CBI की छापेमारी पर AAP ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना, जानें क्या है दिल्ली सरकार की विवादित शराब नीति

आम आदमी पार्टी ने पीएम मोदी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके कार्य करने के तरीकों की बढ़ती लोकप्रियता के कारण पार्टी व उसके नेताओं को बदनाम करने के लिए जांच एजेंसी का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया.

CBI की छापेमारी पर AAP ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना, जानें क्या है दिल्ली सरकार की विवादित शराब नीति
दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर आज 19 अगस्त को छापा मारा. (Image- File Photo)

CBI Raid on Delhi Deputy CM Manish Sisodia: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर आज 19 अगस्त को छापा मारा. इसे लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. आम आदमी पार्टी ने पीएम मोदी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके कार्य करने के तरीकों की बढ़ती लोकप्रियता के कारण पार्टी व उसके नेताओं को बदनाम करने के लिए जांच एजेंसी का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया.

पार्टी का कहना है कि सिसोदिया अंतिम में पूरी तरह सही साबित होंगे और प्रधानमंत्री का असली चेहरा देश के सामने आएगा. बता दें कि आबकारी नीति (Excise Policy) मामले में CBI ने दिल्ली-एनसीआर में 21 जगहों पर छापेमारी की, जिसमें दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया का घर और दिल्ली के तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरावा गोपी कृष्ण (Arava Gopi Krishna) का परिसर शामिल हैं.

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई का छापा, कहा- हम कट्टर ईमानदार, जांच में करेंगे सहयोग

‘पहले सत्येंद्र जैन को डाला जेल में, अब सिसोदिया के पीछे’

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आबकारी नीति तैयार करने में कथित अनियमितताएं सीबीआई को सिसोदिया के पीछे लगाने का सिर्फ एक बहाना है, असली मुद्दा यहां अरविंद केजरीवाल और शिक्षा व स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में उनके दिल्ली शासन के मॉडल की बढ़ती लोकप्रियता है. पार्टी ने आरोप लगया कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को ईडी का इस्तेमाल कर जेल में डाल दिया गया जिन्होंने दुनिया को मोहल्ला क्लिनिक का दिल्ली मॉडल दिया और अब प्रधानमंत्री ने सीबीआई को सिसोदिया के पीछे लगा दिया है.

iPhone, iPad या Mac का करते हैं इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान, Apple ने जारी की ये चेतावनी

अमेरिका में लेख छपने के अगले दिन सीबीआई का छापा

सिंह ने कहा कि दिल्ली के शिक्षा मॉडल के बारे में एक अमेरिकी न्यूज पेपर में उपमुख्यमंत्री की तस्वीर के साथ एक लेख प्रकाशित होने के एक दिन बाद सिसोदिया के खिलाफ सीबीआई ने छापेमारी की. सिंह ने कहा कि इससे पूरा देश खुश है और दुनिया भर में सिसोदिया के बारे में बात हो रही है, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री की सोच इतनी छोटी है कि उन्होंने दिल्ली के शिक्षा मॉडल पर लेख प्रकाशित होने के अगले ही दिन सिसोदिया के आवास पर सीबीआई भेज दी. उन्होंने सीबीआई की कार्रवाई को शर्मनाक करार दिया.

Alto में छह एयरबैग? नए सेफ्टी नॉर्म्स पर Maruti Suzuki की ये है योजना, 2022 Alto K10 की लॉन्चिंग पर खुलासा

केंद्रीय मंत्री ने छापे का किया बचाव

राजनतीकि विवाद बढ़ने पर केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने सिसोदिया को एस्क्यूज मिनिस्टर कहा और कहा कि यह मामला शिक्षा से नहीं बल्कि एक्साइज पॉलिसी से जुड़ा है. ठाकुर ने कहा कि जब मामला सीबीआई को दिया गया तो उन्होंने एक्साइज पॉलिसी को पलट दिया. ठाकुर ने सिसोदिया पर निशाना साधते हुआ कहा कि यह कदम क्यों उठाया गया क्योंकि इसमें भ्रष्टाचार था.

Fixed Deposit Rates: Repo Rate में उछाल के बाद इन बैंकों में बढ़ी FD की दरें, तो यहां शुरू हुई नई योजनाएं

क्या है आबकारी नीति, जिस पर सिसोदिया के घर पड़ा छापा

अधिकारियों के मुताबिक पिछले साल नवंबर 2021 में दिल्ली एक्साइज पॉलिसी आई थी जिसमें अनियमितता को लेकर सीबीआई में एफआईआर दर्ज है. पिछले महीने दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर वीके सक्सेना ने दिल्ली की एक्साइज पॉलिसी 2021-22 को लागू करने में अनियमितताओं को लेकर सीबीआई जांच की सिफारिश की थी. उन्होंने इस मसले में एक्साइज के 11 अधिकारियों को सस्पेंड भी किया था. सिसोदिया ने खुद इस नीति में कथित अनियमितता को लेकर सीबीआई जांच की मांग की थी. दिल्ली के मुख्य सचिव की जुलाई में दाखिल रिपोर्ट के आधार पर सीबीआई जांच की मांग की गई थी.

EPFO के नए कैलकुलेटर से चेक कर सकते हैं कितनी मिलेगी पेंशन, स्टेपवाइज जानें कैलकुलेट करने का प्रोसेस

आरोप है कि शराब बेचने का लाइसेंस हासिल करने वालों को टेंडर जारी होने के बाद भी गैरवाजिब लाभ पहुंचाया गया जिससे सरकार को भारी नुकसान उठाना पड़ा. रिपोर्ट में एक्साइज विभाग द्वारा शराब बिक्री का लाइसेंस हासिल करने वालों को 144.36 करोड़ रुपये की लाइसेंस फीस माफ किए जाने पर भी सवाल उठाया गया है. इसके अलावा एयरपोर्ट जोन में सबसे कम बोली लगाकर लाइसेंस हासिल करने के बाद जब एयरपोर्ट अथॉरिटी से एनओसी (नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट) नहीं मिला तो 30 करोड़ रुपये लौटाए गए. एक्साइज पॉलिसी 2021-22 को विशेषज्ञों की समिति के आधार पर 17 नवंबर 2021 को लागू किया गया था और इसके तहत दिल्ली को 32 जोन में बांटकर 849 निजी खुदरा शॉप्स के लिए लाइसेंस जारी किए गए. इसके अलावा साल में ड्राई डे को 21 से घटाकर तीन किया गया. इसके अलावा होटलों के बार और रेस्टोरेंट्स को रात तीन बजे तक खुलने की मंजूरी दी गई.
(इनपुट: पीटीआई)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News