दूसरी तिमाही में 6.3% की दर से बढ़ी देश की अर्थव्यवस्था, NSO ने जारी किए आंकड़े | The Financial Express

India GDP Q2FY23: दूसरी तिमाही में 6.3% की दर से बढ़ी देश की अर्थव्यवस्था, NSO ने जारी किए आंकड़े

NSO द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की अर्थव्यवस्था 6.3 फीसदी की दर से बढ़ी है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 8.4 फीसदी रही थी.

India GDP Q2FY23: दूसरी तिमाही में 6.3% की दर से बढ़ी देश की अर्थव्यवस्था, NSO ने जारी किए आंकड़े
मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की अर्थव्यवस्था 6.3 फीसदी की दर से बढ़ी है.

GDP Data for Jul-Sept 2022 Quarter: देश की आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में धीमी पड़कर 6.3 प्रतिशत रही. मुख्य रूप से मैन्युफैक्चरिंग और माइनिंग सेक्टर के कमजोर प्रदर्शन से विकास दर सुस्त पड़ी है. हालांकि भारत दुनिया में सबसे तेज ग्रोथ रेट वाली अर्थव्यवस्था बना हुआ है. चीन की वृद्धि दर 2022 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 3.9 प्रतिशत रही है. राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (NSO) की तरफ से बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, जुलाई-सितंबर तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत रही जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में यह 8.4 प्रतिशत थी. वहीं पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2022) में यह 13.5 प्रतिशत रही थी. जीडीपी देश की भौगोलिक सीमा में एक निश्चित समय अवधि में उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं के कुल मूल्य को बताता है.

RBI के अनुमान के अनुरूप रही विकास दर

दूसरी तिमाही की यह वृद्धि दर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के 6.1-6.3 प्रतिशत रहने के अनुमान के अनुरूप ही है. आरबीआई के इस महीने जारी बुलेटिन में प्रकाशित एक लेख में यह संभावना जताई गई थी. एनएसओ के बयान के अनुसार, ‘‘रियल यानी कॉस्टेंट प्राइस (2011-12) पर देश की जीडीपी 2022-23 की दूसरी तिमाही में 38.17 लाख करोड़ रुपये रही जबकि वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही में यह 35.89 लाख थी. यह 6.3 प्रतिशत वृद्धि को दर्शाता है. रियल जीडीपी 2020 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 33.10 लाख करोड़ रुपये थी. कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिये लगाये गये ‘लॉकडाउन’ के कारण वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में जीडीपी में 6.6 प्रतिशत की गिरावट आई थी.

अलग-अलग सेक्टर में कैसे रहा प्रदर्शन

आंकड़ों के अनुसार सकल मूल्य वर्धन (GVA) इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही में 5.6 प्रतिशत बढ़कर 35.05 लाख करोड़ रुपये रहा. कृषि क्षेत्र में GVA वृद्धि दर दूसरी तिमाही में 4.6 प्रतिशत रही जबकि एक साल पहले इसी तिमाही में यह 3.2 प्रतिशत थी. हालांकि विनिर्माण क्षेत्र में जीवीए वृद्धि दर में 4.3 प्रतिशत की गिरावट आई जबकि एक साल पहले दूसरी तिमाही में 5.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी. खनन क्षेत्र में भी जीवीए वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 2.8 प्रतिशत घटी जबकि एक साल पहले इसी तिमाही में 14.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी. निर्माण क्षेत्र में जीवीए वृद्धि दर घटकर 6.6 प्रतिशत रही जो एक साल पहले 2021-22 की दूसरी तिमाही में 8.1 प्रतिशत थी.

बिजली, गैस, जल-आपूर्ति और अन्य जन-केंद्रित सेवाओं की जीवीए वृद्धि इस तिमाही में 5.6 प्रतिशत रही जबकि एक साल पहले की दूसरी तिमाही में यह 8.5 प्रतिशत थी. सेवा क्षेत्र…होटल, व्यापार, परिवहन, संचार और सेवाओं… में जीवीए वृद्धि दर 14.7 प्रतिशत रही जबकि एक साल पहले 2021-22 की दूसरी तिमाही में यह 9.6 प्रतिशत थी. वित्तीय, रियल एस्टेट और पेशेवर सेवाओं की वृद्धि दर 7.2 प्रतिशत रही जो पहले 6.1 प्रतिशत थी. लोक प्रशासन, रक्षा और अन्य सेवाओं की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 6.5 प्रतिशत रही जो बीते वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 19.4 प्रतिशत थी. एनएसओ ने कहा कि वर्तमान मूल्य पर जीडीपी 2022-23 की दूसरी तिमाही में 65.31 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है जो 2021-22 की इसी तिमाही में 56.20 लाख करोड़ रुपये थी. यानी इसमें 16.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई जबकि एक साल पहले इसी तिमाही में इसमें 19 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी.

(इनपुट-पीटीआई)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 30-11-2022 at 18:21 IST

TRENDING NOW

Business News