सर्वाधिक पढ़ी गईं

Bird Flu in India: देश में ‘बर्ड फ्लू’ का खतरा, कई राज्यों में अलर्ट; क्या हैं इसके लक्षण और बचाव

Bird Flu in India 2021: कोरोना वायरस का खतरा अभी पूरी तरह कम नहीं हुआ कि देश में अब बर्ड फ्लू के चलते कई राज्यों में अलर्ट की स्थिति है.

Updated: Jan 05, 2021 11:55 AM
Bird Flu in India 2021Bird Flu in India 2021: कोरोना वायरस का खतरा अभी पूरी तरह कम नहीं हुआ कि देश में अब बर्ड फ्लू के चलते कई राज्यों में अलर्ट की स्थिति है.

Bird Flu in india 2021 latest news: कोरोना वायरस का खतरा अभी पूरी तरह कम नहीं हुआ कि देश में अब बर्ड फ्लू के चलते कई राज्यों में अलर्ट की स्थिति है. राजस्थान, केरल, मध्य प्रदेश के बाद अब हिमाचल प्रदेश और पंजाब में भी बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं. इन राज्यों में हजारों पक्षियों की मौत के बाद सरकारें अलर्ट हैं. यह सिलसिला जारी है. राज्य सरकारों ने अलर्ट जारी करने के साथ ही स्थिति पर काबू पाने के लिए सक्रियता बढ़ा दी है. हिमाचल में तो मछली, मुर्गे और अंडों की बिक्री को बैन कर दिया गया है. बता दें कि एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस से होने वाली इस बीमारी से पक्षी ही नहीं, मनुष्य भी प्रभावित हो सकते हैं. बर्ड फ्लू संक्रामक बीमारी है और एच5एन1 वायरस के कारण श्वसन तंत्र पर इसका असर पड़ता है.

क्या हैं बर्ड फ्लू के लक्षण

बर्ड फ्लू भी सामान्य फ्लू की ही तरह होता है और यह बीमारी एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H5N1 की वजह से होती है. यह वायरस पक्षियों के अलावा इंसानों को भी शिकार बना सकता है. बर्ड फ्लू इंफेक्शन चिकन, टर्की, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में तेजी से फैलता है. पहले बर्ड फ्लू का मुख्य कारण पक्षियों को ही माना जाता है. लेकिन कई बार यह इंसान से इंसान को भी हो जाता है. एवियन इन्फ्लूएंजा के शिकार इंसान पर मौत का खतरा भी होता है.

बर्ड फ्लू के लक्षण: सांस लेने में दिक्कत, हमेशा कफ बने रहना, सिर में दर्द, नाक बहना, गले में सूजन, मशल्स में दर्द, उल्टी जैसा महसूस होना, पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना आदि.

इंसानों में कैसे फैलता है: इंसान में यह बीमारी मुर्गियों या संक्रमित पक्षी के बेहद निकट रहने से फैलती है. इंसानों में बर्ड फ्लू का वायरस आंख, नाक और मुंह के जरिए प्रवेश करता है. इस वजह से इसका बचाव यही है कि संक्रमित पक्षियों खासकर मरे पक्षियों से दूर रहें. संक्रमण वाले एरिया में कोशिश करें कि ना जाएं. मांग और अंडे खाने से बचें.

पोंग बांध झील अभयारण्य में 1800 पक्षियों की मौत

हिमाचल प्रदेश में पोंग बांध झील अभयारण्य में अब तक करीब 1800 प्रवासी पक्षी मरे हुए पाए गए हैं. राजस्थान में भी कई जिलों में पक्षियों की मौत हुई है. यहां अलग अलग हिस्सों में कुल 500 से ज्यादा पक्षियों की मौत हुई है. इसके बाद से राजस्थान में भी बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट की स्थिति है. झालावाड़ के पक्षियों के नमूनों को जांच के लिये भोपाल के राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान भेजा गया था, जिसमें बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है.

राजस्थान में राज्यपाल ने मांगी रिपोर्ट

राजस्थान में बर्ड फ्लू के चलते कौओं की मौत का सिलसिला जारी है. प्रदेश में अब तक 500 से अधिक कौओं की मौत हो चुकी है. सोमवार को ही 170 से ज्यादा पक्षियों की मौत हुई. इससे चिंतित राज्यपाल कलराज मिश्र ने राज्य सरकार से बर्ड फ्लू पर नियंत्रण को लेकर किए जा रहे प्रयासों की जानकारी मांगी है. इसके अलावा मध्य प्रदेश में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है.

केरल में मारे जाएंगे 40 हजार पक्षी

केरल में भी बर्ड फ्लू की स्थिति बेकाबू हो गई है. केरल के कोट्टायम और अलप्पुझा जिलों में यह बीमारी तेजी से फैली है. प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों में और उसके आसपास एक किलोमीटर के दायरे में बत्तख, मुर्गियों और अन्य घरेलू पक्षियों को मारने का आदेश दिया है. अधिकारियों ने कहा कि एच5एन8 वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए करीब 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा. कोट्टायम जिला प्रशासन के अनुसार नींदूर में एक बत्तख पालन केंद्र में बर्ड फ्लू पाया गया है और वहां करीब 1,500 बत्तखों की मौत हो चुकी है.

केरल: कुछ जिलों में हाई अलर्ट

केरल के कुछ अलाकों में बर्ड फ्लू को लेकर हाई अलर्ट जारी है. राज्य में वन्य जीव, पशुपालन विभाग के कर्मचारियों को अलर्ट रहने को कहा गया है. बता दें कि केरल में वर्ष 2016 में बड़े पैमाने पर बर्ड फ्लू फैला था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Bird Flu in India: देश में ‘बर्ड फ्लू’ का खतरा, कई राज्यों में अलर्ट; क्या हैं इसके लक्षण और बचाव

Go to Top