सर्वाधिक पढ़ी गईं

नए वित्त वर्ष में Gold कराएगा निवेशकों की चांदी! 10 साल में अप्रैल और अगस्त रिटर्न देने में बेस्ट

Gold Outlook: 1 अप्रैल से नया वित्त वर्ष शुरू हो रहा है. ऐसे में बहुत से निवेशक नए सिरे से अपना पोर्टफोलियो बनाने की सोच रहे होंगे.

Updated: Mar 31, 2021 11:57 AM
Gold Outlook in FY22Gold Outlook: 1 अप्रैल से नया वित्त वर्ष शुरू हो रहा है. ऐसे में बहुत से निवेशक नए सिरे से अपना पोर्टफोलियो बनाने की सोच रहे होंगे.

Gold Outlook: 1 अप्रैल से नया वित्त वर्ष शुरू हो रहा है. ऐसे में बहुत से निवेशक नए सिरे से अपना पोर्टफोलियो बनाने की सोच रहे होंगे. जानकार मानते हैं कि जब भी निवेया की प्लानिंग में करें बेहतर यह है कि पोर्टफोलियों में कुछ न कुछ हिस्सा (10-15%) सोने का भी रखें. सोने में हमेशा से ही एक स्टेबल रिटर्न मिलता आया है. लांग टर्म में सोना रिटर्न की गारंटी है. वैसे भी अगर बीते 10 साल की हिस्ट्री देखें तो आने वाले कुछ महीने रिटर्न के लिहाज से सबसे बेहतर रहे हैं. खासतौर से अप्रैल और अगस्त में सोना सबसे ज्यादा महंगा होता है. इन 10 सालों की बात करें तो अप्रैल से अगस्त तक सिर्फ मई में ही सोने पर कुछ दबाव रहा है.

रिकॉर्ड हाई से सोना 22% कमजोर

सोने की कीमतों में इस साल कमजोरी बनी हुई है. यूएस में 10 साल के बॉन्ड यील्ड बढ़ने से सोने में गिरावट और बढ़ गई है. बॉन्ड यील्ड 14 महीने के हाई पर पहुंच गया है. सोना रिकॉर्ड हाई से करीब 22 फीसदी सस्ता बिक रहा है. 31 मार्च के कारोबार में सोना एमसीएक्स पर 43900 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर ट्रेड कर रहा है. जबकि बीते साल अगस्त में सोना 56200 के पार रिकॉर्ड स्तर तक मजबूत हुआ था. यानी करीब 8 माह में सोना 12300 रुपये प्रति 10 ग्राम के आस पास तक डिस्काउंट पर आ गया है. एक्सपर्ट इस भारी भरकम डिस्काउंट को सोने में नए निवेश का अच्छा मौका मान रहे हैं.

बॉन्ड यील्ड में तेजी से जहां सोने को लेकर आकर्षण कम हुआ. वहीं शेयर बाजार की पिछले दिनों रैली ने भी निवेशकों को सोने से दूर किया है. रिकॉर्ड हाई के बाद बहुत से निवेशकों ने सोने में मुनाफा वसूली की है. कोरोना वायरस के खात्मे के लिए वैक्सीनेशन के चलते भी सोने जैसे एसेट क्लास का आकर्षण कुछ कम हुआ है. गोल्ड डिमांड में कमजोरी भी सोने में गिरावट की वजह रहे हैं.

आने वाले दिनों में सोने में तेजी का इतिहास

पिछले 10 साल की रिटर्न हिस्ट्री पर नजर डालें तो अगले कुछ महीने सोने के लिहाज से बेहतर रहे हैं. अप्रैल, जून, जुलाई और अगस्त में सोने में तेजी का इतिहास रहा है.

अप्रैल से अगस्त: 10 साल में औसत रिटर्न

अप्रैल: 2.38%
मई: (-)0.16%
जून: 1.45%
जुलाई: 1.47%
अगस्त: 6.59%

(सोर्स: केडिया एडवाइजरी)

(नोट: जनवरी, फरवरी, अक्टूबर और दिसंबर का भी औसत रिटर्न पॉजिटिव रहा है, लेकिन यह अप्रैल और अगस्त से कमजोर है.)

आगे सोने में आएगी तेजी

केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया का मानना है कि ने अगले 6 महीनों में सोने में 52500 रुपये/10 ग्राम का लक्ष्य दिया हैदुनियाभर में कोरोना वायरस की एक और लहर देखने को मिल रही है. भारत, यूएस और यूरोप के देशों में इसका प्रभाव बहुत ज्यादा है. अगर यह खतरा बढ़ता है तो एक बार फिर सोने जैसे सेफ हैवन माने जाने वाले एसेट क्लास को लेकर आकर्षण बढ़ेगा. उनका कहना है कि इक्विटी मार्केट में पिछले कुछ दिनों से इसी वजह से उतार चढ़ाव देखा भी जा रहा है. कोरोना के मामले बढ़ने जारी रहते हैं तो यह गिरावट बढ़ सकती है. यूएस सहित बड़े देशों में इकोनॉमी को फिर पूरी तरह से नॉर्मल होने में अभी समय लगेगा. आगे सेंट्रल बैकों ने भी सोने में खरीददारी के संकेत दिए हैं. इससे सोने को सपोर्ट मिलेगा.

(नोट: हमने यहां जानकारी एक्सपर्ट से बातचीत और ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर दी है. बाजार में निवेश जोखिम के अधीन हैं. इसलिए निवेश के पहले एक्सपर्ट की राय लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. नए वित्त वर्ष में Gold कराएगा निवेशकों की चांदी! 10 साल में अप्रैल और अगस्त रिटर्न देने में बेस्ट

Go to Top