Tata-Bisleri Deal: कौन हैं जयंती चौहान, जिन्होंने 7 हजार करोड़ की कंपनी को आगे बढ़ाने से कर दिया इनकार? 5 प्वाइंट में जानिए क्या है वजह | The Financial Express

Tata-Bisleri Deal: कौन हैं जयंती चौहान, जिन्होंने 7 हजार करोड़ की कंपनी को आगे बढ़ाने से कर दिया इनकार? 5 प्वाइंट में जानिए वजह

जयंती चौहान Bisleri के मालिक रमेश चौहान की बेटी हैं. रमेश चौहान ने बताया कि उनकी बेटी कारोबार में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखती हैं.

Tata-Bisleri Deal: कौन हैं जयंती चौहान, जिन्होंने 7 हजार करोड़ की कंपनी को आगे बढ़ाने से कर दिया इनकार? 5 प्वाइंट में जानिए वजह
भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वॉटर कंपनी Bisleri के मालिक रमेश चौहान जल्द ही इसे टाटा ग्रुप को बेचने वाले हैं. (फोटो-linkedin)

Tata Consumer-Bisleri Deal: भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वॉटर कंपनी Bisleri के मालिक रमेश चौहान जल्द ही इसे टाटा ग्रुप को बेचने वाले हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (Tata Consumer) और बिसलेरी के बीच इसे लेकर 7000 करोड़ की डील हो चुकी है. बिसलेरी के प्रोमोटर्स के साथ कंपनी को खरीदने के लिए टाटा कंज्यूमर से करीब 2 सालों से ये बातचीत चल रही थी, जिसके बाद डील पर जल्द मुहर लगने की संभावना है. कंपनी को बेचने की वजह यह है कि 82 साल के चौहान की हेल्थ इन दिनों में ठीक नहीं है. चौहान का कहना है कि बिसलेरी को विस्तार के अगले लेवल पर ले जाने के लिए उनके पास उत्तराधिकारी नहीं है. जयंती चौहान, रमेश चौहान की बेटी हैं और चौहान का कहना है कि वे कारोबार में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखतीं.

कौन हैं जयंती चौहान

37 साल की जयंती चौहान Bisleri के मालिक रमेश चौहान की इकलौती बेटी है. वे बिसलेरी इंटरनेशनल की वाइस चेयरपर्सन हैं. जयंती पिछले लगभग 13 सालों से अपने पिता का कारोबार संभाल रही हैं. उन्होंने 24 साल की उम्र में Bisleri के लिए काम करना शुरू कर दिया था. बिसलेरी के अलावा जयंती बिसलेरी मिनिरल वाटर, वेदिका नेचुरल मिनिरल वाटर, फिजी फ्रूट ड्रिंक और बिसलेरी हैंड प्यूरीफायर प्रोडक्ट्स के ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभाल रही हैं.

Share market Holidays December: अगले महीने कब-कब नहीं होगी BSE-NSE पर ट्रेडिंग, यहां चेक करें छुट्टियों की पूरी लिस्ट

बिसलेरी की ग्रोथ में रही है अहम भूमिका

  • बिसलेरी इंटरनेशनल की वर्तमान वाइस चेयरपर्सन जयंती चौहान ने अपना अधिकांश बचपन दिल्ली, बॉम्बे और न्यूयॉर्क शहर में बिताया है. हाई स्कूल से ग्रेजुएशन होने के बाद चौहान ने प्रोडक्ट डेवलपमेंट की पढ़ाई के लिए लॉस एंजिल्स के फैशन इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन एंड मर्चेंडाइजिंग (FIDM) में दाखिला लिया. बाद में वह फैशन स्टाइलिंग की पढ़ाई के लिए इस्टिटूटो मारांगोनी मिलानो चली गईं.
  • बिसलेरी की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, वह “JRC” के नाम से जानी जाती हैं. उन्होंने कंपनी में अपनी यात्रा तब शुरू की जब वह 24 साल की थी. पिता रमेश चौहान के गाइडेंस और लीडरशिप में उन्होंने अपना काम शुरू किया.
  • वेबसाइट में आगे बतया गया है, “जयंती ने दिल्ली ऑफिस का कामकाज संभाला, जहां उन्होंने जमीनी स्तर पर शुरुआत की और फैक्टरी के रेनोवेटिंग का काम पूरा किया. चौहान ने डिपार्टमेंट ऑफ एचआर, सेल्स और मार्केटिंग जैसे विभागों को फिर से खड़ा किया, ताकि मजबूत टीमों का निर्माण किया जा सके. उन्होंने 2011 में मुंबई ऑफिर का काम संभाला.”
  • बिसलेरी के अलावा जयंती बिसलेरी मिनिरल वाटर, वेदिका नेचुरल मिनिरल वाटर, फिजी फ्रूट ड्रिंक और बिसलेरी हैंड प्यूरीफायर प्रोडक्ट्स के ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभाल रही हैं. यह भी कहा गया है कि वह बिसलेरी में एडवर्टाइजिंग और कम्यूनिकेशन डेवलपमेंट में सक्रिय रूप से काम कर रही हैं.
  • वेबसाइट के मुताबिक, “वह कंपनी में सेल्स और मार्केटिंग टीमों का नेतृत्व कर रही है, इसके साथ ही बाजार में प्रवेश और ब्रांड वैल्यू दोनों को सुनिश्चित कर रही है. बिसलेरी की नई ब्रांड इमेज और बढ़ते पोर्टफोलियो के पीछे उनकी अहम भूमिका रही है.”

Mcap of Top 10 Firms: टॉप 10 में से 9 कंपनियों का मार्केट कैप 79,798 करोड़ बढ़ा, TCS-Infosys को सबसे ज्यादा मुनाफा

TCPL को होगा फायदा

अगर Bisleri के साथ TCPL की डील तय हो जाती है, तो यह टाटा ग्रुप की फर्म को तेजी से बढ़ते बोतलबंद पानी के सेक्‍टर में एक लीडिंग कंपनी के रूप में स्‍थापित कर सकता है. TCPL पहले से ही अपने ब्रॉन्‍ड हिमालयन के साथ बोतलबंद पानी के सेग्‍मेंट में मौजूद है, जो पैकेज्ड मिनरल वाटर बेच रहा है. इसके अलावा यह टाटा कॉपर प्लस वॉटर और टाटा ग्लूको के साथ हाइड्रेशन सेगमेंट में भी मौजूद है.

मजबूत है कंपनी का कारोबार

वित्त वर्ष 2023 के लिए बिसलेरी ब्रॉन्‍ड का कारोबार 220 करोड़ रुपये के लाभ के साथ 2,500 करोड़ रुपये होने का अनुमान है. Bisleri मूल रूप से एक इटालियन ब्रॉन्‍ड था जिसने 1965 में मुंबई में भारत में दुकान स्थापित की थी. चौहान ने 1969 में इसे अधिग्रहित किया था. कंपनी के 122 ऑपरेशनल प्लांट हैं और भारत और पड़ोसी देशों में 4,500 डिस्ट्रीब्यूटर्स और 5,000 ट्रकों का नेटवर्क है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 27-11-2022 at 14:18 IST

TRENDING NOW

Business News