मुख्य समाचार:

Q1 में SBI में हुए सबसे ज्यादा बैंकिंग फ्रॉड, 12,012 करोड़ रु आए चपेट में

अप्रैल से जून के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के 18 बैंकों में कुल 31,898.63 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 2,480 मामले सामने आए हैं.

September 8, 2019 7:22 PM
18 public sector banks hit by 2,480 cases of frauds involving Rs 32,000 crore in Q1, sbi TopsImage: Reuters

सूचना के अधिकार (RTI) से खुलासा हुआ है कि मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के 18 बैंकों में कुल 31,898.63 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 2,480 मामले सामने आए हैं. देश का शीर्ष बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) इस अवधि में धोखाधड़ी का सबसे बड़ा शिकार बना. कुल में से करीब 38 प्रतिशत धोखाधड़ी के मामले केवल इसी बैंक की ओर से जाहिर किए गए हैं.

मध्य प्रदेश के नीमच निवासी RTI कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने रविवार को बताया कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के एक अधिकारी ने उन्हें यह जानकारी दी है. RTI के तहत गौड़ को भेजे गए जवाब से पता चलता है कि 30 जून को समाप्त पहली तिमाही में SBI में धोखाधड़ी के 1,197 मामलों का पता चला जो कुल 12,012.77 करोड़ रुपये की राशि से संबंधित थे.

इलाहाबाद बैंक दूसरे तो PNB तीसरे नंबर पर

इस अवधि के दौरान बैंकिंग फ्रॉड की जद में आई सर्वाधिक धनराशि के मामले में इलाहाबाद बैंक दूसरे स्थान पर रहा. इलाहाबाद बैंक में कुल 2,855.46 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 381 मामले सामने आए. पंजाब नेशनल बैंक कुल 2,526.55 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 99 मामलों के साथ इस सूची में तीसरे पायदान पर रहा.

BoI का फेस्टिव ऑफर: कर्ज लेने पर नहीं लगेगी प्रोसेसिंग फीस, 8.35% पर मिलेगा होम लोन

अन्य बैंकों का क्या रहा आंकड़ा

मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बैंक ऑफ बड़ौदा में 2,297.05 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 75 मामले, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में 2,133.08 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 45 मामले, केनरा बैंक में 2,035.81 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 69 मामले, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में 1,982.27 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 194 मामले, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया में 1,196.19 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 31 मामले सामने आए.

आलोच्य अवधि में कॉरपोरेशन बैंक में 16 मामलों में 960.80 करोड़ रुपये, इंडियन ओवरसीज बैंक में 46 मामलों में 934.67 करोड़ रुपये, सिंडिकेट बैंक में 54 मामलों में 795.75 करोड़ रुपये, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में 51 मामलों में 753.37 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ इंडिया में 42 मामलों में 517.20 करोड़ रुपये, यूको बैंक में 34 मामलों में 470.74 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ महाराष्ट्र में 85 मामलों में 253.43 करोड़ रुपये, आंध्रा बैंक में धोखाधड़ी के 23 मामलों में 136.27 करोड़ रुपये, इंडियन बैंक में 37 मामलों में 37.17 करोड़ रुपये और पंजाब एंड सिंध बैंक में धोखाधड़ी के सिर्फ एक मामले में 2.2 लाख रुपये की धनराशि धोखाधड़ी की चपेट में आई.

कुल नुकसान का ब्योरा नहीं

बहरहाल, RBI की ओर से RTI के तहत मुहैया कराई गई जानकारी में बैंकिंग धोखाधड़ी की प्रकृति और इसके शिकार बैंक या उसके ग्राहकों को हुए नुकसान का विशिष्ट ब्योरा नहीं दिया गया है. आरटीआई अर्जी में गौड़ के एक सवाल पर RBI ने कहा कि उसके पास इसके आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं कि आलोच्य अवधि में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में धोखाधड़ी के मामलों में कुल कितनी राशि का नुकसान हुआ.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Q1 में SBI में हुए सबसे ज्यादा बैंकिंग फ्रॉड, 12,012 करोड़ रु आए चपेट में

Go to Top