मुख्य समाचार:

राणा कपूर 11 मार्च तक ED की हिरासत में, Yes Bank फाउंडर ने कहा- हर दस्तावेज देने को तैयार

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को मुंबई की एक अदालत ने रविवार को 11 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया.

Published: March 8, 2020 4:50 PM
yes bank founder rana kapoor in ED custody, Yes Bank, Rana Kapoor, DHFL, yes bank NPA, yes bank capital crisis, राणा कपूर ईडी की हिरासत में, ईडी, यस बैंकयस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को मुंबई की एक अदालत ने रविवार को 11 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया.

मनी लॉन्डिंग के मामले में गिरफ्तार यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को मुंबई की एक अदालत ने रविवार को 11 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेज दिया. अधिकारियों ने कहा कि ईडी ने निजी बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी कपूर (62) को धन शोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के तहत रविवार तड़के करीब तीन बजे गिरफ्तार किया क्योंकि वह कथित तौर पर जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे. कपूर को निजी बैंक के संचालन में कथित वित्तीय अनियमितता और कुप्रबंधन के आरोपों के बाद गिरफ्तार किया गया था. भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार ने इसके कामकाज को नियंत्रित करने के लिये कदम उठाए हैं.

ईडी ने कपूर को यहां एक अवकाश अदालत के समक्ष पेश किया जिसने उसे 11 मार्च तक जांच एजेंसी की हिरासत में भेजे जाने का आदेश दिया. प्रवर्तन निदेशालय ने कहा कि कपूर के परिवार द्वारा संचालित कुछ कंपनियों की भूमिका स्थापित किये जाने और इन सभी लोगों का आरोपी से आमना-सामना कराए जाने की जरूरत है. बचाव पक्ष के वकील ने हालांकि कहा कि कपूर को ईडी ने चुन कर निशाना बनाया है जबकि वह जांच एजेंसी से सहयोग कर रहे हैं.

हम सहयोग के लिये तैयार

कपूर ने अदालत में कहा कि हम सहयोग के लिये तैयार हैं और एजेंसी जो दस्तावेज चाहती है वो देने के लिये भी राजी हैं. मैंने उनके साथ पूरा सहयोग किया है. ईडी एक कंपनी द्वारा कथित रूप से प्राप्त 600 करोड़ रुपये के कोष के मामले में कपूर, उनकी पत्नी तथा तीन बेटियों के खिलाफ जांच कर रहा है. जिस कंपनी को यह राशि मिली, उसका नियंत्रण कथित रूप से उनके द्वारा नियंत्रित थी. कंपनी को यह राशि दीवान हाउसिंग फाइनेंस लि. (डीएचएफएल) से जुड़ी इकाई से मिली थी.

संदेह की नजर में 600 करोड़

कपूर से जुड़ी कंपनी डीओआईटी अरबन वेंचर्स (इंडिया) प्राइवेट लि. कथित रूप से यह कोष प्राप्त किया. यह कोष उस समय प्राप्त किया गया जब 3,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज डीएचएफएल को दिया गया था. डीएचएफएल के खिलाफ कथित वित्तीय अनियमिततताओं को लेकर जांच जारी है. सूत्रों के अनुसार बैंक ने फंसे कर्ज (एनपीए) की वसूली को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की. एजेंसी को संदेह है कि 600 करोड़ रुपये का कोष कथित रिश्वत का हिस्सा हो सकता है. यह राशि एक-दूसरे को लाभ पहुंचाने के लिये उस कंपनी को मिली जिसका नियंत्रण कपूर परिवार के पास था.

डीओआईटी कंपनी उनकी 2 बेटियों के नाम

राणा कपूर ने अदालत को बताया कि डीओआईटी कंपनी उनकी दो बेटियों राधा कपूर और रोशनी कपूर के नाम है. यस बैंक ने ट्रिपल ए रेटिंग वाली डीएचएफएल कंपनी को करीब 3700 करोड़ रुपये का कर्ज दिया था और बाद में डीओआईटी कंपनी ने डीएचएफएल से करीब 600 करोड़ रुपये उधार लिये थे. राणा कपूर ने कहा कि डीओआईटी कंपनी अब भी कर्ज चुका रही है और वह एनपीए नहीं है. उन्होंने कहा कि वह पिछले कुछ दिनों से बीमार थे लेकिन वह ईडी से सहयोग कर रहे हैं. ईडी ने हालांकि अदालत से कहा कि वह व्यापक जांच करना चाहती है और कई लोग जांच के दायरे में हैं. अदालत ने इस पर राणा कपूर को 11 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. राणा कपूर 11 मार्च तक ED की हिरासत में, Yes Bank फाउंडर ने कहा- हर दस्तावेज देने को तैयार

Go to Top