सर्वाधिक पढ़ी गईं

BPCL प्राइवेटाइजेशन: भारतगैस LPG ग्राहकों को मिलती रहेगी सब्सिडी या नहीं? ये है जवाब

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (BPCL) का निजीकरण होने जा रहा है.

Updated: Dec 09, 2020 2:11 PM
Bharat Petroleum Corporation Limited LPG customers will continue to get cooking gas subsidy post-privatisation of BPCLImage: PTI

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (BPCL) का निजीकरण होने जा रहा है. BPCL, भारतगैस एलपीजी सिलिंडर की पेरेंट कंपनी है. ऐसे में भारतगैस ग्राहकों के मन में यह सवाल है कि बीपीसीएल के निजीकरण के बाद भी क्या उसके 7.3 करोड़ घरेलू रसोई गैस ग्राहकों को सब्सिडी का लाभ मिलता रहेगा या सब्सिडी बंद हो जाएगी. इस सवाल का समाधान हो गया है.

बीपीसीएल के एक शीर्ष अधिकारी का कहना है कंपनी के एलपीजी कारोबार के लिये एक अलग रणनीतिक कारोबारी इकाई (एसबीयू) बनाने की योजना है. बीपीसीएल के नये मालिक को अधिग्रहण के तीन साल बाद ही कंपनी के एलपीजी कारोबार को अपने पास बनाये रखने अथवा बेचने का अधिकार होगा.

अधिकारी के मुताबिक, भारत पेट्रोलियम से सरकार के निकलने के बाद भी नई कंपनी पर तीन साल तक पाबंदी रहेगी. कंपनी का नया मालिक किसी परिसंपत्ति की बिक्री या उसे ट्रांसफर नहीं कर सकेगा. तीन साल बाद उसके पास एलपीजी कारोबार को रखने या बेचने का अधिकार होगा. बता दें कि सरकार साल में 12 रसोई गैस सिलेंडर (एलपीजी सिलेंडर) सब्सिडी पर उपलब्ध कराती है. इस महीने प्रत्येक सिलेंडर पर 50 रुपये की सब्सिडी दी जानी है. इसे सीधे ग्राहकों के खाते में पहुंचा दिया जाएगा.

तीन साल बाद क्या?

अधिकारी ने कहा कि तीन साल बाद भी अगर बीपीसीएल का नया मालिक एलपीजी कारोबार को कंपनी में ही बनाए रखना चाहेगा तो उसके बाद भी ग्राहकों को सरकारी सब्सिडी मिलती रहेगी. यदि नया मालिक एलपीजी कारोबार को रखने से मना करता है तो तीन साल बाद उसके एलपीजी ग्राहकों को अन्य दो सरकारी कंपनियों इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम में ट्रांसफर कर दिया जाएगा. अधिकारी ने कहा कि सरकार बीपीसीएल के 7.3 करोड़ ग्राहकों को निजीकरण के बाद भी सब्सिडी जारी रखेगी. लेकिन किसी निजी कंपनी को सरकारी सब्सिडी देने में हितों के टकराव के चलते एलपीजी कारोबार को एक अलग एसबीयू के तहत रखा जायेगा.

SBU खातों का ऑडिट भी होगा

उन्होंने कहा कि एसबीयू अलग से खातों का विवरण रखेगी. साथ ही उसे कितनी सब्सिडी मिली और डिजिटल तरीके से उसने कितने ग्राहकों को सब्सिडी भेजी, इसका भी ब्यौरा रखना होगा. कोष की हेरा-फेरी नहीं हो यह सुनिश्चित करने के लिए एसबीयू खातों का ऑडिट भी कराया जाएगा. निजीकरण के बाद भारत पेट्रोलियम को सब्सिडी देने का यह मतलब नहीं होगा कि अन्य निजी एलपीजी वितरकों को भी सब्सिडी दी जाएगी. अधिकारी ने कहा, ‘‘भारत पेट्रोलियम एक पुरानी कंपनी है और इस तरह रातोंरात उसके ग्राहकों की सब्सिडी को खत्म नहीं किया जा सकता.’’

PM Kisan 7th Installment: नहीं मिली 2000 रु की 7वीं किस्त, करें ये काम; एक भी पैसे का नहीं होगा नुकसान

पेट्रोलियम मंत्री ने भी दिलाया था भरोसा

इससे पहले पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी कह चुके हैं कि BPCL के प्राइवेटाइजेशन के बाद भी उसके उपभोक्ताओं को रसोई गैस सब्सिडी मिलती रहेगी. प्रधान ने कहा था कि LPG पर सब्सिडी सीधे उपभोक्ताओं को दी जाती है, किसी कंपनी को नहीं. इसलिए एलपीजी बेचने वाली कंपनी के स्वामित्व का कोई असर सब्सिडी पर नहीं होगा.

Input: PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. BPCL प्राइवेटाइजेशन: भारतगैस LPG ग्राहकों को मिलती रहेगी सब्सिडी या नहीं? ये है जवाब
Tags:BPCL

Go to Top