मुख्य समाचार:
  1. बेल और गुलाब शर्बत ने बढ़ाई पतंजलि की टेंशन, जुर्माने और जेल जाने की लटकी तलवार; जाने पूरा मामला

बेल और गुलाब शर्बत ने बढ़ाई पतंजलि की टेंशन, जुर्माने और जेल जाने की लटकी तलवार; जाने पूरा मामला

पतं​जलि के दो शर्बत प्रोडक्ट पर घरेलू और निर्यात के मामले अलग-अलग मानकों को लेकर यूएसएफडीए कंपनी के खिलाफ कार्रवाई करने पर विचार कर रहा है.

July 22, 2019 12:23 PM
Patanjali Bel Sharbat' and 'Gulab Sharbat'पतं​जलि के दो शर्बत प्रोडक्ट पर घरेलू और निर्यात के मामले अलग-अलग मानकों को लेकर यूएसएफडीए कंपनी के खिलाफ कार्रवाई करने पर विचार कर रहा है. (Reuters)

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के कानूनी उलझलों में फंसने का संकट नजर आ रहा है. कंपनी के खिलाफ यह कदम अमेरिकी रेग्युलेटर की तरफ से उठाया जा सकता है. अमेरिकी रेग्युलेटर यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसएफडीए) ने कहा है कि भारत में बिक्री के लिए तैयार पतंजलि के दो शर्बत उत्पादों के लेबल पर ‘‘अतिरिक्त औषधीय एवं आहार संबंधी दावे’’ पाए गए, जबकि अमेरिका निर्यात किए जाने वाली बोतलों पर ऐसे दावे कम पाए गए. बता दें, पतंजलि पहले ही सेल्स में गिरावट की चुनौतियों का सामना कर रही है.

अमेरिकी नियामक इस मामले में पतंजलि के खिलाफ कार्रवाई करने पर विचार कर रहा है. आरोप साबित होने पर पतंजलि आयुर्वेद पर करीब 3.5 रुपये तक (5 लाख डालर तक) की पेनल्टी और कंपनी अधिकारियों को जेल भी जाना पड़ सकता है. पतंजलि ग्रुप के प्रवक्ता की तरफ से खबर लिखे जाने तक इस बारे में कोई जवाब नहीं आया है. यूएसएफडीए ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ‘‘निर्यातित और घरेलू उत्पादों के लिए कंपनी के उत्पादन और पैकेजिंग क्षेत्र अलग-अलग हैं. ’’

क्या है पूरा मामला?

मॉरीन ए वेंटजेल नाम के यूएसएफडीए के एक जांच अधिकारी ने पिछले साल सात और आठ मई को पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के हरिद्वार संयंत्र की इकाई-तीन का निरीक्षण किया था.

वेंटजेल ने अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में कहा, ‘‘मैंने पाया कि घरेलू (भारत) और अंतरराष्ट्रीय (अमेरिका) बाजारों में ‘बेल शर्बत’ और ‘गुलाब शर्बत’ नाम के उत्पाद पतंजलि के ब्रॉंड नाम से बेचे जा रहे हैं और भारतीय लेबल पर औषधीय और आहार संबंधी अतिरिक्त दावे हैं।’’

क्या कहना है कानून?

अमेरिका के खाद्य सुरक्षा कानून भारतीय कानूनों की तुलना में ज्यादा सख्त हैं. यदि पाया जाता है कि कंपनी ने अमेरिका में गलत तरीके से प्रचारित उत्पाद बेचे हैं तो यूएसएफडीए उसे उस उत्पादन का आयात बंद करने के लिए चेतावनी-पत्र जारी कर सकता है, उस उत्पाद की पूरी खेप को जब्त कर सकता है, फेडरल कोर्ट से कंपनी के खिलाफ रोक का आदेश पारित करा सकता है और आपराधिक मुकदमा भी शुरू कर सकता है. दोष साबित होने पर कंपनी के खिलाफ पांच लाख अमेरिकी डॉलर तक का जुर्माना लगाया जा सकता है और कंपनी के अधिकारियों को तीन साल तक की जेल की सजा हो सकती है.

Go to Top