सर्वाधिक पढ़ी गईं

Dilip Kumar Passes Away: दिलीप कुमार नहीं रहे, अलविदा अभिनय सम्राट

दिलीप कुमार ने आज सुबह 7.30 बजे अंतिम सांस ली. उनके पार्थिव शरीर को आज शाम 5 बजे मुंबई के सांताक्रूज कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-ख़ाक किया जाएगा.

Updated: Jul 07, 2021 10:26 AM

Legendary Actor Dilip Kumar Passes Away: हिंदी फिल्मों के अभिनय सम्राट दिलीप कुमार नहीं रहे. अपने बेमिसाल अभियन के चलते ट्रेजडी किंग के नाम से मशहूर रहे 98 साल के दिलीप साहब ने आज सुबह 7.30 बजे अंतिम सांस ली. दिलीप कुमार को सांस लेने में दिक्कत के चलते 29 जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वे काफी दिनों से बीमार चल रहे थे.

दिलीप कुमार के पारिवारिक मित्र फैजल फारूक़ी ने आज ट्विटर के जरिए यह दुखद खबर देते हुए लिखा, बहुत भारी दिल से ये कहना पड़ रहा है कि अब दिलीप साब हमारे बीच नहीं रहे. निधन की खबर मिलते ही इंडस्ट्री में शोक की लहर है. सभी सितारे उनके निधन पर दुख व्यक्त कर रहे हैं. सुबह करीब 9 बजे हिंदुजा अस्पताल के डॉक्टरों ने प्रेस से बात करते हुए बताया कि दिलीप साहब का आज सुबह करीब 7.30 बजे निधन हो गया. उनका अंतिम संस्कार आज शाम 5 बजे मुंबई के सांताक्रूज कब्रिस्तान में किया जाएगा.

दिलीप कुमार के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम बड़ी शख्सियतों ने शोक जाहिर किया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महान अभिनेता को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है, “दिलीप कुमार अपने आप में उभरते भारत का इतिहास समेटे हुए थे. उनके प्रति लोगों की चाहत किसी सरहद से नहीं बंधी है और उन्हें चाहने वालों में पूरे उपमहाद्वीप के लोग शामिल हैं. उनके निधन के साथ ही एक युग का अंत हो गया है. दिलीप साब भारत के दिल में हमेशा अमर रहेंगे. श्रद्धांजलि.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रैजे़डी किंग को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है, “दिलीप कुमार जी सिनेमा जगह के लीजेंड के तौर पर याद किए जाएंगे. वे बेमिसाल प्रतिभा के धनी थे, जिन्होंने कई पीढ़ियों के लोगों को प्रभावित किया. उनका निधन हमारे सांस्कृतिक जगह के लिए बड़ी क्षति है. मेरी संवेदनाएं उनके परिवार, मित्रों और असंख्य प्रशंसकों के साथ हैं. RIP”

फिल्म जगत में भी उनके निधन पर शोक की लहर है. अभिनेता अमिताभ बच्चन ने दिलीप साहब के निधन पर शोक जाहिर करते हुए कहा है कि उनके जाने से एक संस्था का अंत हो गया है. उन्होंने कहा कि हिंदी सिनेमा का इतिहास दो हिस्सों में बंटा है, दिलीप कुमार से पहले और दिलीप कुमार के बाद.

दिलीप साहब ने 5 दशक से ज्यादा समय तक अपने शानदार अभिनय से दर्शकों के दिलों पर राज किया. उन्होंने किसी स्कूल में अभिनय नहीं सीखा था. लेकिन उनकी बेमिसाल प्रतिभा ऐसी थी कि फिल्म दर फिल्म उनके अभिनय में निखार आता ही चला गया. दिलीप साहब के अभिनय का अंदाज़ ऐसा था कि सत्यजीत राय जैसे महान निर्देशक ने उन्हें ‘द अल्टीमेट मेथड एक्टर’ की उपाधि से नवाज़ा था.

पेशावर में 11 दिसंबर, 1922 को जन्मे दिलीप कुमार का गैर-फिल्मी नाम यूसुफ खान था. उनके पिता अपने पूरे परिवार के साथ 1930 में मुंबई आकर बस गए थे.  दिलीप साहब ने अपने अभिनय की शुरुआत 1944 में फिल्म ज्वार भाटा से की थी, जिसे बॉम्बे टॉकीज ने प्रोड्यूस किया था. लेकिन उनकी पहली कामयाब फिल्म जुगनू थी, जो 1947 में आई थी. इस फिल्म में उन्होंने उस जमाने की बड़ी नायिका और मलिका-ए-तरन्नुम कही जाने वाली गायिका नूरजहां के साथ काम किया था.

करीब पांच दशकों के दौरान उन्होंने 65 से ज्यादा फिल्मों में काम किया. दिलीप कुमार की मशहूर फिल्मों में अंदाज़ (1949), आन (1952), दाग (1952), देवदास (1955), आजाद (1955), मुगल-ए-आज़म (1960), गंगा जमुना (1961), राम और श्याम (1967) बेहद खास हैं. दिलीप कुमार को 1994 में फिल्म जगत के सबसे बड़े पुरस्कार दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. उन्हें भारत सरकार ने देश का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्म विभूषण और पद्म भूषण भी प्रदान किया था. वे साल 2000 से 2006 तक राज्य सभा में मनोनीत सदस्य भी रहे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Dilip Kumar Passes Away: दिलीप कुमार नहीं रहे, अलविदा अभिनय सम्राट

Go to Top