Citizenship Amendment Bill, Citizenship Bill 2019 Passes in Lok Sabha नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा से पारित, बुधवार को राज्यसभा में होगा पेश - The Financial Express
सर्वाधिक पढ़ी गईं

नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा से पारित, बुधवार को राज्यसभा में होगा पेश

Citizenship Amendment Bill 2019: नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 के पक्ष में 311 और विपक्ष में 80 वोट पड़े. इसके बाद लोकसभा स्पीकर ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को पारित करने का एलान किया.

Updated: Dec 11, 2019 11:43 AM
Citizenship Amendment Bill, Citizenship Bill 2019 Introduces in Lok Sabhaनागरिकता संशोधन विधेयक 2019 का कांग्रेस समेत विपक्षी दल इस बिल का विरोध कर रहे हैं.

Citizenship Amendment Bill 2019: नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 सोमवार को करीब 8 घंटे की बहस के बाद रात 12 बजे लोकसभा से पारित हो गया. इस बिल पर सदन में लंबी बहस हुई. अब बिल को बुधवार को राज्यसभा में पेश किया जाएगा. इससे पहले, सोमवार सुबह गृह मंत्री ने यह बिल लोकसभा में पेश किया. विपक्ष की तरफ से इस पर भारी हंगामा हुआ.

सोमवार रात करीब 11 बजे गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्षी नेताओं की ओर से बिल को लेकर उठाए गए सवालों का जवाब दिया. इसके बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने बिल पर वोटिंग कराया. विधेयक के पक्ष में 311 और विपक्ष में 80 वोट पड़े. इसके बाद लोकसभा स्पीकर ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को पारित करने का एलान किया. खास बात यह है कि इस बिल के पक्ष में बीजेपी की पुरानी सहयोगी शिवसेना ने भी सहयोग दिया.

इससे पहले, सोमवार दोपहर करीब 1:30 बजे लोकसभा में बिल को पेश करने को लेकर मतदान हुआ. बिल पेश करने के पक्ष में 293 और विपक्ष में 82 वोट पड़े थे. इसके बाद विपक्ष की ओर से बिल के खिलाफ आपत्तियां और सवाल उठाए गए. विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 में संविधान के किसी अनुच्छेद का उल्लंघन नहीं हुआ है. शाह ने कहा कि यह पहला अवसर नहीं है जब कोई सरकार नागरिकता पर कुछ कदम उठा रही है. कुछ सदस्य यह सोच रहे हैं कि यह बिल समानता के अधिकार के खिलाफ है.

पीएम मोदी ने शाह की सराहना की

नागरिकता संशोधन विधेयक के लोकसभा में पारित होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गृह मंत्री अमित शाह की सराहना की. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ”इस बात की खुशी है कि लोकसभा ने एक समृद्ध और व्यापक बहस के बाद नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 को पारित किया है. मैं बिल का समर्थन करने वाले सांसदों और दलों का धन्यवाद देता हूं.”

पीएम मोदी ने कहा, ”मैं विशेषकर गृह मंत्री की सराहना करता हूं. अमित शाह जी ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 के सभी पहलुओं को स्पष्ट रूप से समझाया. उन्होंने लोकसभा में चर्चा के दौरान संबंधित सांसदों द्वारा उठाए गए विभिन्न बिंदुओं के विस्तृत जवाब भी दिए.”

क्या है नागरिकता संशोधन बिल 2019?

नागरिकता संशोधन बिल 2019 के तहत यह प्रावधान है कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के छह अल्पसंख्यक समुदाय हिंदू, जैन, सिख, पारसी, बौद्ध और ईसाई को नागरिकता दी जाएगी. बशर्ते ऐसे शरणार्थी 31 दिसंबर 2014 से पहले भारत आए हों. यह विधेयक भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू होगा. बिल के संसद से पारित होने और कानून के अमल में आने के बाद उक्त छहों धर्मों के शरणार्थी देश के किसी भी हिस्से में रह सकेंगे.

अभी क्या है बिल की स्थिति?

नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को 2016 में लोकसभा में पेश किया गया था. उत्तर-पूर्व के राज्यों की कुछ मांगों को देखते इस बिल को ज्वाइंट कमिटी के पास भेजा गया था. इस साल जनवरी में कमिटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी.
लोकसभा ने 8 जनवरी को यह बिल पारित कर दिया था. बिल को राज्यसभा में पेश किया जाना था. हालांकि, 16वीं लोकसभा का सत्र खत्म होने की वजह से यह विधेयक अटक गया. अब इसे मौजूदा सत्र में पेश किया गया है. कैबिनेट बिल को मंजूरी दे चुकी है. सोमवार रात 8 घंटे लंबी बहस के बाद यह बिल लोकसभा से पास हो गया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा से पारित, बुधवार को राज्यसभा में होगा पेश

Go to Top