सर्वाधिक पढ़ी गईं

COVID19 Vaccine Updates: भारत बायोटेक ने DCGI से मांगी Covaxin के इमर्जेन्सी इस्तेमाल की इजाजत

Covaxin को भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) मिलकर बना रहे हैं.

Updated: Dec 07, 2020 10:19 PM
coronavirus Vaccine Updates, Bharat Biotech seeks from DCGI emergency use authorisation for its indigenously developed COVID-19 vaccine Covaxin

COVID19 Vaccine Updates: स्वदेशी कोरोना वैक्सीन बना रही भारत बायोटेक ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से अपनी कोविड19 वैक्सीन Covaxin के इमर्जेन्सी इस्तेमाल की इजाजत मांगी है. सूत्रों ने यह जानकारी दी है. इससे पहले फाइजर और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया अपनी-अपनी कोविड19 वैक्सीन कैंडिडेट्स के इमर्जेन्सी इस्तेमाल के लिए DCGI से मंजूरी की मांग कर चुकी हैं. Covaxin को भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) मिलकर बना रहे हैं. 4 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कुछ ही सप्ताह में कोविड19 वैक्सीन तैयार हो जाने की उम्मीद जताई थी.

उसी शाम अमेरिकी फार्मा कंपनी फाइजर की भारतीय शाखा ने DCGI से अपनी कोरोनावायरस वैक्सीन कैंडिडेट के इमर्जेन्सी इस्तेमाल की इजाजत मांगी थी. फाइजर की वैक्सीन को ब्रिटेन और अमेरिका में इमर्जेन्सी इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है. सीरम इंस्टीट्यूट ने Oxford यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित COVID-19 वैक्सीन कैंडिडेट कोविशील्ड के लिए 6 दिंसबर को DCGI से इमर्जेन्सी यूज की मंजूरी मांगी थी.

आने वाले दिनों में होगी समीक्षा

भारत बायोटेक, सीरम इंस्टीट्यूट और फाइजर की अपीलों की समीक्षा आने वाले दिनों में सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) में कोविड19 पर सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी करेगी. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि हालांकि अभी तक तीनों में से कोई भी एप्लीकेशन कमेटी को नहीं भेजी गई है. न ही कोई तारीख फिक्स हुई है कि कब कमेटी एप्लीकेशंस के मूल्यांकन के लिए बैठक करेगी.

हाल ही में Bharat Biotech ने दी है सफाई

बता दें कि हाल ही में हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के Covaxin की एक डोज लेने के बाद कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के तहत विज को करीब दो हफ्ते पहले एक शॉट दिया गया था. हालांकि इस बारे में भारत बायोटेक ने सफाई दी है कि उसकी वैक्सीन Covaxin की क्षमता को दूसरी डोज के बाद ही पता किया जा सकता है. Covaxin क्लीनिकल ट्रायल दो डोज के कार्यक्रम पर आधारित हैं. वैक्सीन की क्षमता दूसरी डोज के 14 दिन बाद पता चलती है. वैक्सीन दोनों डोज मिलने के बाद कारगर होती है. विज ने भारत बायोटेक के मानव परीक्षण चरण में स्वेच्छा से भाग लिया था, जिसमें 25 हजार से ज्यादा लोगों को ट्रायल में डोज दिए गए थे. 20 नवंबर को विज हरियाणा में पहले व्यक्ति थे, जिन्हें शॉट दिया गया.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. COVID19 Vaccine Updates: भारत बायोटेक ने DCGI से मांगी Covaxin के इमर्जेन्सी इस्तेमाल की इजाजत

Go to Top