सर्वाधिक पढ़ी गईं

Gold ETF: कोरोना काल में 4 गुना बढ़ा निवेश, निवेश के पहले समझें गोल्ड ईटीएफ के फायदे

Gold ETF Benefits: कोरोना क्राइसिस के बीच गोल्ड ईटीएफ निवेशकों का बड़ा भरोसा बनकर उभरा है.

April 12, 2021 3:55 PM
Gold ETF BenefitsGold ETF Benefits: कोरोना क्राइसिस के बीच गोल्ड ईटीएफ निवेशकों का बड़ा भरोसा बनकर उभरा है.

Gold ETF Benefits: कोरोना क्राइसिस के बीच गोल्ड ईटीएफ निवेशकों का बड़ा भरोसा बनकर उभरा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,919 करोड़ रुपये के करीब निवेश किए हैं. यह वित्त वर्ष 201920 की तुलना में 4 गुना ज्यादा है. तब गोल्ड ईटीएफ में 1614 करोड़ का निवेश आया था. यह लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी. म्यूचुअल फंडों की संस्था एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

असल में कोरोना वायरस महामारी के चलते कैपिटल मार्केट में जोखिम बढ़ा है. ग्रोथ को लेकर अनिश्चितता रही है. ऐसे में सोना निवेशकों के लिए सेफ हैवन बन गया है. बीते वित्त वर्ष में सोने ने जहां पहली बार 50 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम का भाव पार किया, वहीं 56000 के पार जाकर अपना आलटाइम हाई भी बनाया. इसी वजह से सुरक्षित माने जाने वाले गोल्ड ईटीएफ में रिकॉर्ड निवेश आया है.

क्या है गोल्ड ईटीएफ

पेपर गोल्ड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका गोल्ड ईटीएफ खरीदना है. यह एक ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड होता है, जो सोने की गिरते चढ़ते भावों पर आधारित होता है. ईटीएफ बहुत अधिक कॉस्ट-इफेक्टिव होता है. एक गोल्ड ईटीएफ यूनिट का मतलब है कि 1 ग्राम सोना. वह भी पूरी तरह से प्योर. यह गोल्ड में इन्वेस्टमेंट के साथ स्टॉक में इन्वेस्टमेंट की फ्लेक्सिबिलिटी देता है. गोल्ड ईटीएफ की खरीद और बिक्री शेयर की ही तरह बीएसई और एनएसई पर की जा सकती है.

गोल्ड ईटीएफ के फायदे

  • शेयरों की तरह गोल्ड ईटीएफ यूनिट्स खरीद सकते हैं.
  • फिजिकल गोल्ड के मुकाबले परचेजिंग चार्ज कम होता है.
  • 100 फीसदी शुद्धता की गारंटी मिलती है.
  • इसमें फिजिकल गोल्ड खरीदने और उसके रख रखाव का झंझट नहीं होता है.
  • लंबी अवधि में निवेश से अच्छा रिटर्न भी मिलता है.
  • इसमें SIP के जरिए निवेश की सुविधा है.
  • शेयर बाजार में निवेश के मुकाबले गोल्ड ETF में निवेश कम उतार चढ़ाव वाला होता है.
  • इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में होने की वजह से गोल्ड ETF में प्योरिटी को लेकर कोई दिक्कत नहीं होती.
  • गोल्ड ETF को डीमैट अकाउंट के जरिए ऑनलाइन खरीद सकते हैं.
  • हाई लिक्विडिटी यानी आप जब चाहें इसे खरीद और बेच सकते हैं.
  • गोल्ड ETF की शुरुआत आप 1 ग्राम यानि 1 गोल्ड ETF से भी कर सकते हैं.
  • टैक्स के मामले में फिजिकल गोल्ड से सस्ता है. गोल्ड ETF पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस चुकाना होता है.
  • गोल्ड ETF को लोन लेने के लिए सिक्योरिटी के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • फिजिकल सोने पर आपको मेकिंग चार्ज चुकाना होता है. लेकिन गोल्ड ETF में ऐसा नहीं होता है.

गोल्ड ईटीएफ में कैसे करें निवेश?

निवेश के लिए कम से कम एक यूनिट खरीदना जरूरी. हर यूनिट 1 ग्राम की होती है. गोल्ड ईटीएफ की खरीददारी शेयरों की ही तरह होती है. मौजूदा ट्रेडिंग खाते से ही गोल्ड ईटीएफ खरीद सकते हैं. गोल्ड ईटीएफ की यूनिट डीमैट खाते में जमा होती है. ट्रेडिंग खाते के जरिए ही गोल्ड ईटीएफ को बेचा जाता है.

क्या आगे भी रहेगा आकर्षण

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि दुनियाभर में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले फिर बढ़ रहे हैं. केंद्रीय बैंकों की ब्याज दरें नीचे हैं. शेयर बाजार में आगे भी दबाव की आशंका है. आने वाले समय को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है.ऐसे में गोल्ड आगे भी सेफ हैवन दिख रहा है. वैसे भी सोना अपने रिकॉर्ड हाई से 10 हजार रुपये के करीब डिस्काउंट पर है. ऐसे में सोने में निवेश का सही मौका है. हालांकि यह कहना मुश्किल है कि वित्त वर्ष 2021 की तरह ही गोल्ड ईटीएफ का आकर्षण इस साल भी बना रहेगा.

कुछ बेस्ट फंड

HDFC गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड
SBI ETF गोल्ड
ICICI प्रूडेंशियल गोल्ड ETF
निप्पॉन इंडिया ETF गोल्ड

इससे पहले निवेश का ट्रेंड

इससे पहले साल 2018-19 में गोल्ड ईटीएफ से शुद्ध रूप से 412 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी. 2017-18 में गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये निकाले गए थे. हालांकि, साल 2012-13 के दौरान इस सेगमेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. बीते कुछ सालों से रिटेल निवेशकों ने बेहतर रिटर्न की चाहत में गोल्ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी बाजार में अधिक पैसा डाला है.

(नोट: हमने यहां जानकारी एम्फी के डाटा, एक्सपर्ट से बात चीत और फंड के प्रदर्शन के आधार पर दी है. बाजार के जोखिम को देखते हुए निवेश के पहले एक्सपर्ट की राय लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Gold ETF: कोरोना काल में 4 गुना बढ़ा निवेश, निवेश के पहले समझें गोल्ड ईटीएफ के फायदे

Go to Top