मुख्य समाचार:

विप्रो ने बाजार को चौंकाया, एक्सपर्ट ने बताया- डार्क हॉर्स; क्या करना चाहिए निवेश?

कोरोना महामारी के बीच आईटी कंपनी विप्रो के नतीजों ने बाजार को चौंका दिया है. विप्रो ने जून तिमाही में 2390 करोड़ का नेट प्रॉफिट दर्ज किया है.

Published: July 15, 2020 11:03 AM
Wipro, IT Company Wipro, why IT company wipro Q1 performance surprised market, experts says dark horse to Wipro, should you invest in Wipro stock, wipro result, विप्रो, विप्रो का शेयर, wipro profit, wipro EBIT margin, विप्रो के शेयर में निवेश, विप्रो के तिमाही नतीजेकोरोना महामारी के बीच आईटी कंपनी विप्रो के नतीजों ने बाजार को चौंका दिया है. विप्रो ने जून तिमाही में 2390 करोड़ का नेट प्रॉफिट दर्ज किया है.

कोरोना महामारी के बीच आईटी कंपनी विप्रो के नतीजों ने बाजार को चौंका दिया है. विप्रो ने जून तिमाही में 2390 करोड़ का नेट प्रॉफिट दर्ज किया है. 2019 में जून तिमाही में कंपनी को 2388 करोड़ का मुनाफा हुआ था. जहां दिग्गज कंपनी टीसीएस का मुनाफा जून तिमाही में 13 फीसदी से ज्यादा घटा है, वहीं टीसीएस ने इसमें मामूली तेजी दर्ज की है. कंपनी के आईटी सर्विस का रेवेन्यू भी इस दौरान बढ़ा है. नतीजों के बाद शेयर में आज 17 फीसदी तक तेजी आई है. कंपनी के नतीजों के बाद ब्रोकरेज हाउस भी इसे लेकर अपनी राय बनाने लगे हैं. किसी ने खरीद की सलाह दी है तो किसी ने इस पर न्यूट्रल रेटिंग दी है.

नतीजे एक नजर में

जून तिमाही में कंपनी का मुनाफा 0.2 फीसदी बढ़कर 2390 करोड़ रुपये रहा है. वहीं कुल रेवेन्यू भी सालाना आधार पर 14,716 करोड़ से बढ़कर 14,913 करोड़ रहा. कंपनी के आईटी सर्विस का रेवेन्यू इस तिमाही 14,596 करोड़ रहा जो पिछले साल इसी तिमाही में 14,351 करोड़ रहा था. विप्रो के अनुसार कंपनी के प्रदर्शन को प्रति शेयर कमाई के आधार देखा जाना चाहिए जो सालाना आधार पर 5.7 फीसदी बढ़ी है. कंपनी ने कोविड-19 मद में 100 करोड़ रुपये की प्रतिबद्धता जतायी है.

शेयर में 17 फीसदी तेजी

नतीजों के बाद विप्रो के शेयर में बुधवार को करीब 17 फीसदी तेजी देखने को मिली है. इस तेजी के साथ शेयर 268.70 रुपये के भाव पर पहुंच गया. जबकि मंगलवार को यह 225 रुपये पर बंद हुआ था. शेयर के लिए 52 हफ्तों का हाई 276.15 रुपये है.

कई फैक्टर फेवर में

विप्रो के फेवर में कई फैक्टर दिख रहे हैं. कॉस्ट कंट्रोल और कलेक्शन की एबिलिटी से कंपनी अपना EBIT मार्जिन बढ़ाने में कामयाब रही है. जून तिमाही में विप्रो का EBIT 3.3 फीसदी बढ़कर 2,782.2 करोड़ रुपये रहा. जबकि EBIT मार्जिन तिमाही आधार पर 146 बीपीएस बढ़कर 19.06 फीसदी रहा है.

प्राइसिंग और वर्किंग कैपिटल पर कोविड-19 का असर अभी देखा जाना है लेकिन मैनेजिंग मार्जिन स्टेबिलिटी आउटलुक और हेल्दी कैश कंवर्जन बेहद प्रभावी दिख रहे हैं.

विप्रो के लिए डील फ्लो पहली तिमाही की तुलना में दूसरी तिमाही में और बेहतर दिख रहा है. ऐसे में आगे स्थिर रेवेन्यू की उम्मीद है.

मजबूत मैनेजमेंट भी कंपनी की मजबूती है और इससे ग्रोथ आउटलुक बेहतर दिख रहा है. आने वाले दिनों में मैनेजमेंट की स्ट्रैअेजी और साफ होगी.

किस ब्रोकरेज ने क्या दी सलाह

मोतीलाल ओसवाल ने विप्रो के लिए न्यूट्रल रेटिंग दी है और शेयर के लिए मंगलवार के 225 रुपये की तुलना में 257 रुपये का लक्ष्य दिया. ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर ने इसे सेल से अपग्रेड करते हुए बॉय रेटिंग दी और 257 रुपये लक्ष्य दिया. CLSA ने अंडरपरफॉर्म रेटिंग देते हुए 215 रुपये का लक्ष्य दिया है. जबकि केउिट सूईस ने रेटिंग अपग्रेड करते हुए बॉय कर दी है. इसके लिए 260 रुपये का लक्ष्य दिया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. विप्रो ने बाजार को चौंकाया, एक्सपर्ट ने बताया- डार्क हॉर्स; क्या करना चाहिए निवेश?

Go to Top