मुख्य समाचार:

Modi 2.0: इन 50 शेयरों में निवेश के बने मौके, 1 साल में 73% तक मिल सकता है रिटर्न

मोदी के फिर सत्ता में लौटने के बाद कहां बने निवेश के मौके

May 27, 2019 5:51 PM
Modi 2.0, PM Modi, Where To Invest, Stock Market, Invest In Stocks, Stock Market Return, Brokerage Houses Report On Modi Return, Sensex, NiftyModi के फिर सत्ता में लौटने के बाद कहां बने निवेश के मौके

Where To Invest After Modi 2.0: लोकसभा चुनाव में भारी बहुमत के साथ मोदी सरकार की वापसी का शेयर बाजार एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउसेज ने स्वागत किया है. एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउसेज का मानना है कि क्लीयर मेजॉरिटी मिलने से देश में सरकार अपना रिफॉर्म का एजेंडा जारी रख पाएगी. वहीं चुनाव के पहले देश में जो माहौल बना था, उससे साफ है कि सरकार का फोकस रूरल इकोनॉमी के साथ कंजम्पशन स्टोरी बढ़ाने पर होगा. वहीं आगे देश में इंफ्रा एक्टिविटी जोर पकड़ेगी, वहीं बाजार में लिक्विडिटी बढ़ाने पर भी जोर रहेगा. फिलहाल अगले एक साल में बाजार में शानदार रैली देखी जा सकती है. बाजार में कई शेयर हैं, जिनमें निवेश करने का बेहतर मौका दिख रहा है.

Modi 2.0 पर एक्सपर्ट की राय

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि सबसे अच्छी बात है कि फिर देश में क्लीयर मेजॉरिटी के साथ सरकार आ रही है. सरकार बिना दबाव में काम कर सकती है और पॉलिसी एजेंडे को आगे बढ़ा सकती है. देश में जिस तरह का माहौल बना है, नई सरकार की प्राथमिकता में रूरल रिफॉर्म के साथ कंजम्पशन स्टोरी आगे बढ़ाने पर होगा. ऐसे में आने वाले दिनों में देश में कई रूरल एक्टिविटी देखने को मिल सकती है, वहीं इंफ्रा पर भी काम में तेजी आएगी.

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल का भी मानना है कि गवर्नेंस, रिफॉर्म और पॉलिसी एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए देश में स्टेबल गवर्नमेंट जरूरी थी. इससे देश लॉर्जर इकोनॉमिक रिफॉर्म की ओर बढ़ेगा. नियर टर्म में सरकार रूरल कंजम्पशन, एनबीएफसी इश्यू, कॉरपोरेट अर्निंग और इंडस्ट्रियल ग्रोथ पर फोकस कर सकती है. भारी बहुमत के साथ सरकार आने से स्टेबिलिटी का सेंटीमेंट मजबूत होगा. आने वाले दिनों में एफआईआई और डीआईआई दोनों ही ओर से निवेश में तेजी आएगी.

ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर के CEO PMS अजय बोकडके के अनुसार नई सरकार के सामने इकोनॉमिक फ्रंट पर कई चुनौतियां भी होंगी. कंजम्पशन अभी सुस्त चल रहा है, लिक्विडिटी का इश्यू पूरी तरह से हल नहीं हो पाया है. वहीं प्राइवेट सेक्टर इन्वेस्टमेंट और कमजोर निर्यात भी एक मसला है. फिलहाल नई सरकार का फोकस इन मसलों के साथ रूरल रिफॉर्म, सोश्शल रिफॉर्म, पावर और बैंकिंग सेक्टर पर हो सकता ​है.

कहां तक पहुंचेगा सेंसेक्स-निफ्टी

ब्रोकरेज हाउस मॉर्गन स्टैनले का कहना है कि मोदी सरकार की वापसी से सेंसेक्स जून 2010 तक 45000 का स्तर छू सकता है. वहीं निफ्टी भी 13500 के स्तर की ओर मूव कर जाएगा. ब्रोकरेज का मानना है कि मोदी सरकार बनने के बाद आरबीआई से आगे भी रेट कट की उम्मीद है. इकोनॉमिक रिफॉर्म जारी रहेेंगे और अर्निंग में भी इजाफा देखने को मिलेगा. सरकार का जोर महंगाई, विदेशी निवेश बढ़ाने, इंफ्रा स्पेंडिंग बढ़ाने, मजबूत फॉरेन पॉलिसी के अलावा रूरल इकोनॉमी को बढ़ावा देने और ट्रेड का माहौल बेहतर करने पर रहेगा. इस दौरान ट्रेड वार, क्रूड की कीमतें और यूएस फेड द्वारा कोई कठिन निर्णय बाजार के लिए चिंता बन सकते हैं.

Invest: किन शेयरों में मिलेगा रिटर्न

#प्रभुदास लीलाधर के टॉप पिक्स

source: www.plindia.com

स्मालकैप: KPP IN, VIP IN, NOCIL

#मोतीलाल ओसवाल के टॉप पिक्स

लॉर्जकैप: ICICI बैंक, SBI, मारुति, अल्ट्राटेक, L&T, टाइटन, भारती एयरटेल, कोल इंडिया, इंफोसिस और HDFC Life

मिडकैप: फेडरल बैंक, LIC हाउसिंग फाइनेंस, इंडियन होटल्स, सीमेंस, ABFRL, क्रांपटन कंज्यूमर, अशोक बिल्डकॉन, JSPL और गोदरेज एग्रोवेट

#ब्रोकरेज हाउस CLSA

लॉर्जकैप: ICICI बैंक, Axis बैंक, इंडसइंड बैंक, HDFC, अल्ट्राटेक सीमेंट, RIL, भारती एयरटेल, ONGC और NTPC.

मिडकैप: गोदरेज प्रॉपर्टीज, शोभा, रैमको सीमेंट, लेमन ट्री, हावेल्स इंडिया, एस्ट्रल पॉली, सद्भाव और डॉ लाल पैथलैब

मॉर्गन स्टैनले

एशियन पेंट्स, इंटरग्लोब एविएशन और अडानी पोर्ट

(Discliamer: ये जानकारी हमने एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर दी है. बाजार में जोखिम होते हैं. निवेश के पहले एक्सपर्ट की राय जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Modi 2.0: इन 50 शेयरों में निवेश के बने मौके, 1 साल में 73% तक मिल सकता है रिटर्न

Go to Top