RBI on Bank Privatisation : रिजर्व बैंक ने दी सफाई, कहा-बुलेटिन में RBI के नहीं, लेखकों के निजी विचार | The Financial Express

बैंकों के निजीकरण पर RBI की सफाई, कहा-हमारे बुलेटिन के लेख में लेखकों के निजी विचार

RBI के मुताबिक उसकी प्रेस रिलीज में साफ कहा गया है कि निजीकरण के मामले में धीरे-धीरे कदम बढ़ाने की सरकारी नीति की वजह से वित्तीय समावेशन के लक्ष्य को हासिल करने में कोई बाधा नहीं आएगी.

बैंकों के निजीकरण पर RBI की सफाई, कहा-हमारे बुलेटिन के लेख में लेखकों के निजी विचार
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सरकारी बैंकों के निजीकरण के मसले पर अपने बुलेटिन में प्रकाशित एक लेख से जुड़ी खबरों पर स्पष्टीकरण जारी किया है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सरकारी बैंकों के निजीकरण के मसले पर अपने बुलेटिन में प्रकाशित एक लेख से जुड़ी खबरों पर स्पष्टीकरण जारी किया है. आरबीआई ने कहा है कि कुछ खबरों में इस लेख के हवाले से यह निष्कर्ष निकाला गया है कि रिजर्व बैंक सरकारी बैंकों के निजीकरण के खिलाफ है, जो कि सही नहीं है. रिजर्व बैंक का कहना है कि उसके बुलेटिन में छपे लेख में कही गई बातें लेखकों के निजी विचार हैं. उन्हें रिजर्व बैंक की राय नहीं मानना चाहिए.

आरबीआई ने इस बारे में शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा है, “मीडिया में आई कुछ खबरों में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को सरकारी बैंकों के निजीकरण के खिलाफ बताया गया है. इन मीडिया रिपोर्ट्स में आरबीआई बुलेटिन के अगस्त 2022 अंक के एक लेख का जिक्र करते हुए यह बात कही गई है. प्राइवेटाइजेशन ऑफ पब्लिक सेक्टर बैंक्स : एन अल्टरनेट पर्सपेक्टिव (Privatisation of Public Sector Banks: An Alternate Perspective) शीर्षक से प्रकाशित यह लेख रिजर्व बैंक के शोधकर्ताओं ने लिखा है.”

रिजर्व बैंक के मुताबिक वह साफ करना चाहता है कि “इस लेख में लेखकों के निजी विचार दिए गए हैं, जो भारतीय रिजर्व बैंक के विचारों का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं. उस लेख में भी यह बात साफ तौर पर कही गई है.” इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने यह भी कहा है कि उसने अगस्त 2022 के अपने बुलेटिन के बारे में जो प्रेस रिलीज जारी की थी, उसमें साफ तौर पर कहा गया था कि निजीकरण के बारे में सरकार ने धीरे-धीरे कदम बढ़ाने की जो नीति अपनाई है, उसकी वजह से वित्तीय समावेशन के सामाजिक लक्ष्य को हासिल करने में किसी तरह की रुकावट नहीं आ रही है.

Adani Group के ओपन ऑफर को SEBI की मंजूरी; अंबुजा सीमेंट्स, एसीसी के और 26% शेयर खरीदने का रास्ता साफ

रिजर्व बैंक ने अपने बयान में इस बात की ओर भी ध्यान दिलाया है कि खबरों में जिस लेख का जिक्र किया गया है, उसके अंतिम पैराग्राफ में लिखा गया है कि हमारी आर्थिक सोच निजीकरण को हर मर्ज़ की दवा मानने वाली पुरानी मान्यता से काफी आगे आ चुकी है, जिसमें इस बात को स्वीकार किया जाने लगा है कि इस रास्ते पर आगे बढ़ते समय ज्यादा सोच-समझकर और बारीकियों का ध्यान रखते हुए कदम उठाने की जरूरत है. इसमें यह भी कहा गया है कि हाल के दिनों में सरकारी बैंकों के ‘मेगा मर्जर’ की वजह से सेक्टर का कन्सॉलिडेशन हुआ है, जिससे ज्यादा मजबूत, दमदार और प्रतिस्पर्धी बैंक उभरकर सामने आए हैं.

बैंक ब्रांच से NEFT का इस्तेमाल होगा महंगा? RBI ने 25 रुपये चार्ज लगाने का रखा प्रस्ताव

रिजर्व बैंक के मुताबिक उसके बुलेटिन में प्रकाशित लेख में यह भी कहा गया है कि इन बैंकों के प्राइवेटाइजेशन के बारे में ‘बिग-बैंग एप्रोच’ अपनाया जाना फायदे से ज्यादा नुकसान कर सकता है. सरकार पहले ही दो बैंकों के निजीकरण के अपने इरादे का एलान कर चुकी है. ऐसे ग्रैजुअल एप्रोच से यह सुनिश्चित होगा कि बड़े पैमाने पर निजीकरण की वजह से वित्तीय समावेशन (financial inclusion) और मॉनेटरी ट्रांसमिशन के महत्वपूर्ण सामाजिक लक्ष्यों को हासिल करने में किसी तरह की दिक्कत न हो. रिजर्व बैंक के बयान के मुताबिक इससे साफ जाहिर होता है कि लेख लिखने वाले शोधकर्ताओं का मानना है कि “बिग बैंग एप्रोच” की बजाय सरकार द्वारा घोषित ग्रैजुअल एप्रोच से बेहतर नतीजे हासिल होंगे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 20-08-2022 at 00:36 IST

TRENDING NOW

Business News