सर्वाधिक पढ़ी गईं

बजट 2019: सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों में डाले जा सकते हैं 4,000 करोड़, वित्तीय स्थिति बेहतर करने की रहेगी कोशिश

नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी में पूंजी डालने के लिए वित्तीय सेवा विभाग ने 4,000 करोड़ रुपये की मांग की है.

Updated: Jan 31, 2019 3:48 PM
Budget may provide Rs 4000-cr capital infusion for PSU general insurersसूत्रों ने बताया कि बजट में आवंटित की जाने वाली पूंजी के बाद हर कंपनी को पूंजी का बंटवारा किया जाएगा. (PTI)

सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों में आगामी बजट में 4,000 करोड़ रुपये की पूंजी डाली जा सकती है. इन कंपनियों की माली हालत बेहतर करने के लिए सरकार यह कदम उठा सकती है.

सूत्रों के अनुसार, सार्वजनिक क्षेत्र की नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी में पूंजी डालने के लिए वित्तीय सेवा विभाग ने 4,000 करोड़ रुपये की मांग की है.

क्यों बिगड़ी है बीमा कंपनियों की हालत

सूत्रों ने बताया कि बजट में आवंटित की जाने वाली पूंजी के बाद हर कंपनी को पूंजी का बंटवारा किया जाएगा. अधिकतर साधारण बीमा कंपनियों के लाभ कमाने की स्थिति बेहतर नहीं है. इसकी अहम वजह प्रीमियम से आय के मुकाबले ज्यादा दावे पेश किए जाने से होने वाले नुकसान का दबाव है.

तीनों कंपनियों का हो सकता है विलय

यह बात भी गौर करने लायक है कि 2018-19 के बजट में सरकार ने नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के विलय का प्रस्ताव किया था. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने बजट भाषण में कहा था कि इन तीनों कंपनियों को मिलाकर एक बीमा कंपनी बनाई जाएगी. इस विलय को संभवत: चालू वित्त वर्ष में पूरा कर लिया जाए.

तीनों कंपनियों के पास 31 मार्च 2017 तक कुल साधारण बीमा बाजार की 35 फीसदी हिस्सेदारी थी. इनके पास 200 से ज्यादा बीमा प्रोडक्ट हैं, जिनका कुल प्रीमियम 41,461 करोड़ रुपये रहा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. बजट 2021
  3. बजट 2019: सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों में डाले जा सकते हैं 4,000 करोड़, वित्तीय स्थिति बेहतर करने की रहेगी कोशिश

Go to Top