scorecardresearch

Most Affordable Housing: अहमदाबाद किफायती घरों के मामले में देश में सबसे आगे, दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं ये शहर

Most Affordable Housing Market: नाइट फ्रैंक इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अहमदाबाद देश के टॉप-8 शहरों में सबसे अफोर्डेबल हाउसिंग मार्केट है. इसके बाद पुणे और चेन्नई का नंबर है.

मुंबई देश का सबसे महंगा आवासीय बाजार बना हुआ है बल्कि यह और महंगा हुआ है.
मुंबई देश का सबसे महंगा आवासीय बाजार बना हुआ है बल्कि यह और महंगा हुआ है. (Image- Pixabay)

Most Affordable Housing Market: होम लोन की ब्याज दरें बढ़ने के चलते अब ईएमआई महंगी हो रही है. ऐसे में अहमदाबाद (गुजरात) देश के आठ बड़े शहरों में सबसे सस्ते हाउसिंग मार्केट के रूप में उभरा है. यह खुलासा प्रॉपर्टी कंसल्टेंट नाइट फ्रैंक इंडिया की एक रिपोर्ट से हुआ है. नाइट फ्रैंक ने जनवरी से जून 2022 यानी इस साल की पहली छमाही के लिए अफोर्डेबिलिटी इंडेक्स जारी किया है. आज यानी 1 जुलाई को जारी इस इंडेक्स में औसत परिवार की आय के मुकाबले ईएमआई को ट्रैक किया जाता है. रिपोर्ट के मुताबिक रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में 0.90 फीसदी की बढ़ोतरी किए जाने से अपने घर के सपने को बड़ा झटका लगा है, क्योंकि इसके चलते बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों ने होम लोन पर ब्याज दरें बढ़ा दी हैं.

अहमदाबाद के बाद पुणे और चेन्नई बजट में

नाइट फ्रैंक इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अहमदाबाद 22 फीसदी अनुपात के साथ देश के टॉप-8 शहरों में सबसे अफोर्डेबल हाउसिंग मार्केट है. इसके बाद पुणे और चेन्नई का नंबर है. ये रिपोर्ट जनवरी-जून 2022 की अवधि के लिए है. अहमदाबाद साल 2019 से लगातार इस इंडेक्स में अव्वल आ रहा है.

Manufacturing PMI: बढ़ती महंगाई के चलते मैन्यूफैक्चरिंग ग्रोथ की कमजोर सेहत, जून में फिसला 9 महीने के निचले स्तर पर

मुंबई, हैदराबाद, दिल्ली-एनसीआर सबसे महंगे

रिपोर्ट के मुताबिक घरों के मामले में मुंबई देश का सबसे महंगा बाजार बना हुआ है. पिछले वर्ष के मुकाबले यह और भी महंगा हुआ है. मुंबई के बाद देश का सबसे महंगा रेजिडेंशियल मार्केट हैदराबाद है. महंगे आवासीय बाजार के मामले में दिल्ली-एनसीआर तीसरे नंबर पर हैं.

टॉप 8 शहरों का अफोर्डेबेलिटी इंडेक्स

शहर अफोर्डेबिलिटी इंडेक्स (2021)अफोर्डेबिलिटी इंडेक्स (जनवरी-जून 2022)
अहमदाबाद 2022
पुणे 2426
चेन्नई 2526
कोलकाता 2527
बेंगलूरु 2628
दिल्ली एनसीआर 2830
हैदराबाद 2931
मुंबई 2356

6.97 फीसदी बढ़ गया ईएमआई का बोझ

आरबीआई ने लंबे समय तक रेपो रेट को दर को निम्नतम स्तर पर बनाए रखा था लेकिन उसके बाद पिछले दो महीने में लगातार दो बार में कुल 0.90 फीसदी की बढ़ोतरी का ऐलान किया. रेपो रेट में 90 बीपीएस (0.90 फीसदी ) की बढ़ोतरी के चलते देश भर में लोगों की घर खरीदने की क्षमता औसतन 2 फीसदी घट गई और ईएमआई का बोझ 6.97 फीसदी बढ़ गया.

(Image- PTI)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Most Read In Consumer News

TRENDING NOW

Business News