सर्वाधिक पढ़ी गईं

Ease of Doing Business रिपोर्ट प्रकाशित नहीं करेगा वर्ल्ड बैंक, कहा- चीन की रैंकिंग बढ़ाने के लिए डाला गया था दबाव

बैंक के ही बड़े अधिकारियों का रैंकिंग में हेरफेर करने का भारी दबाव था. उन अधिकारियों में वर्ल्ड बैंक की तत्कालीन चीफ एग्जीक्यूटिव क्रिस्टिलिना जॉर्जिवा भी थीं. उन्होंने 2017 में चीन की रैंकिंग बढ़ाने का दबाव डाला था.

September 17, 2021 3:36 PM
जांच में डेटा में गड़बड़ी के लिए दबाव की बाद वर्ल्ड बैंक ने डुइंग बिजनेस रिपोर्ट न छापने का फैसला लिया

वर्ल्ड बैंक ने ( World Bank) ने डेटा में गड़बड़ियों की वजह से ‘ डुइंग बिजनेस रिपोर्ट’ प्रकाशित नहीं करने का फैसला किया है. दुनिया में तमाम देशों के बिजनेस माहौल पर छापी जाने वाली इस रिपोर्ट को ‘ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रिपोर्ट’ भी कहा जाता है. वर्ल्ड बैंक ने एक जांच के बाद कहा है इसे डेटा में गड़बड़ी करने के लिए दबाव बनाने के सुबूत मिले हैं. बैंक के ही बड़े अधिकारियों का रैंकिंग में हेरफेर करने का भारी दबाव था. उन अधिकारियों में वर्ल्ड बैंक की तत्कालीन चीफ एग्जीक्यूटिव क्रिस्टिलिना जॉर्जिवा भी थीं. उन्होंने 2017 में चीन की रैंकिंग बढ़ाने का दबाव डाला था.

चीन की रैंकिंग बढ़ाने का था दबाव

वर्ल्ड बैंक ने एक बयान में कहा है कि ‘Doing Business Reports’ न छापने का फैसला एक इंटरनल ऑडिट के बाद लिया गया. इस इंटरनल ऑडिट में कई नैतिक मुद्दे उठाए गए थे. इनमें बोर्ड के प्रमुख अधिकारियों और वर्ल्ड बैंक के मौजूदा और पूर्व अधिकारियों के आचरण से जुड़े सवाल भी हैं. लॉ फर्म Wilmar Hale ने इस संबंध में जांच की थी. Wilmar Hale की रिपोर्ट में कहा गया है कि रिपोर्ट प्रकाशित करने वाले ग्रुप पर वर्ल्ड बैंक के सीनियर अधिकारियों का ‘सीधा और परोक्ष दबाव’ था. ये अधिकारी रैंकिंग को प्रभावित करना चाहते थे. इनमें वर्ल्ड बैंक के पूर्व प्रेसिडेंट जिम योंग किम भी शामिल हैं. किम रिपोर्ट में इस्तेमाल किए गए तरीकों में बदलाव करना चाहते थे ताकि चीन की रैंकिंग बढ़ जाए और लगता है ऐसा हुआ भी है.

Bad Bank announced : सरकार ने किया बैड बैंक बनाने का ऐलान, 30,600 करोड़ रुपये की दी गारंटी

देशों के बिजनेस माहौल की जांच करती है यह रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस समय इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड की मैनेजिंग डायरेक्टर क्रिस्टिलिना जॉर्जिवा और एक प्रमुख सलाहकार ने कर्मचारियों पर चीन की रैंकिंग बढ़ाने के लिहाज से डेटा में खास बदलाव करने का दबाव डाला था. चीन की रैंकिंग बढ़ाने का दबाव उस दौर में डाला गया, जब वर्ल्ड बैंक अपने लिए उससे ज्यादा फंड की मांग कर रहा था. डुइंग बिजनेस रिपोर्ट 2018 अक्टूबर 2017 में प्रकाशित हुई थी. इसमें डेटा विश्लेषण के तरीकों में बदलाव की वजह से चीन की रैंकिंग बढ़ कर 78 हो गई थी. डुइंग बिजनेस रिपोर्ट में किसी देश में रेगुलेटरी माहौल, बिजनेस स्टार्ट-अप के लिए मिल रही सुविधा, इन्फ्रास्ट्रक्चर और बिजनेस के माहौल को देखा जाता है. इन्हीं के आधार पर इसमें तमाम देशों की रैंकिंग की जाती है.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Ease of Doing Business रिपोर्ट प्रकाशित नहीं करेगा वर्ल्ड बैंक, कहा- चीन की रैंकिंग बढ़ाने के लिए डाला गया था दबाव

Go to Top