सर्वाधिक पढ़ी गईं

Akshaya Tritiya: इस अक्षय तृतीया Gold से पोर्टफोलियो करें ‘Bold’, अगले 3 महीने में हो सकती है निवेशकों की चांदी

Gold Investment: देश और दुनिया के दूसरे देशों में कोरोना महामारी के बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सेफ हैवन माने जाने वाले सोने में एक बार फिर तेजी आने लगी है.

Updated: May 04, 2021 2:59 PM
Gold InvestmentGold Investment: कोरोना महामारी के बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सेफ हैवन माने जाने वाले सोने में एक बार फिर तेजी आने लगी है.

Invest in Gold on Akshaya Tritiya 2021: देश और दुनिया के दूसरे देशों में कोरोना महामारी के बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सेफ हैवन माने जाने वाले सोने में एक बार फिर तेजी आने लगी है. एमसीएक्स पर सोना आज 47450 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच गया है. जबकि मार्च के महीने में सोना करीब 44000 रुपये के आस पास तक कमजोर हो गया था. एक्सपर्ट का कहना है कि मौजूदा माहौल सोने में निवेश के लिए अनुकूल दिख रहा है. कोविड के खतरे को देखते हुए इक्विटी मार्केट में गिरावट का अनुमान है. वहीं ब्याज दरें भी निचले स्तरों पर बनी हुई हैं. ऐसे में इस बार अक्षय तृतीया पर सोने में निवेश अच्छा विकल्प हो सकता है.

अक्षय तृतीया के मौके पर सोना खरीदना शुभ

इस साल 14 मई को अक्षय तृतीया है. भारत में अक्षय तृतीया के मौके पर सोना खरीदना शुभ माना जाता है. हर साल अक्षय तृतीया पर बिक्री में काफी इजाफा रहता है. आमतौर पर जो गोल्ड आयात 60-70 टन सोने का रहता है, वह अक्षय तृतीया को देखते हुए 100 टन तक पहुंच जाता है. अगर आप भी इस मौके पर सोने में निवेश के बारे में सोच रहे हैं तो फिजिकल गोल्ड, गोल्ड बांड या ईटीएफ जैसे विकल्प अपना सकते हैं. वैसे अभी भी सोना अपने रिकॉर्ड हाई से करीब 9 हजार रुपये सस्ता बिक रहा है. पिछले साल अगस्त में सोने ने 56000 रुपये प्रति 10 ग्राम का भाव पार किया था. वहीं अभी यह 47400 रुपये के करीब ट्रेड कर रहा है.

अगले 3 महीने में कितना मिल सकता है रिटर्न

आईआईएफएल सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड रिसर्च) अनुज गुप्ता का कहना है कि अगले 3 महीनों में सोना 48500 रुपये प्रति 10 ग्राम का स्तर पार कर सकता है. कोविड19 के चलते इक्विटी मार्केट में करेक्शन बढ़ने की आशंका, डॉलर में कमजोरी, फेड द्वारा ब्याज दरों को निचले स्तरों पर बनाए रखने और यूएस इकोनॉमी में सुस्त रिकवरी से सोने की कीमतों को सपोर्ट मिलेगा. वहीं सेंट्रल बैंक द्वारा खरीददारी और घरेलू स्तर पर अक्षय तृतीया व वेडिंग सीजन पर डिमांड बढ़ने से भी सपोर्ट मिलेगा.

20 साल में चाहिए 1.5 करोड़, क्या 5 हजार मंथली SIP से पूर होगा लक्ष्य? चेक करें टॉप स्कीम का रिटर्न

आने वाले 3 महीने सोने के लिए रहे हैं बेहतर

आने वाले महीनों पर नजर डालें तो पिछले 10 से 11 साल की रिटर्न हिस्ट्री यह कहती है कि सोने में आगे तेजी आएगी. हालांकि यह तेजी मई के बाद स्टेबल होगी. जून, जुलाई और अगस्त में मौजूदा लेवल से सोने में निवेश अच्छा रिटर्न दिला सकता है. सोने में रिटर्न हिस्ट्री देखें तो जून, जुलाई और अगस्त में निवेशकों को औसतन पिछले 10 साल में पॉजिटिव रिटर्न मिला है.

पिछले 10 साल में औसत रिटर्न

जून: 1.45%
जुलाई: 1.47%
अगस्त: 6.59%

(सोर्स: केडिया एडवाइजरी)

यहां आंकड़ों पर नजर डालें तो जून, जुलाई और अगस्त में सोना शानदार रिटर्न देता आया है. जबकि इन 10 सालों के दौरान अगस्त पूरे साल में रिटर्न देने के मामले में सबसे बेहतर महीना रहा है.

फिजिकल गोल्ड Vs बॉन्ड Vs ​ETF

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक, गोल्ड में निवेश फिजिकल फॉर्म में किया जाए या बॉन्ड या ​ETF में यह परिदृश्य पर निर्भर करता है. उदाहरण के तौर पर ग्रामीण इलाकों में सोने की खरीद खपत के लिए की जाती है. वहां के लोग इसे फिजिकल फॉर्म में खरीदना ज्यादा बेहतर मानते हैं. वहीं शहरी क्षेत्रों में गोल्ड को खपत से ज्यादा निवेश विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. लिहाजा शहर में गोल्ड ईटीएफ और फ्यूचर ट्रेडिंग का ट्रेंड रहता है. लांग टर्म अवधि के लिए बॉन्ड या ईटीएफ लेना फायदेमंद है. हालांकि बॉन्ड और ईटीएफ में गोल्ड ज्वैलरी की तरह मेकिंग चार्ज नहीं देना पड़ता. रख रखाव का झंझट भी नहीं होता है. वहीं गोल्ड बॉन्ड में तो सालाना ब्याज भी मिलता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Akshaya Tritiya: इस अक्षय तृतीया Gold से पोर्टफोलियो करें ‘Bold’, अगले 3 महीने में हो सकती है निवेशकों की चांदी

Go to Top