मुख्य समाचार:

देश में पहली बार बायोफ्यूल से उड़ा विमान, अमेरिका-आॅस्ट्रेलिया जैसे देशों की कतार में आया भारत

परीक्षण उड़ान पर करीब 20 लोग सवार थे. इनमें DGCA और स्पाइसजेट के अधिकारी शामिल रहे. एयरलाइन के एक अधिकारी ने बताया कि देहरादून से दिल्ली की यह उड़ान करीब 25 मिनट की थी.

August 27, 2018 3:25 PM
SpiceJet, India's first biojet fuel flight, Bombardier Q400 aircraft, biojet fuel, SpiceJet CMD Ajay Singh, India's first biojet fuel flight detailपरीक्षण उड़ान पर करीब 20 लोग सवार थे. इनमें DGCA और स्पाइसजेट के अधिकारी शामिल रहे. एयरलाइन के एक अधिकारी ने बताया कि देहरादून से दिल्ली की यह उड़ान करीब 25 मिनट की थी.

स्पाइसजेट ने सोमवार को देश की पहली बायोफ्यूल से उड़ने वाले जेट विमान का परीक्षण किया. Bombardier Q400 aircraft के जरिए यह फ्लाइट आॅपरेट की गई. इसमें आंशिक रूप से बायो जेट फ्यूल का इस्तेमाल किया गया. देहरादून से रवाना होकर यह उड़ान दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरी. वहीं, सरकार ने कहा है कि इस सफल परीक्षण से भारत अब अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की कतार में आ गया है.

एयरलाइन ने कहा कि उसने पहली बायो जेट फ्यूल की उड़ान का सफलता से आॅपरेशन पूरा किया. इस उड़ान के लिए इस्तेमाल ईंधन 75 फीसदी एविएशन टर्बाइन फ्यूल (ATF) और 25 प्रतिशत बायोफ्यूल का मिश्रण था. एटीएफ की तुलना में बायोफ्यूल के इस्तेमाल का फायदा यह है कि इससे कॉर्बन उत्सर्जन घटता है और ईंधन दक्षता भी बढ़ती है.

स्पाइसजेट ने कहा कि जटरोफा फसल से बने इस फ्यूल सीएसआईआर-भारतीय पेट्रोलियम संस्थान, देहरादून ने डेवलप किया है. परीक्षण उड़ान पर करीब 20 लोग सवार थे. इनमें नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) और स्पाइसजेट के अधिकारी शामिल रहे. एयरलाइन के एक अधिकारी ने बताया कि यह उड़ान करीब 25 मिनट की थी.

20% तक उड़ान खर्च कम करेगा

रोड एवं ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी ने कहा कि देश के एविएशन क्षेत्र में आज से नई क्रांति की शुरुआत हो गई है. देश में पहली बार बायो जेटफ्यूल पर चलने वाला हवाई जहाज देहरादून से दिल्ली पहुंचा. इसके सफल परीक्षण से भारत अब अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की कतार में आ गया है. बायो जेटफ्यूल 20% तक उड़ान खर्च कम करेगा. उन्होंने कहा कि अब वक्त आ गया है कि हम तेजी से इम्पोर्ट सब्स्टीट्यूट, कॉस्ट इफेक्टिव और किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए बायोफ्यूल का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. यह उम्मीद करता हूं कि दूसरी एविएशन कंपनियां भी यह प्रयोग अपनाएंगी.

किराये में भी आएगी कमी: स्पाइसजेट सीएमडी
स्पाइसजेट के सीएमडी अजय सिंह ने कहा कि बाये जेट फ्यूल की लागत कम बैठती है और यह कॉर्बन उत्सर्जन घटाने में मदद करता है. उन्होंने कहा कि इसमें हमारी ट्रेडिशनल जेट फ्यूल पर प्रत्येक उड़ान में निर्भरता में करीब 50 फीसदी की कमी लाई जा सकती है. इससे किराये में भी कमी आएगी.

बायो जेट फ्यूल को अमेरिकी मानक परीक्षण प्रणाली (ASTM) से मान्यता है और यह विमान में प्रैट एंड व्हिटनी तथा बॉम्बार्डियर के कॉमर्शियल एप्लिकेशन के मानदंडों को पूरा करता है. क्यू400 विमान में 78 सीटें हैं. एयरलाइंस कंपनियों की ग्लोबल संस्था आईएटीए के अनुसार वैश्विक स्तर पर ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में विमानन इंडस्ट्री का हिस्सा 2 फीसदी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. देश में पहली बार बायोफ्यूल से उड़ा विमान, अमेरिका-आॅस्ट्रेलिया जैसे देशों की कतार में आया भारत

Go to Top