मुख्य समाचार:

कोरोना काल में रेलवे का ऐतिहासिक फैसला! खर्चे घटाने के लिए बंद हुई अंग्रेजों के जमाने की खास सेवा

खर्चों में कटौती करने के लिए रेलवे का रेलवे जोन को यह नया निर्देश जारी किया गया है.

Published: July 26, 2020 9:35 AM
indian railways, British-era Dak messengers service, railways cutting measure, railways zones, coronavirus pandemic, railways board, ministry of railwaysIndian Railways: रेलवे ने सभी फाइल वर्क डिजिटल में शिफ्ट करने के लिए कहा है.

Indian Railways: कोरोनावायरस महामारी (coronavirus pandemic) के दौर में खर्चे घटाने के लिए भारतीय रेलवे ने एक ऐतिहासिक फैसला किया है. इसके तहत रेलवे ने अंग्रेजों के जमाने की जमाने की डाक मैसेंजर सेवा को बंद करने का निर्णय किया है. गोपनीय दस्तावेजों को भेजने के लिए अभी तक इस सेवा का इस्तेमाल होता था. खर्चों में कटौती करने के लिए रेलवे का रेलवे जोन को यह नया निर्देश जारी किया गया है.

रेलवे के सभी जोन को 24 जुलाई को जारी आदेश में कहा गया है कि रेलवे के खर्चों में कटौती और सेविंग्स सुधारने के लिए सभी रेलवे पीएसयू/रेलवे बोर्ड को अब वीडियोकॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संवाद करें. इसके साथ ही पर्सनल मैसेंजर/डाक मैसेंजर तत्काल बंद कर दें. रेलवे बोर्ड का कहना है कि इस निर्देश का पालन सुनिश्चित होना चाहिए क्योंकि इससे भत्तों, स्टेशनरी, फैक्स आदि पर होने वाले खर्च की बचत होगी.

दरअसल, डाक मैसेंजर चपरासी होते हैं जिन्हें संवेदनशील दस्तावेजों को रेलवे बोर्ड से विभिन्न विभागों, जोन और डिवीजनों को पहुंचाने की जिम्मेदारी दी जाती है. अंग्रेजों ने यह व्यवस्था उस दौर में शुरू की थी जब इंटरनेट और इमेल की सुविधा नहीं थी. इससे पहले भी खर्चे घटाने के लिए रेलवे ने कई कदम उठाए हैं. इसमें नए पदों के सृजन पर रोक लगाई गई है. साथ ही वर्कशॉप्स में कर्मचारियों की संख्या सीमित की गई है और सीएसआर के लिए आउटसोर्स करने का निर्णय किया गया है. डिजिटल कार्यक्रमों को बढ़ाने देने के लिए कहा गया है.

कोरोना संकट में घर बैठे कर सकते हैं आधार से जुड़े ये काम, नहीं होगी कोई परेशानी

रेलवे बोर्ड ने जोनल कर्मचारियों पर खर्च घटाने, कर्मचारियों की संख्या सीमित ​करने और उन्हें मल्टीपल कामों के लिए तैयार करने का सुझाव दिया है. इसके अलावा, बोर्ड ने कॉन्टैक्ट्स की समीक्षा करने, बिजली खपत कम करने और प्रशासनिक व दूसरे खर्च कम करने को कहा है. साथ ही यह निर्देश दिया गया है कि सभी फाइल वर्क डिजिटल में शिफ्ट करने और आपसी संवाद सेक्योर ई-मेल करना सुनिश्चित करें. स्टेशनरी सामान, कागज और दूसरे सामानों की लागत 50 फीसदी तक घटाई जाए और जोन में घाटे में चल रहे विभागों को बंद किया जाए.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना काल में रेलवे का ऐतिहासिक फैसला! खर्चे घटाने के लिए बंद हुई अंग्रेजों के जमाने की खास सेवा

Go to Top