मुख्य समाचार:

कैश की किल्लत: मार्च तिमाही में RBI बैंकिंग सिस्टम में डाल सकता है 1.6 लाख करोड़ रुपये

CRR के तहत फाइनेंशियल बैंकों को न्यूनतम राशि RBI के पास रिजर्व जमा के तौर पर रखनी होती है. फिलहाल यह 4 फीसदी है.

November 28, 2018 5:59 PM
cash crisis, rbi, reserve bank of india, banking system, omo, crr, crr, business news in hindiCRR के तहत फाइनेंशियल बैंकों को न्यूनतम राशि RBI के पास रिजर्व जमा के तौर पर रखनी होती है. फिलहाल यह 4 फीसदी है. (Reuters)

बैंकों में नकदी समस्या से निपटने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) आगामी चौथी तिमाही में खुले बाजार परिचालन (OMO) के जरिए 1,60,000 करोड़ रुपये और बैंक प्रणाली में डालने पड़ सकते हैं. बैंक आफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) ने बुधवार को एक रिपोर्ट में यह कहा.

ग्लोबल निवेश कंपनी ने यह भी कहा कि मंगलवार को OMO के जरिए 40,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने का निर्णय मौजूदा नकदी समस्या का हल करने के लिये संभवत: पर्याप्त नहीं होगा. नकदी की कमी लगभग 1,00,000 करोड़ रुपये की है.

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘‘हमारा नकदी माडल अनुमान बताता है कि RBI को मार्च तिमाही में 1,60,000 करोड़ रुपये या 22 अरब डॉलर के OMO की जरूरत होगी. यह हमारे उस अनुमान की पुष्टि करता है जिसमें कहा गया था कि सरकारी प्रतिभूतियों के बाजार में मांग मार्च तक अधिक होगी.’’ मुद्रा बाजार में पहले से ही 1,00,000 करोड़ रुपये का घाटा है और अग्रिम टैक्स पेमेंट के बाद यह दिसंबर में 1,40,000 करोड़ रुपये हो सकता है.

बोफोएमएल के अनुसार अगर विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का पूंजी प्रवाह कमजोर रहता है तो RBI द्वारा नकद आरक्षित अनुपात (CRR) में एक फीसदी की कटौती से इनकार नहीं किया जा सकता.

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘CRR में कटौती यदि होती है तो बैंक सिस्टम में करीब 1,20,000 करोड़ रुपये आएगा …. इससे RBI के लिए OMO के जरिए 40,000 करोड़ रुपये डालने की ही आवश्यकता होगी.’’ CRR के तहत फाइनेंशियल बैंकों को न्यूनतम राशि RBI के पास रिजर्व जमा के तौर पर रखनी होती है. फिलहाल यह 4 फीसदी है.

बोफाएमएल ने कहा कि तात्कालिक सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए नियम) को अगर हल्का किया जाता है, इससे लघु और मझोले उद्यमों के लिए कर्ज प्रवाह बढ़ेगा. हालांकि यह तभी होगा जब पर्याप्त नकदी हो.

पब्लिक क्षेत्र के 21 बैंकों में 11 बैंक RBI के पीसीए मसौदे के दायरे में है. इससे उनकी कर्ज देने की क्षमता और विस्तार गतिविधियां सीमित होती हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कैश की किल्लत: मार्च तिमाही में RBI बैंकिंग सिस्टम में डाल सकता है 1.6 लाख करोड़ रुपये

Go to Top