मुख्य समाचार:

अलर्ट! बैंकों में होने वाली है 2 दिन की हड़ताल, पहले ही निपटा लें अपना जरूरी काम

बैंक कर्मचारियों की 4 यूनियनों ने देशभर में 2 दिन की हड़ताल बुलाई है.

September 12, 2019 5:56 PM
Bank Strike, bank merger, bank customers alert, bank unions plan to protest against merger, bank consolidationबैंक कर्मचारियों की 4 यूनियनों ने देशभर में 2 दिन की हड़ताल बुलाई है.

बैंक कर्मचारियों की 4 यूनियनों ने पब्लिक सेक्टर के 10 बैंकों के मर्जर की घोषणा के विरोध में 25 सितंबर की मिडनाइट से 2 दिन की हड़ताल बुलाई है. साथ ही बैंक यूनियनों ने बैंकों के एकीकरण की इस योजना के खिलाफ नवंबर के दूसरे सप्ताह से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की भी धमकी दी है. वहीं, कर्मचारी यूनियनें बैंक कर्मियों के वेतन संशोधन की प्रक्रिया तेज करने और पांच दिन के सप्ताह की भी मांग कर रही हैं.

ये यूनियंस हैं शामिल

आल इंडिया बैंक आफिसर्स कनफेडरेशन (एआईबीओसी), आल इंडिया बैंक आफिसर्स एसोसिएशन (एआईबीओए), इंडियन नेशनल बैंक आफिसर्स कांग्रेस (आईएनबीओसी) और नेशनल आर्गेनाइजेशन आफ बैंक आफिसर्स (एनओबीओ) हड़ताल में शामिल होंगे. एआईबीओसी (चंडीगढ़) के महासचिव दीपक कुमार शर्मा ने यह जानकारी दी है.

हो सकती है अनिश्चितकालीन हड़ताल

शर्मा ने कहा कि देशभर में राष्ट्रीयकृत बैंक 25 सितंबर की मध्यरात्रि से 27 सितंबर की मध्यरात्रि तक हड़ताल पर रहेंगे. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय के विरोध और अपनी अन्य मांगों के समर्थन में बैंक कर्मियों ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि नवंबर के दूसरे सप्ताह से राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं.

10 राष्ट्रीयकृत बैंकों का विलय

सरकार ने 10 राष्ट्रीयकृत बैंकों का विलय कर 4 बड़े बैंक बनाने की घोषणा की है. इसके तहत यूनाइटेड बैंक आफ इंडिया और ओरियंटल बैंक आफ कॉमर्स का विलय पंजाब नेशनल बैंक में किया जाएगा. इसके बाद अस्तित्व में आने वाला बैंक सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक होगा. इसी तरह सिंडिकेट बैंक का विलय केनरा बैंक में किया जाएगा. इलाहाबाद बैंक का विलय इंडियन बैंक में किया जाना है. आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक को यूनियन बैंक आफ इंडिया में मिलाया जाएगा.

बैंकों की सेहत सुधारने के लिए कदम

बता दें कि पिछले माह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकारी बैंकों के मेगामर्जर का एलान किया था. साथ ही बैंक रीकैपटाइजेशन के तहत किस बैंक को कितनी पूंजी दी जाएगी, इसका भी एलान हुआ. एक्सपर्ट का कहना है कि इससे साफ हुआ है कि मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में सरकारी बैंकों के ओवर हॉलिंग का जो सिलसिला शुरू हुआ था, वह आगे भी जारी रहेगा. फिलहाल सरकार के इस कदम से जहां बैंकों में लिक्विडिटी का स्तर सुधरेगा, वहीं एनपीए क्लीन कर बैलेंसशीट मजबूत करने में मदद मिलेगी. हालांकि मर्जर की वजह से कुछ बदलाव होंगे, जिनका दबाव शुरूआती कुछ महीनों तक दिखेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. अलर्ट! बैंकों में होने वाली है 2 दिन की हड़ताल, पहले ही निपटा लें अपना जरूरी काम

Go to Top