मुख्य समाचार:
  1. सीमेंट इंडस्ट्री के आएंगे अच्छे दिन! FY 20 में 8% तक बढ़ सकती है डिमांड: रिपोर्ट

सीमेंट इंडस्ट्री के आएंगे अच्छे दिन! FY 20 में 8% तक बढ़ सकती है डिमांड: रिपोर्ट

मौजूदा वित्त वर्ष में बढ़ेगी सीमेंट की डिमांड

May 2, 2019 10:54 AM
Cement, Cement Industry, Cement Demand, ICRA Report, सीमेंट की डिमांड, Low Cost Housing, Infra ProjectCement: मौजूदा वित्त वर्ष में बढ़ेगी सीमेंट की डिमांड

Cement Industry: मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान घरेलू क्षेत्र में सीमेंट की मांग 8 फीसदी बढ़ने की संभावना है. इससे वित्त वर्ष 2019-20 में सीमेंट उद्योग की क्षमता का उपयोग एक साल पहले के 65 फीसदी से बढ़कर 71 फीसदी तक पहुंच सकता है. मांग में बढ़ोत्तरी से वित्त वर्ष के दौरान 1.8 से लेकर 2 करोड़ टन प्रति वर्ष (एमटीपीए) की अतिरिक्त उत्पादन क्षमता की आवश्यकता होगी. रेटिंग एजेंसी इकरा ने अपनी रिपोर्ट में ये बातें कही हैं. इकरा ने  कहा कि अप्रैल 2018 से फरवरी 2019 के दौरान घरेलू सीमेंट उत्पादन में लगभग 13 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई. यह बढ़ोत्तरी वित्तवर्ष 2018 में साल दर साल के आधार पर 6 फीसदी थी.

इन वजहों से बढ़ेगी डिमांड

इकरा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सब्यसाची मजूमदार ने कहा कि वर्ष 2019-20 के केंद्रीय बजट में आवास क्षेत्र और ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर लगातार ध्यान केंद्रित रहने से सीमेंट उद्योग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने की संभावना है. बुनियादी ढांचे, सड़कों और रेलवे पर निरंतर जोर के कारण सीमेंट की मांग बढ़ने की संभावना है. उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2020 के लिए डिमांड 8 फीसदी बढ़ सकती है. इस वजह से सीमित क्षमता बढ़ोत्तरी को देखते हुए इंडस्ट्री की कैपेसिटी यूटिलाइजेशन का स्तर वित्त वर्ष 2017-18 के 65 फीसदी से बढ़कर 71 फीसदी पहुंच सकता है.

लो कास्ट हाउसिंग व इंफ्रा

रिपोर्ट के अनुसार साउथ इंडिया खासतौर से आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में लो कास्ट हाउसिं प्रोजेक्ट में तेजी आने और तमिलनाडु में इंफ्रा कामों में तेजी आने से सीमेंट की डिमांड मजबूत होगी. वहीं देश के अन्य हिस्सों में भी इंफ्रा कामों और रूरल हाउसिंग में तेजी आने से इंडस्ट्री को सपोर्ट मिलेगा.

बढ़ेगी Cement की कीमतें!

अगस्त 2018 में मानसून की वजह से कीमतों पर दबाव बना रहा, महीने-दर-महीने आधार पर ज्यादातर बाजारों में गिरावट रही. सितंबर 2018 से फरवरी 2019 के दौरान कीमतों में गिरावट रही. उन्होंने कहा, मांग अच्छी रहने से हाल की कीमतों को समर्थन मिलने की संभावना है. इंडस्ट्री दाम बढ़ा सकती है. लेकिन कुछ क्षेत्रों में कीमतों पर आपूर्ति के दबाव को पूरी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है.

Go to Top