मुख्य समाचार:

कोरोना: कपड़ों को कोविड-19 वायरस से बचाने के लिए क्या करें, इन बातों का रखना होगा ध्यान

ऐसी कोई स्टडी अभी सामने नहीं आई है जिससे पता चले कि वायरस फैब्रिक पर कितने समय तक रहता है.

April 2, 2020 9:05 AM
coronavirus how to protect your clothes from covid 19ऐसी कोई स्टडी अभी सामने नहीं आई है जिससे पता चले कि वायरस फैब्रिक पर कितने समय तक रहता है.

भारत में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और अब इनकी संख्या 1600 को पार कर गई है. कई स्टडी में इस बात को देखा गया है कि SARS-CoV-2 जो कोरोना वायरस की वजह कोविड 19 है, वह अलग-अलग सतहों जैसे प्लास्टिक, स्टील, कार्डबोर्ड आदि पर कितने समय तक रहता है. इन रिसर्च में इस बात को भी देखा गया है कि हवा में यह वायरस कितने समय तक बना रह सकता है. हालांकि, इंडियन एक्सप्रेस में दी एक रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी कोई स्टडी अभी सामने नहीं आई है जिससे पता चले कि वायरस फैब्रिक पर कितने समय तक रहता है.

ऐसा माना जाता है कि ज्यादातर वायरस उन सतह पर ज्यादा लंबे समय तक रहते हैं जिसमें कोई छेद नहीं होता जैसे प्लास्टिक और स्टील. इसके मुकाबले जिसमें छेद होता है जैसे कार्डबोर्ड पर यह तुलना में कम समय तक रहते हैं. क्योंकि फैब्रिक में भी छेद होते हैं, इसलिए ऐसा मान सकते हैं कि वायरस इस पर लंबे समय तक नहीं रह सकता है.

वायरस छेद वाली सतह पर क्यों नहीं रह सकते हैं ?

रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसी सतह पर वायरस छोटे छेदों के जाल में फंस जाता है, जिससे वायरस के लिए इसमें से फैलना मुश्किल हो जाता है. दूसरी तरफ, बिना छेद वाली सतहों जैसे प्लास्टिक में वायरस नहीं फंसता जिससे फैलना ज्यादा आसान होता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) क्या कहता है ?

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में संक्रामक बीमारियों की विशेषज्ञ डॉ. तनु सिंघल के हवाले से कहा गया है कि अपने कपड़ों को साफ रखना बेहद जरूरी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस में कहा गया है कि व्यक्ति को लिनन के कपड़े की लॉन्ड्री 60 से 90 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर करनी चाहिए और रिपोर्ट में डॉ. सिंघल के हवाले से कहा गया है कि कई एक्सपर्ट्स का मानना है कि डिटर्जेंट वायरस को मार सकता है. उन्होंने आगे कहा कि लोगों को संक्रमित लोगों के कपड़ों को धोते समय ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय क्या कहता है ?

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर यह सुझाव दिया है कि बीमार लोगों के कपड़ों, नहाने और हाथ के तौलियों, बेडशीट आदि को रेगुलर लॉन्ड्री साबुन और पानी से साफ करना चाहिए या उसे मशीन में आम घरेलू डिटर्जेंट के साथ 60 से 90 डिग्री सेल्सियस पर धोया जाना चाहिए और पूरी तरह सूखाया जाना चाहिए.

इसके अलावा दूषित कपड़े को लॉन्ड्री बैग में रखना चाहिए. ऐसी लॉन्ड्री को ज्यादा हिलाना भी नहीं चाहिए और व्यक्ति को दूषित कपड़ों के साथ त्वचा और कपड़े के साथ सीधे संपर्क से बचना चाहिए. मंत्रालय ने यह भी कहा है कि कपड़े के मास्क को कम से कम दिन में एक बार धोना चाहिए.

Coronavirus in India Latest Updates: दिल्ली में 152 हुए कोरोना के मरीज, महाराष्ट्र में 335 पहुंचा आंकड़ा

अलग-अलग सतहों पर वायरस के रहने की अवधि

रिपोर्ट में न्यू इंग्लैंड जरनल ऑफ मेडिसिन की रिसर्च के हवाले से कहा गया है कि SARS-CoV-2 स्टेनलैस स्टील और प्लास्टिक पर तीन दिन तक और कार्डबोड और हवा में तीन घंटे और तांबे पर चार घंटे के लिए रह सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना: कपड़ों को कोविड-19 वायरस से बचाने के लिए क्या करें, इन बातों का रखना होगा ध्यान

Go to Top