सर्वाधिक पढ़ी गईं

Covid-19 Vaccine Updates: आने वाली है कोरोना वैक्सीन! फाइजर, सीरम और बॉयोटेक की एक्सपर्ट कमिटी पर नजर

Covid-19 Vaccine: देश में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है.

December 8, 2020 11:27 AM
Covid-19 Vaccine in IndiaCovid-19 Vaccine: देश में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. (Pic-Reuters)

Covid-19 Vaccine: देश में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल आर्गनाइजेशन (CDSCO) की एक्सपर्ट कमिटी बुधवार यानी 9 दिसंबर को फाइजर, सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया और भारत बॉयोटक के ​आवेदन का रिव्यू करेगी. इन तीनों कंपनियों ने खुद के द्वारा डेवलप किए गए कोरोना वैक्सीन के भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मांगी है. अब सबकी निगाहें कमिटी के रिव्यू पर है. अगर कमिटी हां करती है तो भारत में जल्द कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू हो जाएगा. सबसे पहले फाइजर, फिर सीरम और सोमवार को भारत बॉयोटेक ने ड्रग कंट्रोलर जनरल आफ इंडिया (DCGI) के पास अपने आवेदन जमा कराए हैं.

DCGI ने इन तीलों आवेदन को आगे बढ़ाने का काम शुरू कर दिया है. अब सबक निगाहें एक्सपर्ट कमिटी पर है जो तीनों आवेदन का रिव्यू करेगी. बता दें कि तीनों ही कंपनियां यह दावा कर चुकी हैं, उनकी वैक्सीन ट्रॉयल में कारगर साबित हुई हैं. हालांकि फाइजर द्वारा बनाई गई वैक्सीन के स्टोरेज के लिए माइनस 70 डिग्री तापमान चाहिए. ऐसे में रख रखाव भी एक चुनौती होगी. हालांकि सीरम का दावा है कि उसकी वैक्सीन 2 से 8 डिग्री तापमान पर कहीं भी ले जाया जा सकता है.

क्या इसी महीने शुरू होगा इस्तेमाल

कोरोना महामारी से जूझ रहे भारत के लिए उम्मीद यह नजर आ रही है कि इसी महीने वेक्सीन का इमरजेंसी इस्तेमाल शुरू हो सकता है. आगरा मेट्रो का शिलान्यास के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश को अब वैक्सीन के लिए ज्यादा दिन इंतजार नहीं करना पड़ेगा. हालांकि उन्होंने इसके बाद भी मास्क और 2 गज की दूरी जैसे जरूरी उपाय अपनाने को कहा है. अलग अलग कंपनियों ने अपने आवेदन में ट्रॉयल का पूरा डाटा भी पेश किया है. एक्सपर्ट ग्रुप जल्द ही कंपनियों द्वारा पेश डाटा की पड़ताल करेगा. इस वजह से माना जा रहा है कि आवेदन पर मुहर लगने में एक हु्ते या उससे ज्यादा का वक्त लग सकता है.

क्यों दी जाती है इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी

इमरजेंसी इस्तेमाल या आपात मंजूरी वैक्‍सीन, दवाओं, डायग्‍नोस्टिक टेस्‍ट्स या मेडिकल उपकरणों के लिए भी ली जाती है. भारत में आपात मंजूरी के लिए सेंट्रल ड्रग्‍स स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन एक नियामक है. आम तौर पर वैक्‍सीन और दवाओं के इस्‍तेमाल की मंजूरी परीक्षणों के बाद दी जाती है जिसमें कई साल लग जाते हैं. लेकिन महामारी की स्थिति में जब लाभ जोखिम पर भारी दिखें तो आपात मंजूरी दे दी जाती है.

सरकार का वैक्सीनेशन प्रोग्राम

पिछले दिनों सरकार ने टीकाकरण कार्यक्रम पर कहा था कि जुलाई तक करीब 30 करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन की तैयारी है. सरकार की ओर से यह भी कहा गया था कि सबसे पहले हाई रिस्क वालों को यह वैक्सीन दी जाएगी. इनमें खास तौर पर बुजुर्ग या गंभीर रूप से किसी बीमारी से जूझ रहे लोग शामिल हैं. इसके अलावा कोरोना वारियर्स भी इसकी प्राथमिकता में हैं. शुरूआत में करीब 1 करोड़ हेल्थ वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन की डोज मिलेगी.

150 करोड़ डोज खरीदने की तैयारी

घरेलू स्तर पर बन रही वैक्सीन के अलावा सरकार भारी मात्रा में वैक्सीन आयात करने का प्लान भी बना रही है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारत ने 150 करोड़ से अधिक डोज खरीदने के लिए एडवांस बुकिंग कर ली है. वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सबसे ज्यादा वैक्सीन खरीद की डील पक्की करने वाले देशों में भारत तीसरे नंबर पर है. अमेरिका पहले नंबर पर और यूरोपियन यूनियन दूसरे नंबर पर है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Covid-19 Vaccine Updates: आने वाली है कोरोना वैक्सीन! फाइजर, सीरम और बॉयोटेक की एक्सपर्ट कमिटी पर नजर

Go to Top