SBI रिसर्च ने घटाया भारत का ग्रोथ रेट अनुमान, सितंबर तिमाही में 5.8% रह सकती है वृद्धि दर | The Financial Express

SBI रिसर्च ने घटाया भारत का ग्रोथ रेट अनुमान, सितंबर तिमाही में 5.8% रह सकती है वृद्धि दर

SBI रिसर्च की तरफ से सोमवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में कमजोरी और मार्जिन के बढ़ते दबाव को देखते हुए इकोनॉमिक ग्रोथ रेट अनुमान में कटौती की गई है.

SBI रिसर्च ने घटाया भारत का ग्रोथ रेट अनुमान, सितंबर तिमाही में 5.8% रह सकती है वृद्धि दर
भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की रिसर्च टीम ने जुलाई-सितंबर तिमाही में देश की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया है.

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की रिसर्च टीम ने जुलाई-सितंबर तिमाही में देश की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया है. SBI रिसर्च टीम ने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में कमजोरी और मार्जिन के बढ़ते दबाव को देखते हुए इकोनॉमिक ग्रोथ रेट अनुमान में कटौती की है. एसबीआई रिसर्च की तरफ से सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी मिली. एसबीआई रिसर्च टीम के मुताबिक, मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत रह सकती है जो औसत अनुमान से 0.30 प्रतिशत कम है. सरकार की तरफ से जुलाई-सितंबर, 2022 तिमाही के जीडीपी आंकड़े 30 नवंबर को जारी किए जाने हैं.

S&P ने भारत के लिए ग्रोथ रेट अनुमान घटाया, FY23 में 7% की दर से बढ़ सकती है GDP

ग्रोथ रेट अनुमान में कमी की ये है वजह

एसबीआई के समूह मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्य कांति घोष की अगुवाई वाली टीम के मुताबिक, दूसरी तिमाही में बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र को छोड़कर बाकी कंपनियों के ऑपरेटिंग प्रॉफिट में 14 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में 35 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई थी. रिपोर्ट के मुताबिक, इस तिमाही में इन कंपनियों के राजस्व में वृद्धि दर अच्छी रही है लेकिन उनके लाभ में एक साल पहले की तुलना में करीब 23 प्रतिशत की गिरावट आई है. इसके अलावा बैंकिंग एवं वित्तीय क्षेत्र को छोड़कर अन्य लिस्टेड कंपनियों के मार्जिन पर दबाव भी देखा गया है. उत्पादन लागत बढ़ने से कंपनियों का परिचालन मार्जिन दूसरी तिमाही में घटकर 10.9 प्रतिशत रह गया जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह 17.7 प्रतिशत था. एसबीआई रिसर्च का मानना है कि ऐसी परिस्थितियों में दूसरी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर औसत बाजार अनुमान (6.1 प्रतिशत) से कहीं कम 5.8 प्रतिशत रह सकती है.

Dharmaj Crop Guard के IPO को निवेशकों का अच्छा रिस्पॉन्स, पहले ही दिन 1.79 गुना सब्सक्राइब हुआ इश्यू

मौजूदा वित्त वर्ष में 6.8 फीसदी वृद्धि दर का अनुमान

इसके साथ ही मौजूदा वित्त वर्ष की समूची अवधि में वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत रह सकती है जो भारतीय रिजर्व बैंक के पिछले अनुमान से 0.20 प्रतिशत कम है. एसबीआई रिसर्च का यह अनुमान 41 अग्रणी संकेतकों के समूह पर आधारित समग्र सूचकांक पर आधारित है. घोष ने कहा कि यह अनुमान दर्शाता है कि जून और सितंबर के बीच आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती रही लेकिन अक्टूबर में आर्थिक गतिविधियों के सुधरने से तीसरी तिमाही में आंकड़े बेहतर होने की उम्मीद बंधती है. उन्होंने कहा कि कई संकेतक वैश्विक झटकों, मुद्रास्फीति-जनित दबावों और बाहरी मांग में कमी के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था के जुझारू चरित्र को दर्शाते हैं.

(इनपुट-पीटीआई)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 28-11-2022 at 22:06 IST

TRENDING NOW

Business News