाया जा रहा है.

8 लाख लोगों का रेस्क्यू प्लान

उन्होंने बताया कि तटीय जिलों के निचले और चपेट में आने वाले क्षेत्रों के लोगों को 880 चक्रवात केंद्रों, स्कूल और कॉलेज की इमारतें और अन्य ठिकानों जैसे सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है. अबतक करीब 25 हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है. जबकि कुल 8 लाख लागों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने का लक्ष्य है. इसके लिए बड़े पैमो पर अभियान चलाया जा रहा है.

बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों पर ध्यान

जिन लोगों को उनके घरों से ळआया गया है, उन्हें खाना देने के लिए फ्री रसोई की व्यवस्थाएं की गई हैं. गर्भवती महिलाएं, बच्चे, बुजुर्ग व्यक्ति और शारीरिक रूप से अक्षम लोगों पर विशेष रूप से ध्यान दिया जा रहा है. एक अधिकारी ने बताया कि किसी भी संभावित घटना से निपटने के लिए नौसेना, वायुसेना, सेना और तटरक्षक बल को हाई अलर्ट पर रखा गया है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), ओडिशा आपदा रैपिड एक्शन फोर्स (ओडीआएएएफ) और दमकल जवानों को प्रशासन की मदद के लिए संवेदनशीन क्षेत्रों में भेजा गया है.

ये इलाके होंगे प्रभावित

ओडिशा के कम से कम 14 जिले – पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भद्रक, गंजम, खुर्दा, जाजपुर, नयागढ़, कटक, गजपति, मयूरभंज, ढेंकानाल और क्योंझर के चक्रवात की चपेट में आने की संभावना है. साथ ही आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में भी चक्रवात का प्रभाव पड़ने की संभावना है.

Go to Top