सर्वाधिक पढ़ी गईं

COVID19 इम्युनाइजेशन प्रोग्राम: स्कूल बन सकते हैं वैक्सीन बूथ, टीकाकरण के बाद मिलेगा QR कोड सर्टिफिकेट; जानें और क्या तैयारी

भारत में कोविड19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए तैयारी ने जोर पकड़ लिया है.

Updated: Oct 25, 2020 5:47 PM
. Dr Bhargava said that it has well been established that pollution is contributing to Covid-19 mortality.. Dr Bhargava said that it has well been established that pollution is contributing to Covid-19 mortality.

COVID19 Immunisation Programme: भारत में कोविड19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए तैयारी ने जोर पकड़ लिया है. भले ही अभी कोरोनावायरस की वैक्सीन तैयार न हुई हो लेकिन एक्सपर्ट ग्रुप, जिसे देश के कोविड19 इम्युनाइजेशन प्रोग्राम का ब्लूप्रिंट तैयार करने का काम मिला है, उसने इस पर पूरे जोर शोर से काम शुरू कर दिया है. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक्सपर्ट ग्रुप क्यूआर कोड सर्टिफिकेट, वैक्सीन लाभार्थियों को एसएमएस भेजना, आदि समेत कई डिजिटल टूल्स का इस्तेमाल करने की तैयारी में है ताकि सिस्टम को इफीशिएंट और फुल प्रूफ बनाया जा सके.

कोविड19 इम्युनाइजेशन प्रोग्राम, भारत में अब तक का सबसे बड़ा इम्युनाइजेशन प्रोग्राम होगा. इसके लिए एक्सपर्ट ग्रुप देशभर में मौजूद विभिन्न प्राइमरी व सेकंडरी स्कूलों को अस्थायी हेल्थकेयर सेंटर्स के तौर पर इस्तेमाल किए जाने पर विचार कर रहा है. एक्सपर्ट ग्रुप के साथ हाल में की गई एक बैठक में प्रधानमंत्री ​नरेन्द्र मोदी ने भी सलाह दी थी कि एक्सपर्ट ग्रुप को इलेक्शन कमीशन के सुपरविजन में सफलतापूर्वक होने वाले आम चुनावों की तर्ज पर कोविड19 इम्युनाइजेशन प्रोग्राम को डिजाइन करना चाहिए.

एक सूत्र ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया है कि इम्युनाइजेशन प्रोग्राम मौजूदा हेल्थकेयर फैसिलिटीज से आगे जाएगा और इसमें स्कूलों को शामिल करने की जरूरत पड़ेगी, बिल्कुल वैसे ही जैसे उन्हें चुनावों के वक्त पोलिंग बूथ के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

मन की बात: PM मोदी ने कहा- त्योहारी खरीदारी करते समय याद रखें ‘वोकल फॉर लोकल’

कई डिजिटल टूल्स होंगे इस्तेमाल

सूत्र का यह भी कहना है कि एक्सपर्ट ग्रुप इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलीजेंस नेटवर्क (eVIN) में नए फीचर्स भी जोड़ रहा है, जिन्हें कोविड19 वैक्सीन के स्टॉक डिजिटली ट्रैक करने के लिए देश में ही डिजाइन किया गया है. जिन्हें वैक्सीन दी जानी है, उन लाभार्थियों की पहचान करने के लिए नया फीचर भी eVIN में जोड़ा जा सकता है. वैक्सीन की खरीद से लेकर विभिन्न कोल्ड स्टोरेज में इसे स्टोर करने और विभिन्न हेल्थकेयर फैसिलि​टीज तक ले जाने तक के चरणों में वैक्सीन के स्टॉक को ट्रैक करने का फीचर eVIN में पहले ही जोड़ा जा चुका है.

मैसेज बताएगा आपको कब लगेगा टीका

लाभार्थी पहचान टेक्नोलॉजी की मदद से लाभार्थी को उनके वैक्सीनेशन सेशंस के तय शिड्यूल के बारे में मैसेज भेजकर सूचित किया जाएगा. मैसेज में वैक्सीनेशन की तारीख, समय, जगह आदि मौजूद रहेगी. सूत्र ने यह भी बताया है कि व्यक्ति को वैक्सीन लग जाने और कोई साइड इफेक्ट नजर नहीं आने के बाद एक क्यूआर जनरेटेड सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा. लाभार्थी को डिजिलॉकर में अपना कोविड19 इम्युनाइजेशन सर्टिफिकेट स्टोर करने का अवसर भी दिया जाएगा. डिजिलॉकर भी सरकार का एक अन्य डिजिटल टूल है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. COVID19 इम्युनाइजेशन प्रोग्राम: स्कूल बन सकते हैं वैक्सीन बूथ, टीकाकरण के बाद मिलेगा QR कोड सर्टिफिकेट; जानें और क्या तैयारी

Go to Top