मुख्य समाचार:

बैंक मेगा मर्जर: इतिहास बन गए ये 6 बैंक, कोरोना सकंट में कितना जायज है ये विलय?

ओबीसी और यूनाइटेड बैंक का पीएनबी में विलय हो गया. वहीं, सिंडीकेट बैंक का केनरा बैंक में, आंध्र बैंक और कार्पोरेशन बैंक का यूनियन बैंक व इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय हुआ.

April 1, 2020 1:41 PM
mega bank merger, bank merger in situation of COVID-19, question on bank merger and future of banks, PNB, corporation bank, union bank, united bank, OBC bank, banking experts on mergerओबीसी और यूनाइटेड बैंक का पीएनबी में विलय हो गया. वहीं, सिंडीकेट बैंक का केनरा बैंक में, आंध्र बैंक और कार्पोरेशन बैंक का यूनियन बैंक व इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय हुआ.

देश में विश्व स्तर के बड़े बैंक बनाने की दिशा में सरकार की तरफ से की गई पहल के तहत 1 अप्रैल से 6 सरकारी बैंकों का अलग अलग चार बैंकों में विलय प्रभावी हो गया. यह विलय ऐसे समय में हो रहा है जब पूरी दुनिया खतरनाक कोरोना वायरस महामारी के जाल में फंसी हुई है. महामारी की रोकथाम के लिए 21 दिन का की पाबंदियां लगाई गई हैं, जो 14 अप्रैल को समाप्त होंगी. एक्सपर्ट कहते हैं, कि ऐसे नाजुक समय में बैंकों का विलय बहुत सहज नहीं हो सकता है. हालांकि जिन बैंकों में विलय किया जा रहा है उनके प्रमुखों ने बैंकों के भविष्य को लेकर विश्वास व्यक्त किया है.

सब योजना के मुताबिक

यूनियन बैंक आफ इंडिया के प्रबंध निदेशक राजकिरण राय जी ने कहा, ‘‘हमें इसमें कोई समस्या नहीं लगती है यह योजना के मुताबिक चल रहा है. हमने मौजूदा स्थिति के परिपेक्ष में भी इसकी समीक्षा की है. विलय का क्रियान्वयन करते हुए हमने कुछ सुधार किए हैं ताकि इससे कर्मचारियों और ग्राहकों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो. हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि कोई गड़बड़ी नहीं हो.’’

देश में लॉकडाउन के चलते पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, यूनियन बैंक और इंडियन बैंक ने विलय के कुछ हिस्सों पर अमल को आगे के लिये टाल दिया है. इन चारों बैंकों में ही अन्य बैंकों का विलय किया गया है. अगले तीन वर्ष के दौरान बैंकों के इस विलय से बैंकों को 2,500 करोड़ रुपये का लाभ होने की उम्मीद की जा रही है.

12 रह गए सरकारी बैंक

बैंकों के विलय की इस योजना के तहत ओरिएंटल बैंक आफ कामर्स और यूनाइटेड बैंक आफ इंडिया का पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में विलय हो गया. वहीं, सिंडीकेट बैंक का केनरा बैंक में, आंध्र बैंक और कार्पोरेशन बैंक का यूनियन बैंक आफ इंडिया तथा इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय किया किया गया. इस विलय के पूरा होने के बाद सरकारी क्षेत्र में सात बड़े और पांच छोटे बैंक रह गए. वर्ष 2017 तक देश में सार्वजनिक क्षेत्र के 27 बैंक थे. एक अप्रैल से शुरू हुए वित्त वर्ष में देश में सरकरी बैंकों की संख्या 18 से घटकर 12 रह जाएगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. बैंक मेगा मर्जर: इतिहास बन गए ये 6 बैंक, कोरोना सकंट में कितना जायज है ये विलय?

Go to Top