सर्वाधिक पढ़ी गईं

UP Guidelines: 6 फुट की दूरी पर बैठेंगे छात्र, अटेंडेंस का रिजल्ट पर असर नहीं; 19 अक्टूबर से बदलेगा पढ़ाई का तरीका

UP School Guidelines: कोरोना वायरस महामारी ने आम जीवन पर कई तरह से असर डाला है. शिक्षा भी इससे अधूरी नहीं रही है.

Updated: Oct 11, 2020 9:39 AM
UP School GuidelinesUP School Guidelines: कोरोना वायरस महामारी ने आम जीवन पर कई तरह से असर डाला है. शिक्षा भी इससे अधूरी नहीं रही है.

UP School Guidelines: कोरोना वायरस महामारी ने आम जीवन पर कई तरह से असर डाला है. काम करने का तरीका से लेकर रहन सहन का तरीका पूरी तरह से बदल गया है. शिक्षा भी इससे अधूरी नहीं रही है. लंबे इंतजार के बाद आबादी के लिहाज से सबसे प्रदेश उत्तर प्रदेश में 19 अक्टूबर से स्कल खुलने जा रहे हैं. कक्षा 9 से कक्षा 12 तक के स्कूल अभी खोले जाएंगे. ये आदेश सभी बोर्ड के स्कूलों पर लागू होगा. हालांकि ये आदेश कन्टेनमेंट जोन पर लागू नहीं होगा. स्कूल खुलेंगे जरूर, लेकिन पढ़ाई का तरीका पूरी तरह से बदला रहेगा. उत्तर प्रदेश सरकार ने इसके लिए बकायदा गाइडलाइंस जारी की हैं. जानते हैं कि अब स्कूलों को किन किन बातों का ध्यान रखना होगा.

जरूरी गाइडलांइस

  • प्रदेश में 19 अक्टूबर से कक्षा 9 से 12 तक के लिए स्कूल खुलेंगे. ये आदेश सभी बोर्ड के स्कूलों पर लागू होगा, लेकिन कन्टेनमेंट जोन पर नहीं.
  • अभिभावकों की लिखित सहमति से ही विद्यार्थियों को बुलाया जा सकेगा.
  • 2 छात्रों के बीच 6 फुट की दूरी जरूरी होगी.
  • अभिभावक यह तय कर सकेंगे कि वे अपने बच्चे को स्कूल भेजकर पढाएं या फिर ऑनलाइन. यानी स्कूल खुलने के बाद अब छात्रों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावक की सहमति जरुरी होगी.
  • स्कूलों को दो पालियों में चलाया जाएगा. पहली पाली में कक्षा 9 व 10 और दूसरी पाली में कक्षा 11 व 12 के विद्यार्थियों को बुलाया जाएगा.
  • एक दिन में एक कक्षा के अधिकतम 50 फीसदी तक छात्रों को ही बुलाया जा सकेगा. बचे हुए 50 फीसदी छात्र दूसरे दिन आएंगे.
  • स्कूलों को छात्रों की उपस्थिति के नियम लचीला रखना होगा. किसी भी छात्र को स्कूल आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा.
  • कम अटेंडेंस का असर भी छात्रों के रिजल्ट पर नहीं पड़ेगा.
  • ऑनलाइन क्लासेज भी चलती रहेंगी. स्कूल बुलाने में उन विद्यार्थियों को प्राथमिकता पर रखा जाए, जिनके पास ऑनलाइन पढ़ाई की सुविधा उपलब्ध नहीं है.
  • छात्र घर पर रहते हुए ऑनलाइन पढ़ाई करना चाहें तो यह सुविधा उन्हें दी जाएगी.
  • छुट्टी के वक्त एक साथ छात्र बाहर नहीं निकल सकेंगे. उन्हें एक-एक कर छोड़ा जाएगा.

सैनिटाइजेशन और स्वास्थ्य का खास ध्यान

  • हर पाली के बाद स्कूल को सैनिटाइज किया जाएगा.
  • स्कूलों में सैनेटाइजर, हैंडवाश, थर्मल स्कैनिंग व प्राथमिक उपचार की व्यवस्था होगी.
  • अगर किसी विद्यार्थी, शिक्षक या अन्य कर्मचारी को खांसी, जुखाम या बुखार के लक्षण होंगे तो उन्हें प्राथमिक उपचार देते हुए घर वापस भेज दिया जाएगा.
  • प्रवेश व छुट्टी के समय गेट पर सोशल डिसटेंसिंग का पालन करवाया जाएगा.
  • एक साथ सभी विद्यार्थियों की छुट्टी नहीं की जाएगी. स्कूलों में अगर एक से अधिक गेट हें तो उनका उपयोग सुनिश्चित किया जाएगा.
  • स्कूल बस या वैन आदि को भी रोज सैनिटाइज करवाया जाएगा.
  • विद्यालय प्रबन्धन द्वारा अतिरिक्त मात्रा में मास्क उपलब्ध रखे जाएंगे.

सभी अधिकारियों को निर्देश

बता दें कि 19 अक्‍टूबर से स्‍कूल खोले जाने के संदर्भ में अपर मुख्‍य सचिव (माध्‍यमिक शिक्षा) द्वारा शासनादेश भी जारी कर दिया गया है. इस संबंध में स्कूल खोलने से पूर्व स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं अन्य सुरक्षा प्रोटोकाल हेतु मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी कर दिया गया है, जो विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध है. सभी मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशकों एवं जिला विद्यालय निरीक्षकों को यह निर्देश दिया गया है कि वे गाइडलाइंस का सही से पालन करें व करवाएं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. UP Guidelines: 6 फुट की दूरी पर बैठेंगे छात्र, अटेंडेंस का रिजल्ट पर असर नहीं; 19 अक्टूबर से बदलेगा पढ़ाई का तरीका

Go to Top