मुख्य समाचार:

अच्छी प्लानिंग के साथ लागू नहीं हो पाई नोटबंदी, वर्ना कुछ और होते नतीजे: उदय कोटक

उदय कोटक पूर्व चीफ इकोनॉमिक एडवायजर अरविंद सुब्रमण्यन की किताब की लॉन्चिंग के मौके पर बोल रहे थे.

December 10, 2018 12:27 AM
After two years, Uday Kotak now says noteban was poorly executedहालांकि उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी फाइनेंशियल सेक्टर के लिए वरदान साबित हुई. (PTI)

नोटबंदी के दौरान अगर कुछ सरल सी बातों पर ध्यान दिया होता और इसे अच्छी प्लानिंग के साथ लागू किया गया होता तो इसके नतीजे काफी अच्छे होते. यह बात कोटक महिन्द्रा बैंक के एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर उदय कोटक ने कही है. उदय कोटक पूर्व चीफ इकोनॉमिक एडवायजर अरविंद सुब्रमण्यन की किताब की लॉन्चिंग के मौके पर बोल रहे थे. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी फाइनेंशियल सेक्टर के लिए वरदान साबित हुई.

कोटक ने यह भी कहा कि छोटी फर्में इस समय मुश्किलों का सामना कर रही हैं. हालांकि, सरकार द्वारा इस क्षेत्र के रिवाइवल पर ध्यान दिया जाना स्वागत योग्य कदम है.

GDP बैक सीरीज डाटा में छिपी है ‘पहेली’, स्पष्टता लाने के लिए एक्सपर्ट करें रिव्यू: अरविंद सुब्रमण्यन

2000 के नोट लाने की क्या थी जरूरत?

नोटबंदी पर उदय कोटक ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यदि कुछ सरल सी चीजों के बारे में सोचा गया होता, तो नोटबंदी नतीजा उल्लेखनीय रूप से बेहतर होता. यदि 500 और 1,000 के नोट बंद किए जाने थे तो 2,000 का नोट शुरू करने की क्या जरुरत थी?’’ आगे कहा कि नोटबंदी को लागू करने की रणनीति के तहत यह सुनिश्चित करना जरूरी था कि सही मूल्य के नोट बड़ी संख्या में उपलब्ध कराए जाते. यदि ये सब चीजें की गई होतीं तो आज हम कुछ अलग तरीके से बात कर रहे होते.

वित्तीय बचत में वृद्धि अविश्वसनीय

हालांकि, कोटक ने यह भी दावा किया कि नोटबंदी वित्तीय क्षेत्र के लिए वरदान साबित हुई है. उन्होंने कहा कि वित्तीय बचत में वृद्धि अविश्वसनीय है. हालांकि इससे जोखिम प्रबंधन की चुनौती भी खड़ी हुई है.

executed

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. अच्छी प्लानिंग के साथ लागू नहीं हो पाई नोटबंदी, वर्ना कुछ और होते नतीजे: उदय कोटक

Go to Top