मुख्य समाचार:
  1. IISC सर्वश्रेष्ठ संस्थान, IIT Madras सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेज: एचआरडी मंत्रालय

IISC सर्वश्रेष्ठ संस्थान, IIT Madras सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेज: एचआरडी मंत्रालय

दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज, एम्स को सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य देखभाल संस्थान और बेंगलूर स्थित नेशनल लॉ स्कूल आॅफ इंडिया यूनिर्विसटी को देश में सर्वश्रेष्ठ विधि कॉलेज चुना गया.

April 3, 2018 6:02 PM
hrd ministry, prakash javadekar, iisc, iit chennai, iit madras, iim ahmedabad, delhi university, miranda house, aiims, jnu, bhu,दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज, एम्स को सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य देखभाल संस्थान और बेंगलूर स्थित नेशनल लॉ स्कूल आॅफ इंडिया यूनिर्विसटी को देश में सर्वश्रेष्ठ विधि कॉलेज चुना गया.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अपनी राष्ट्रीय रैंकिंग में बेंगलूर स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) को समग्र रूप से सर्वश्रेष्ठ संस्था चुना है. यहां विज्ञान भवन में एक कार्यक्रम में रैंकिंग की घोषणा करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मद्रास स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान( आईआईटी- एम) को सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेज और अहमदाबाद स्थित भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम- ए) को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन संस्थान चुना गया है.

राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग ढांचे (एनआईआरएफ) के मुताबिक, दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य देखभाल संस्थान और बेंगलूर स्थित नेशनल लॉ स्कूल आॅफ इंडिया यूनिर्विसटी (एनएलएसआईयू) को देश में सर्वश्रेष्ठ विधि कॉलेज चुना गया.

विश्वविद्यालय श्रेणी में भारतीय विज्ञान संस्थान को पहले, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय( जेएनयू) को दूसरे और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) को तीसरे पायदान पर रखा गया. भारतीय विज्ञान संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, उद्योगपति जमशेदजी टाटा, मैसूर के महाराजा और भारत सरकार की साझेदारी से 1909 में इस संस्थान की स्थापना की गई थी.

इस बीच, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एनआईआरएफ में सार्वजनिक संस्थानों की भागीदारी को अगले वर्ष से अनिवार्य कर दिया है. मंत्री जावड़ेकर ने यह जानकारी दी. जावड़ेकर ने कहा, ‘‘ एनआईआरएफ में भागीदारी नहीं करने वाले सार्वजनिक संस्थानों को मिलने वाली धनराशि में कटौती का सामना करना पड़ेगा.’’ पहले इस रैंकिंग ढांचे में भागीदारी अनिवार्य नहीं थी.

Go to Top