सर्वाधिक पढ़ी गईं

Covid-19: हवा में 10 मीटर तक जा सकता है कोरोना वायरस, मास्क और कमरे में एसी-पंखे के लिए नई गाइलाइंस जारी

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के कार्यालय ने सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेंन करते हुए जरूरी सावधानियां बरतने को कहा है.

Updated: May 20, 2021 2:38 PM
Aerosols can travel up to 10 meters says Centre new Covid-19 advisoryदेश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर पिछले साल के मुकाबले अधिक तेजी से लोगों को संक्रमित कर रही है. (File Photo- PTI)

Covid-19 Guidelines: देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर पिछले साल के मुकाबले अधिक तेजी से लोगों को संक्रमित कर रही है. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के कार्यालय ने सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेंन करते हुए जरूरी सावधानियां बरतने को कहा है. इसके मुताबिक SARS-CoV-2 का संक्रमण एरोसोल और ड्रॉपलेट्स के जरिए तेजी से फैल रहा है और छींकने से निकला एरोसोल हवा में 10 मीटर की दूरी तक जा सकता है. इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के 2 मीटर के दायरे में ड्रॉपलेट्स गिरती है.
‘स्टॉप द ट्रांसमिशन, क्रश द पैंडेंमिक’ (संक्रमण को रोको, महामारी को खत्म करो) के नाम से जारी गाइडलाइंस में पैनल में कहा है कि यह हमेशा याद रखना चाहिए कि जिन लोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं, वे भी वायरस को फैला सकते हैं.

बंद कमरे में एसी चलाने पर तेज हो सकता है संक्रमण

पैनल द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में उचित तरीके से वेंटीलेशन की व्यवस्था करने का सुझाव दिया गया है ताकि वायरस के फैलाव को थामा जा सके. पैनल ने कहा कि खिड़की और दरवाजे बंद कर एसी चलाने पर कमरे के अंदर संक्रमण फैल सकता है और इससे कोरोना संक्रमित शख्स से अन्य लोगों को संक्रमण होने की आशंका बढ़ जाती है. एडवायजरी में ऑफिसेज, ऑडिटोरियम, शॉपिंग मॉल्स और अन्य बंद सार्वजनिक स्थानों पर गैबल फैन सिस्टम और रूफ वेंटिलेटर्स का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है. पैनल ने फ्रिक्वेंटली फिल्टर्स की सफाई और इसके रिप्लेसमेंट की सलाह दी है.

COVID-19: घर बैठे खुद करें कोरोना टेस्ट, ICMR ने होम टेस्टिंग किट को दी मंजूरी; ऐसे करेगा काम

गांवों में टेस्टिंग बढ़ाने का सुझाव

किसी सतह के जरिए ट्रांसमिशन से वायरस कैसे फैलता है, इसे लेकर एडवायजरी में कहा गया है कि किसी संक्रमित शख्स के छींकने से ड्रॉपलेट्स कई सतह पर जाते हैं और वहां वे लंबे समय तक बने रहते हैं. ऐसे में पैनल ने डोर हैंडल्स, लाईट स्विचेज, टेबल्स, कुर्सियां और फर्श को ब्लीच और फिनाइल के जरिए असंक्रमित किया जाना चाहिए. पैनल ने कहा कि जिस तरह से कमरे में किसी सुगंध या दुर्गंध को खिड़की-दरवाजे खोलकर या एग्जॉस्ट सिस्टम के जरिए दूर किया जा सकता है, वैसे ही कमरे में वेंटिलेशन सही कर संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है.पैनल ने सरकार को ग्रामीण व अर्द्ध-शहरी इलाकों में कम्यूनिटी-लेवल पर टेस्टिंग और आईसोलेशन को बढ़ाने की सलाह दी है. इसके अलावा ऐसे इलाकों में प्रवेश करने वाले लोगों का एंटीजन टेस्ट किया जाना चाहिए और टेस्ट करने वाले सभी स्वास्थ्य कर्मियों को एन95 मास्क का प्रयोग करने का सुझाव दिया गया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Covid-19: हवा में 10 मीटर तक जा सकता है कोरोना वायरस, मास्क और कमरे में एसी-पंखे के लिए नई गाइलाइंस जारी

Go to Top