सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोविशील्ड की दूसरी डोज सिर्फ 28 दिन बाद लगवाकर जा सकते हैं विदेश, लेकिन को-विन सर्टिफिकेट को पासपोर्ट से कराना होगा लिंक

सिर्फ कोविशील्ड वैक्सीन लगवाने पर ही विदेश यात्रा के लिए पासपोर्ट पर उसका जिक्र होगा. किसी और कोरोना वैक्सीन के लिए ये सुविधा नहीं मिलेगी. यह सुविधा18 साल से ऊपर के उन सभी लोगों के लिए है जो 31 अगस्त तक विदेश यात्रा करना चाहते हैं.

Updated: Jun 08, 2021 2:35 PM
अब विदेश जाने वालों के लिए कोविशील्ड की दूसरी डोज 28 दिनों के अंतराल पर लग सकती है.

Covid-19 Vaccination: पढ़ाई और नौकरी के लिए विदेश यात्रा करने वालों को अब अपना को-विन सर्टिफिकेट अपने पासपोर्ट से लिंक कराना होगा. टोक्यो ओलंपिक में भारतीय दल में शामिल खिलाड़ियों के लिए भी यह जरूरी होगा. स्वास्थ्य मंत्रालय से मांग की गई थी कि जिन लोगों का ट्रैवल शेड्यूल कोविशील्ड के दूसरे टीके लिए जरूरी 84 दिनों के गैप से पहले पड़ता है, उन्हें जल्दी बाहर जाने की अनुमति दी जाए. इसके बाद जारी गाइडलाइंस के मुताबिक विदेश यात्रा के लिए 28 दिन के बाद कोविशील्ड की दूसरी डोज कभी भी लगवाई जा सकती है. वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट (Covid Vaccination Certificate) पर पासपोर्ट नंबर लिखा होगा. को-विन ( CoWIN platform) प्लेटफॉर्म पर विदेश यात्रा करने वालों को यह खास सुविधा जल्द मिलेगी.

सिर्फ कोविशील्ड वालों के लिए है यह नियम

मंत्रालय के निर्देशों के मुताबिक विदेश यात्रा करने वाले लोग टीका लगवाने के लिए आईडी प्रूफ के तौर पर पासपोर्ट का इस्तेमाल करेंगे. अगर पहली डोज के लिए पासपोर्ट का इस्तेमाल नहीं किया गया है तो सर्टिफिकेट पर कोई भी मान्य आईडी कार्ड का विवरण लगाना होगा . यही सर्टिफिकेट पासपोर्ट के साथ लिंक होगा. विदेश यात्रा के मामले में सिर्फ कोविशील्ड वालों के लिए ही पासपोर्ट नंबर का सर्टिफिकेट के साथ जिक्र होगा. किसी दूसरी कोरोना वैक्सीन के लिए ये सुविधा नहीं मिलेगी. ये सुविधा 18 साल से ऊपर के उन लोगों के लिए है, जो 31 अगस्त तक विदेश यात्रा करना चाहते हैं. फिलहाल कोविशील्ड डोज के बीच कम से कम 84 दिनों का गैप होता है. लेकिन विदेश जाने वाले छात्रों, नौकरीपेशा और एथलीटों को इससे छूट दी जाएगी. अब सिर्फ 28 दिन का गैप रखना होगा.

कोरोना संकट के बीच MSME सेक्टर के लिए बड़ी राहत, विश्व बैंक ने 50 करोड़ डॉलर के कार्यक्रम को दी मंजूरी

सरकार के इस फैसले से स्टूडेंट्स को खासा फायदा 

सरकार के इस फैसले से विदेशी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में दाखिला लेने वाले भारतीय स्टूडेंट्स या नौकरी तलाशने वालों को फायदा होगा. कई विदेशी विश्वविद्यालयों ने एडमिशन के लिए वैक्सीनेशन को अनिवार्य बना दिया है. ओलंपिक जाने वाले सभी खिलाड़ियों और उनके ट्रेनिंग स्टफ के लिए भी यह जरूरी हो गया है. विदेश में नौकरी करने वालों के लिए टीकाकरण जरूरी हो गया है. हालांकि यह सुविधा सिर्फ कोविशील्ड लगा चुके लोगों के लिए है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोविशील्ड की दूसरी डोज सिर्फ 28 दिन बाद लगवाकर जा सकते हैं विदेश, लेकिन को-विन सर्टिफिकेट को पासपोर्ट से कराना होगा लिंक

Go to Top